Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजआतंकियों की टारगेट किलिंग से परेशान जम्मू के हिंदुओं ने निकाली पुरानी बंदूकें, निशाना...

आतंकियों की टारगेट किलिंग से परेशान जम्मू के हिंदुओं ने निकाली पुरानी बंदूकें, निशाना साधने की कर रहे प्रैक्टिस: 20 साल पहले पुलिस ने दिए थे 71 हथियार

5000 हिंदू और 2100 मुस्लिम जनसंख्या की मिश्रित आबादी वाले इस गाँव में उस दौरान आतंकियों को रोकने के लिए विलेज डिफेंस कमेटी बनी थी। उस दौरान 71 लोगों को बंदूक और राइफल दी गई थीं।

जम्मू-कश्मीर में इस्लामी आतंकियों द्वारा गैर-मुस्लिम लोगों को निशाना बनाने की बढ़ती घटनाओं के बाद लोगों ने अपनी सुरक्षा की तैयारी करनी शुरू कर दी है। स्थानीय हिंदू और सिख अपने 20 साल पुराने हथियार निकाल लिए हैं और निशाना लगाने का अभ्यास कर रहे हैं।

जम्मू के राजौरी का अपर डांगरी गाँव जम्मू-कश्मीर में मिसाल के तौर पर उभर रहा है। हिंदुओं ने टारगेटेड आतंकी हमलों का जवाब देने की तैयारी कर ली है। गाँव के लोगों ने 71 राइफलें निकाल ली हैं। ये हथियार 20 साल पहले पुलिस ने इन्हें सुरक्षा के लिए दिया था।

जम्मू से करीब 150 किलोमीटर दूर बसे इस गाँव में 1 जनवरी 2023 को दो अनजान लोग घुस आए और लोगों से पूछ-पूछकर गोली मारी थी। एके-47 से किए गए इस हमले में 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि उनके द्वारा लगाए IED ब्लास्ट से दो और बच्चों की मौत हो गई थी।

इस दौरान गाँव के ही रहने वाले बालकृष्ण शर्मा ने आतंकियों पर फायरिंग की थी। इसके बाद आतंकी भागने को मजबूर हुए थे। बालकृष्ण को उन लोगों में से एक हैं, जिन्हें पुलिस ने 1998 से 2001 के बीच सुरक्षा के लिए हथियार दिए थे।

भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, 5000 हिंदू और 2100 मुस्लिम जनसंख्या की मिश्रित आबादी वाले इस गाँव में उस दौरान आतंकियों को रोकने के लिए विलेज डिफेंस कमेटी बनी थी। उस दौरान 71 लोगों को बंदूक और राइफल दी गई थीं।

1 जनवरी को हुए हमले के बाद गाँव के लोगों में गुस्सा है। वे अपने लोगों की मौत से विचलित हैं और आतंकियों से बदला लेना चाहते हैं। आगे इस तरह के हमले ना हों, इसलिए गाँव के लोग निशाना लगाने की लगातार प्रैक्टिस कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -