Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजमेरी प्रोफाइल फोटो से न्यूड पिक बनाकर गंदे मीम्स बनाते हैं: काजल ने खोली...

मेरी प्रोफाइल फोटो से न्यूड पिक बनाकर गंदे मीम्स बनाते हैं: काजल ने खोली भीम आर्मी के रावण की पोल ​

काजल ने बताया कि जिग्नेश मेवाणी और रावण जैसे लोगों की हरकतों को देखकर तो ऐसा लगता है कि ये लोग 24 घंटे पोर्न देखते होंगे। इसलिए हर एक महिला को ये गंदी नजर से देखते हैं। मेरे लिए 'बिस्तर गर्म' करने जैसे शब्दों को पढ़कर लगता है कि ये लोग कितने कुंठित हैं। इनके अंदर भरी गंदगी को कोई भी कर्मचारी साफ नहीं कर सकता।

भीम आर्मी का मुखिया चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण सोशल मीडिया में महिलाओं के लिए कितनी गंदी भाषा का इस्तेमाल करता है, इस पर एक रिपोर्ट हमने कल प्रकाशित की थी। लड़कियों के ट्वीट्स के नीचे रेप की बात, वेश्या कहना, जिस्म बेचने वाली कहना आदि पतितों वाली बातें लिखना उसकी हॉबी है।

रावण हर महिला के लिए इसी तरह की गंदी जुबान का इस्तेमाल करता है। जो महिलाएँ अक्सर उसके निशाने पर रहती हैं, उनमें से एक नाम वीडियो ब्लॉगर काजल हिंदुस्तानी का है। रावण के घटिया, अश्लील और गाली भरे ट्वीट्स को ले कर काजल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऑपइंडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने ऑपइंडिया हिंदी के संपादक अजीत भारती के सवालों का विस्तार से जवाब दिया और रावण के करतूतों की पोल खोली।

गुजरात से आने वाली काजल हिंदुस्तानी ने बताया कि 2017 के विधानसभा चुनावों में विपक्षी दलों ने ‘विकास गांडो थायो छे’ का नारा दिया था। इसका मतलब होता है कि गुजरात में विकास पागल हो गया। गुजराती होने के नाते यह मुझे बुरा लगा तो मैंने इसके जवाब में कुछ आँकड़ों के साथ एक वीडियो बनाया। वह इतना वायरल हुआ कि उसे 7-8 मिलियन व्यू मिले। इस वीडियो के वायरल होते ही इनका नारा फेल हो गया।

इसके बाद से ही गुजरात का स्वयंभू दलित नेता जिग्नेश मेवाणी गैंग और चन्द्रशेखर का गैंग मैरे पीछे पड़ गया। 2017 के बाद तो रावण ने मुझे इतना परेशान कर दिया कि वह मुझे लाइन चैटिंग करता था। मेरी हर पोस्ट पर कमेंट करता था। लेकिन मैंने कभी उसके कभी जवाब नहीं दिया, क्योंकि वह इस लायक नहीं था। रावण ने एक- डेढ़ साल तक मुझे लगातार परेशान किया। उसने मेरे बच्चों के बारे में भी पता कर लिया।

अजीत भारती के साथ काजल हिंदुस्तानी की पूरी बातचीत सुनें

काजल ने आगे बताया कि जिग्नेश मेवाणी और रावण जैसे लोगों की हरकतों को देखकर तो ऐसा लगता है कि ये लोग 24 घंटे पोर्न देखते होंगे। इसलिए हर एक महिला को ये गंदी नजर से देखते हैं। मेरे लिए ‘बिस्तर गर्म’ करने जैसे शब्दों को पढ़कर लगता है कि ये लोग कितने कुंठित हैं। इनके अंदर भरी गंदगी को कोई भी कर्मचारी साफ नहीं कर सकता।

काजल ने बताया कि रावण ने उनके लिए इतने अश्लील शब्दों का प्रयोग किया कि वह बता भी नहीं सकतीं। लेकिन बीते दिनों रावण द्वारा उन पर किए गए सभी कमेंट सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। उन्होंने कहा मैं उन सभी भाई-बहनों का शुक्रिया अदा करूँगी जिन्होंने मेरा सपोर्ट किया। मुझे भारतीय महिला होने पर गर्व है। मुझे खुशी है कि इस मामले में सहारनपुर पुलिस और महिला आयोग ने एक्शन लिया है।

काजल आगे सवालों का जवाब देते हुए बताती हैं कि ये जो भीम-मीम वाले लोग हैं वे उनकी प्रोफाइल से फोटो निकालकर न्यूड पिक बनाकर गंदे मीम्स बनाते हैं। इन्हें देखकर कोई भी महिला सुसाइड कर सकती है। चौंकाने वाली बात यह है कि ऐसे लोगों के अकाउंट्स को ट्विटर वेरीफाइ करता है।

अपने नाम के पीछे हिंदुस्तानी लगाने को लेकर काजल ने बताया कि गुजरात में 2017 में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान उन्हें जिग्नेश मेवाणी वगैरह ने ब्राह्मण होने को लेकर बहुत टार्गेट किया था। इसके बाद उन्होंने अपने नाम के पीछे हिंदुस्तानी लगा लिया, जिससे कि समाज में कोई जाति को लेकर द्वेष पैदा न हो और जातिवाद की राजनीति समाप्त हो।

आपको बता दें कि भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर उर्फ रावण के कुछ पुराने ट्वीट सामने आए थे। इनमें से हरेक में एक बात कॉमन है कि वह महिलाओं को भद्दी गालियॉं दे रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मनमोहन सिंह ने की थी मनमर्जी, मुसलमान स्पेशल क्लास नहीं’: सुप्रीम कोर्ट में सच्चर कमेटी की सिफारिशों को चुनौती

सुप्रीम कोर्ट में सच्चर कमेटी की सिफारिशों को लागू करने को चुनौती दी गई है। याचिका 'सनातन वैदिक धर्म' नामक संगठन के छह अनुयायियों ने दायर की है।

‘2 से अधिक बच्चे तो छीन लें आरक्षण और वोटिंग का अधिकार’: UP के जनसंख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में 97% लोग

जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर उत्तर प्रदेश विधि आयोग को मिले सुझाव में से ज्यादातर में सख्त कानून का समर्थन किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,994FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe