Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजशिव तांडव स्त्रोत' वाले video से चर्चा में आए संत कालीचरण पर छत्तीसगढ़ में...

शिव तांडव स्त्रोत’ वाले video से चर्चा में आए संत कालीचरण पर छत्तीसगढ़ में FIR: ‘धर्म संसद’ में आपत्तिजनक टिप्पणी का आरोप

धर्मसंसद की वीडियो वायरल होने के बाद संत कालीचरण के खिलाफ छत्तीसगढ़ में ही टिकरापारा क्षेत्र में धारा 505(2), 294 IPC के तहत मामला दर्ज किया जा चुका है।

छत्तीसगढ़ में संत कालीचरण महाराज के विरुद्द केस दर्ज किया गया है। आरोप है कि उन्होंने महात्मा गाँधी को लेकर एक धर्म संसद में अपमानजनक बातें कहीं। ये धर्म संसद 26 दिसंबर 2021 को रायपुर के रावण भाटा मैदान में आयोजित की गई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने मोहनदास करमचंद गाँधी का नाम लेकर उनकी हत्या का जायज ठहराया। साथ ही गोडसे को नमन किया। कथिततौर पर उन्होंने मंच से कॉन्ग्रेस नेताओं की आलोचना करते हुए हिंदू नेता चुनने की बात भी श्रोताओं से कही। इसके अलावा उन्होंने इस्लाम को लेकर कहा कि इस्लाम का मकसद  राजनीति के जरिए देश पर कब्जा करने का है।

इस धर्मसंसद की वीडियो वायरल होने के बाद संत कालीचरण के खिलाफ छत्तीसगढ़ में ही टिकरापारा क्षेत्र में धारा 505(2), 294 IPC के तहत मामला दर्ज किया जा चुका है। ये शिकायत रायपुर के पूर्व महापौर और वर्तमान सभापति प्रमोद दुबे ने कराई है।

बता दें कि महात्मा गाँधी पर टिप्पणी करने के बाद संत कालीचरण के ख़िलाफ़़ कड़ी कार्रवाई की माँग की जा रही है। कई नेता उनके विरोध में ट्वीट कर रहे हैं। राहुल गाँधी ने भी आज महात्मा गाँधी का एक कोट शेयर किया है। आम आदमी पार्टी राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी वीडियो देख पीएम मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने पूछा है ये कि कौन है जो राष्ट्रपिता को गाली दे रहा है? मोदी जी इस पर कुछ बोलेंगे या दिल से माफ नहीं कर पाएँगे।

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष जुलाई माह के आसपास ही कालीचरण द्वारा गाया गया शिव तांडव स्त्रोत वायरल हुआ था। उस समय जगह-जगह उनकी वीडियो शेयर करके उनकी काफी सराहना हुई थी। बाद में उनकी आवाज में कई स्त्रोतों का पाठ किया गया। हालाँकि, अब एक साल बाद गाँधी पर टिप्पणी करने के कारण उनपर केस हो रहे हैं। कथिततौर पर उसी मंच पर महंत राम सुंदर ने भी उनका विरोध किया और ताली बजाने वालों से सवाल किया क्या गाँधी ‘गद्दार थे?’ हर$#^ थे? इन टिप्पणियों को सुनने के बाद महंत राम सुंदर ने खुद को इस धर्म संसद से अलग भी कर लिया, जिसके चलते उनकी काफी तारीफें हो रही हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -