Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजईसाई बन जाओ, सब तकलीफ खत्म… 11 साल पहले पादरियों ने ऐसे किया था...

ईसाई बन जाओ, सब तकलीफ खत्म… 11 साल पहले पादरियों ने ऐसे किया था गुमराह, अब एक ही परिवार के 13 लोगों की घरवापसी

राजेश के घर वाले अक्सर बीमार रहा करते थे। तब उससे ईसाई समुदाय के कुछ लोग मिले। उन लोगों ने बीमारी का इलाज पादरियों के पास बताया। फिर पूरे परिवार को ईसाई मत कबूल करवाया।

झारखंड के लोहरदगा में इसी माह बुधवार (1 फरवरी 2023) को एक ही परिवार के 13 सदस्यों ने ईसाई धर्म त्याग कर सरना धर्म में घरवापसी कर ली। इन सभी ने पादरियों द्वारा खुद को गुमराह करने और अन्धविश्वास सिखाने का आरोप लगाया। साल 2012 में ईसाई मत अपनाने को इस परिवार ने अपनी बड़ी भूल बताते हुए सरना धर्म को ही बेहतर कहा। इन सभी की घरवापसी विधि-विधान से हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह मामला लोहरदगा जिला के सेन्हा प्रखंड क्षेत्र में आने वाली मुर्की तोड़ार पंचायत का है। यहाँ के तोड़ार मैना टोली में राजेश खलखो अपने परिवार के साथ रहता है। राजेश का कहना है कि उनके घर वाले अक्सर बीमार रहा करते थे। इस बीमारी के चलते उनका परिवार समाज से अलग-थलग हो रहा था क्योंकि अन्य घरों के लोग उनके परिवार से दूरी बना रहे थे। राजेश का कहना है कि वो बीमारी से बचने के लिए झाड़-फूँक का सहारा लिया करते थे।

जानकारी के मुताबिक साल 2012 के ही दौरान उन्हें ईसाई समुदाय के कुछ लोग मिले। उन लोगों ने राजेश के परिवार की बीमारी का इलाज पादरियों के पास बताया। राजेश उनकी बातों में आ गया और अपने घर वालों को ठीक करने की मिन्नत की। कुछ समय बाद राजेश के घर पर पादरी बुलाए गए। उन सभी ने धीरे-धीरे राजेश को बहका दिया और बाद में राजेश ने पूरे परिवार के साथ ईसाई मत कबूल लिया। पादरियों का दावा था कि ऐसा करने से उसकी तमाम तकलीफों का अंत हो जाएगा।

राजेश का कहना है कि उसने पादरियों द्वारा बताए गए तमाम क्रियाकलाप किए लेकिन उसकी मुसीबतें जस की तस बनी रहीं। कुछ समय बाद ही राजेश को लगने लगा कि उन्हें गुमराह किया गया है। उन्हें अपना मूल धर्म सरना ही बेहतर लगने लगा और उन्होंने पड़हा बेल के आगे अपनी घरवापसी की इच्छा जताई। राजेश और उनके घर वालों के इस आवेदन को स्वीकार कर लिया गया। सरना समाज के पड़हा बेल दीपेश्वर भगत के मुताबिक गाँव में ही पाहन-पूजार करके राजेश के परिवार के 13 सदस्यों को वापस सरना धर्म में शामिल किया गया।

इस दौरान राजेश और उनके परिवार वालों ने संकल्प लिया कि भविष्य में वो दुबारा किसी के भी बहकावे में नहीं आएँगे और अपने मूल धर्म को ही सर्वोत्तम मानेंगे। घर वापसी करने वालों के नाम राजेश खलखो, सुखराम उरांव, सरिता खलखो, सुरजी उरांव, हीरा खलखो, मिनी खलखो, चंद्रदेव खलखो, राजू खलखो, सोनाली खलखो, अमन खलखो, सचिन खलखो और प्रीति खलखो हैं। इसमें सुखराम का भी कहना है कि उन्हें अन्धविश्वास दिखा कर पादरियों ने भटका दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -