Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजलड़कियों का टेरर गैंग बनाने का था प्लान, कन्हैया लाल अकेले नहीं थे टारगेट:...

लड़कियों का टेरर गैंग बनाने का था प्लान, कन्हैया लाल अकेले नहीं थे टारगेट: यूट्यूब-फेसबुक पर लाइव ‘सिर तन से जुदा’ करने का था इरादा

NIA की चार्जशीट के मुताबिक उदयपुर के कुछ और लोग भी टारगेट पर थे। इनमें नितिन जैन, यश पनेरी, लव कुशवाहा, और नवीन प्रजापति के नाम सामने आए हैं। एक ऑडियो मैसेज में रियाज़ ने कहा था कि इंशाअल्लाह आगे भी सिर कलम होते रहेंगे।

कन्हैया लाल हत्याकांड में दायर NIA चार्जशीट से चौंकाने वाले तथ्य सामने आए है। इससे पता चलता है कि आतंकियों का इरादा यूट्यूब और फेसबुक पर कन्हैया लाल की हत्या का लाइव करने का इरादा था। वे लड़कियों का भी एक टेरर गैंग बनाना चाहते थे। राजस्थान के उदयपुर में 28 जून 2022 को कन्हैया लाल का गला उनकी दुकान में घुसकर रेत दिया गया था।

दैनिक भास्कर के मुताबिक कन्हैया लाल का गला रेतने में शामिल रहा रियाज़ अत्तारी अपनी आतंकी गैंग में लड़कियों को शामिल करना चाहता था। पाकिस्तानियों से भरे ‘लब्बैक या रसूलल्लाह’ व्हाट्सएप ग्रुप में उसने अपनी मंशा जाहिर की थी। उसने एक वीडियो बनाकर कहा था, “अली के लाल उतरे है मैदान में, अब अली की शहजादिया भी उतर गई माशाअल्लाह।” NIA को यह वीडियो रियाज़ के मोबाइल से भी मिला।

NIA की चार्जशीट में यह भी बताया गया है कि कन्हैया लाल के अलावा कई अन्य लोग भी इनके निशाने पर थे। ये सभी उदयपुर के ही रहने वाले थे। इनमें नितिन जैन, यश पनेरी, लव कुशवाहा, और नवीन प्रजापति के नाम सामने आए हैं। एक ऑडियो मैसेज में रियाज़ ने कहा था कि इंशाअल्लाह आगे भी सिर कलम होते रहेंगे।

कत्ल को सोशल मीडिया पर LIVE करने का प्लान

NIA की चार्जशीट में इस बात का भी जिक्र है कि रियाज़ अत्तारी और उसका गैंग नूपुर शर्मा के समर्थकों का सिर काटने के लिए पूरी तैयारी कर रहा था। इसी तैयारी में रियाज़ द्वारा एक वीडियो मुस्कराते हुए छुरे की धार तेज करते बनाया गया था। दावा इस बात का भी किया गया है कि कन्हैया लाल की हत्या की साजिश में शामिल मोहसिन नाम के एक अन्य व्यक्ति को कत्ल का वीडियो सोशल मीडिया पर LIVE करने को बोला गया था। हत्या को यूट्यूब पर LIVE करने की जिम्मेदारी इदरीश को मिली थी। हालाँकि किसी वजह से ये दोनों ऐसा नहीं कर पाए थे।

गौरतलब है कि कन्हैयालाल की हत्या के लिए बनी आतंकी गैंग में चूड़ी, चश्मे, बुटीक, चिकन आदि से जुड़े व्यापारी शामिल थे। इसमें से कई कन्हैयालाल के घर और दुकान के पड़ोसी थे, जिन्होंने लगातार उनकी रेकी की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -