Advertisements
Sunday, May 31, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे गोडसे से रामभक्त गो** तक: बौद्धिक आतंकियों की हिंदुत्व को बदनाम करने की साजिश...

गोडसे से रामभक्त गो** तक: बौद्धिक आतंकियों की हिंदुत्व को बदनाम करने की साजिश हमेशा धराशाई हुई है

शरजील इमाम तो खुद स्वीकार कर चुका है कि वह कट्टर इस्लामी है और देश को इस्लामी मुल्क बना देना चाहता है। लेकिन वैचारिक जिहादियों को यह सब अनदेखा करना होता है। इन वैचारिक उदारवादी आतंकियों को इंतजार सिर्फ किसी रामभक्त गुलशन के बन्दूक लहराते हुए खुदको हिंदूवादी विचारधारा से जुड़ते हुए देखने का था।

ये भी पढ़ें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

तेरे वादे पर जिए हम तो ये जान झूठ जाना, कि ख़ुशी से मर न जाते गर ऐतबार होता।

फैज़-परस्त उदारवादियों पर ग़ालिब का यह शेर एकदम सही बैठता नजर आता है। रामभक्त गुलशन (बदला हुआ नाम) के जामिया में बन्दूक लहराने और सोशल मीडिया पर ‘हिन्दू आतंकवाद’ जैसे शब्दों को ट्रेंड होने में बस कुछ ही पलों का फासला रहा होगा। लेकिन वैचारिक जिहादियों की छटपटाहट ने बंदूकधारी गुलशन के सारे तमाशे को बर्बाद कर दिया।

गुलशन के फायर करने और शादाब के जख्मी होने के इस नाटकीय क्रम के बस आधे घंटे में ही रामभक्त बताए गए इस अल्पवयस्क युवक की सोशल मीडिया से वायरल हुई तस्वीरों और सभी सोशल मीडिया अकाउंट के अचानक गायब हो जाने के खेल ने तस्वीर लगभग स्पष्ट कर दी।

जामिया में कल हुए इस पूरे नाटक के दौरान सबसे ज्यादा आश्चर्य एक अल्पवयस्क के बंदूक उठाकर फायर कर देने में नहीं था, बल्कि इसके बाद सदियों से ‘हिन्दू आतंकवाद’ और ‘हिन्दू कट्टरपंथी’ शब्द गढ़ने के लिए लालायित बौद्धिक दैन्य लिबरल गिरोह की प्रतिक्रिया थी। सत्यान्वेषी पत्रकार रवीश कालजयी मुस्कान लेकर जरा देर से अपने प्राइम टाइम में आए लेकिन इससे पहले ही उनकी घातक टुकड़ियों के सिपहसालार ध्रुव राठी से लेकर शेहला रशीद और स्वरा भास्कर ट्विटर पर गोडसे और गो** में तालमेल बैठाते नजर आए।

यह स्क्रीनशॉट ‘रामभक्त गुलशन’ के जामिया में चर्चा बनने के कुछ देर बाद ही ट्विटर से लिया गया था:

एक घंटे के भीतर ही ट्विटर पर ‘हिन्दू आतंकवाद’ जैसे शब्द ट्रेंड करने लगे। एक लम्बे समय तक देश में विचारधारा के इकलौते मसीहा बने हुए वामपंथ और नव-उदारवादियों ने हमेशा से ही हिन्दुओं को भी एक आतंकवाद का मुखौटा पहनाने का भरसक प्रयास किए हैं।

बुरहान वानी और अफजल गुरु के लिए टेसू बहाने वाले इस विचारक वर्ग ने इस क्रम में कभी गोडसे को कट्टर हिन्दू साबित करने की कोशिशें की तो कभी किसी रामभक्त गुलशन को। लेकिन इस छटपटाहट और इस जल्दबाजी में ये लोग कभी भूल से भी असम को भारत से अलग काट देने की योजना बनाने वाले शाहीन बाग़ के मास्टर माइंड शरजील इमाम को अपनी जुबान से राजद्रोही तक कहते नहीं सुने गए हैं।

दिलचस्प बात यह है कि इसी भीड़ में से आज एक मुहम्मद इलियास नाम के युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिसंबर 13, 2019 को जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के पास के क्षेत्र में हुई हिंसा मामले में इलियास की गिरफ्तारी हुई है। कायदे से तो बौद्धिक आतंकवादियों को आज ‘इस्लामी आतंकवाद’ जैसे शब्दों को ट्रेंड करवाना चाहिए, क्योंकि वह तो स्वयं को सेकुलर उदारवादी ही महसूस करते आए हैं, तो फिर इलियास के नाम पर यह चुप्पी क्या साबित करती है? या फिर हो सकता है कि अपनी जान का खतरा उन्हें एक सुरक्षित ‘अल्पसंख्यक विचारधारा’ की तरफ होने के लिए मजबूर करता हो, वरना विचारकों की तो कोई सीमा ही नहीं होनी चाहिए।

इन बौद्धिक आतंकवादियों ने मौका मिलते ही हिन्दुओं के प्रतीक चिन्हों को अपमानित किया है। कश्मीर में सेना पर पत्थरबाजी कर रहे ‘युवा’ इनकी नजरों में मासूम और भटके हुए हुआ करते हैं। जितनी जल्दबाजी और तत्परता रामभक्त गुलशन को हिन्दू आतंकवादी कहने में दिखाई गई है, उसी तत्परता से सेना पर बन्दूक तानने वाले और पत्थरबाजी करने वाले इन समुदाय विशेष के युवाओं को कभी इस्लामिक आतंकी नहीं कहा गया।

शाहीन बाग़ इसका सबसे ताजा उदाहरण बनकर सामने आया है। शाहीन बाग़ में खुलेआम पत्रकारों की ‘लिंचिंग’ की जा रही हैं, जनता, सत्ता और सेना के खिलाफ खुले में भड़काऊ भाषणबाजी करते हुए बुर्के और लाल दाढ़ी वाले लोग देखे जा रहे हैं। शरजील इमाम तो खुद स्वीकार कर चुका है कि वह कट्टर इस्लामी है और देश को इस्लामी मुल्क बना देना चाहता है। लेकिन वैचारिक जिहादियों को यह सब अनदेखा करना होता है। इन वैचारिक उदारवादी आतंकियों को इंतजार सिर्फ किसी रामभक्त गुलशन के बन्दूक लहराते हुए खुदको हिंदूवादी विचारधारा से जुड़ते हुए देखने का था।

अगर ऐसा न होता तो सत्यान्वेषी पत्रकार रवीश कुमार इस घटना की शाम हुए प्राइम टाइम में उस विजयी मुस्कान के साथ न देखे जाते। यह बौड़म और पाखंडी बौद्धिक उदारवादी आतंकी एक अल्पवयस्क को बन्दूक फायर करते हुए देखकर सिर्फ इसलिए ‘हें हें हें’ की हंसी हँसता है क्योंकि उसे अपना नायक मिल चुका है।

एक नजर रामभक्त गुलशन पर प्राइम टाइम पढ़ते हुए सत्यान्वेषी पत्रकार की ऐतिहासिक विजयी मुस्कान पर जरूर डालें-

यह लिबरल पत्रकार और वामपंथी विचारधारा का ‘कैसेनोवा’ जिस जहर को रामभक्त गुलशन के बन्दूक उठाने के लिए जिम्मेदार बताता नजर आया है, वह जहर तो सत्यान्वेषी पत्रकार रोजाना 9 से 10 अपने प्राइम टाइम में अनुलोम-विलोम में छोड़ते और ग्रहण करते हैं। यही वजह है कि उम्र के साथ झुर्रियों की जगह दर्रे देखने को मिल रहे हैं।

देश के इस पाखंडी उदारवादी गिरोह की हिन्दू आतंकवाद जैसे शब्दों को गढ़ने से पहले वर्षों तक अभी आत्म चिंतन की आवश्यकता है। उसे यह तय करना होगा कि उसका पहला लक्ष्य आज़ादी है या फिर शाहीन बाग की नाकामयाबी को छुपाना। क्योंकि शाहीन बाग़ को जिस अरमानों से सजाया गया था उसकी इमारते जर्जर होकर बिखरने लगी हैं। इस शाहीन बाग़ के इस्लामी एजेंडे का मकसद कभी शरजील तो कभी कुदरती खाने की दुहाई देता हुआ CAA-विरोधी प्रदर्शनकारी साबित करते जा रहा है।

‘हिन्दू आतंकवाद’ को साबित करने से पहले बस एक बार स्वयं से यह जरूर पूछिए कि शाहीन बाग़ में जो कुछ भी चल रहा है वो संविधान की किताब के मुताबिक़ है या फिर किसी आसमानी किताब के अनुसार उसकी रूपरेखा तय हुई है? यदि इसका जवाब मिलने पर आपका विवेक, जो कि यूँ तो कब का मर चुका है, लेकिन फिर भी अगर गवाही दे कि वह सब सेक्युलर है तो हिन्दू आतंकवाद की ओर जरूर आगे बढ़ें।

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

मेरठ से दबोचा गया खालिस्तानी आतंकी तीरथ सिंह, सीमा पार से गोला-बारूद लाने के लिए हथियार तस्कर से जुड़ा था

उत्तरप्रदेश एटीएस और पंजाब पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने ज्वाइंट ऑपरेशन में मेरठ से खालिस्तानी आतंकवादी तीरथ सिंह को गिरफ्तार किया।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने आम की चटनी के साथ बनाया समोसा, PM मोदी ने कहा- कोरोना पर जीत के बाद साथ लेंगे आनंद

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने रविवार को आम की चटनी के साथ समोसे का स्वाद लिया। उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को याद किया।

‘ईद पर गोहत्या, विरोध करने पर 4 लोगों को मारा’ – चतरा में हिन्दुओं का आरोप, झारखंड पुलिस ने बताया अफवाह

झारखंड के चतरा में हिन्दुओं ने मुसलमानों पर हमला करने का आरोप लगाया। कारण - ईद पर गोहत्या का विरोध करने को लेकर...

कल-पुर्जा बनाने के नाम पर लिया दो मंजिला मकान, चला रहे थे हथियारों की फैक्ट्री: इसरार, आरिफ सहित 5 गिरफ्तार

बंगाल एसटीएफ ने एक हथियार फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। पॉंच लोगों को गिरफ्तार किया है। करीब 350 अर्द्धनिर्मित हथियार बरामद किए हैं।

मुंबई में बेटे ने बुजुर्ग माँ को पीटकर घर से निकाला, रेलवे अधिकारियों ने छोटे बेटे के पास दिल्ली भेजने की व्यवस्था की

लॉकडाउन के बीच मुंबई से एक बेहद असंवेदनशील घटना सामने आई है। एक बेटे ने अपनी 68 वर्षीय माँ को मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया।

MLA विजय चौरे ने PM मोदी को दी गाली, भाई के साथ किसानों को धमकाया: BJP ने कहा- कॉन्ग्रेस का संस्कार दिखाया

विजय चौरे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के क्षेत्र छिंदवाड़ा के सौसर से विधायक हैं। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

चीन के खिलाफ जंग में उतरे ‘3 इडियट्स’ के असली हीरो सोनम वांगचुक, कहा- स्वदेशी अपनाकर दें करारा जवाब

"सारी दुनिया साथ आए और इतने बड़े स्तर पर चीनी व्यापार का बायकॉट हो, कि चीन को जिसका सबसे बड़ा डर था वही हो, यानी कि उसकी अर्थव्यवस्था डगमगाए और उसकी जनता रोष में आए, विरोध और तख्तापलट और...."

जिस महिला अधिकारी से सपा MLA अबू आजमी ने की बदसलूकी, उसका उद्धव सरकार ने कर दिया ट्रांसफर

पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा का ट्रांसफर कर दिया गया है। नागपाड़ा पुलिस स्टेशन की इंस्पेक्टर शालिनी शर्मा के साथ अबू आजमी के बदसलूकी का वीडियो सामने आया था।

‘TikTok हटाने से चीन लद्दाख में कब्जाई जमीन वापस कर देगा’ – मिलिंद सोमन पर भड़के उमर अब्दुल्ला

मिलिंद सोमन ने TikTok हटा दिया। अरशद वारसी ने भी चीनी प्रोडक्ट्स का बॉयकॉट किया। उमर अब्दुल्ला, कुछ पाकिस्तानियों को ये पसंद नहीं आया और...

POK में ऐतिहासिक बौद्ध धरोहरों पर उकेर दिए पाकिस्तानी झंडे, तालिबान पहले ही कर चुका है बौद्ध प्रतिमाओं को नष्ट

POK में बौद्ध शिलाओं और कलाकृतियों को नुकसान पहुँचाते हुए उन पर पाकिस्तान के झंडे उकेर दिए गए हैं।

हमसे जुड़ें

210,044FansLike
60,894FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements