Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजबाबा बिरयानी वाले मुख्तार के बेटे उमर ने बुलाए थे कानपुर हिंसा के लिए...

बाबा बिरयानी वाले मुख्तार के बेटे उमर ने बुलाए थे कानपुर हिंसा के लिए हथियारों से लैस गुंडे, बिल्डर वसी के साथ रची पूरी प्लानिंग: रिपोर्ट

हयात जफ़र के साथ इस पूरी साजिश में मोहम्मद सूफियान, इखलाक, निजाम, मोहम्मद राहिल और मोहम्मद जावेद शामिल थे। पथराव का स्थान और समय सब पहले से ही तय था।

उत्तर प्रदेश (UP) के कानपुर में 3 जून, 2022 को जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। इसके मुताबिक हिंसा की शुरुआत बेकनगंज से न होकर पेंचबाग़ से हुई थी। बाबा बिरयानी वाले मुख़्तार और बिल्डर हाजी वसी ने पूरी हिंसा की प्लानिंग की थी। हयात जफर और डीटू गैंग को इनसे ही निर्देश मिल रहे थे। हिंसा के बाद मुख़्तार और वसी गायब हो गए थे।

हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक यह खुलासा कोर्ट में इंस्पेक्टर जैनेन्द्र सिंह तोमर द्वारा पेश की गई केस डायरी से हुआ है। जैनेन्द्र सिंह तोमर फ़िलहाल चमनगंज थाने के SHO हैं। केस डायरी के मुताबिक पहले पेंचबाग़ में पथराव हुआ जो बाद में नई सड़क और दादामियां चौराहे तक फ़ैल गया। बाबा बिरयानी का मालिक मुख्तार बाबा और बिल्डर मोहम्मद वसी हिंसक भीड़ के पीछे से हालात पर नजर रखे हुए थे। इन्ही के इशारे पर हयात जफ़र ने पुलिस को शांति का झूठा आश्वासन दिया था।

केस डायरी में बताया गया है कि हयात जफ़र के साथ इस पूरी साजिश में मोहम्मद सूफियान, इखलाक, निजाम, मोहम्मद राहिल और मोहम्मद जावेद शामिल थे। पथराव का स्थान और समय सब पहले से ही तय था। मुख़्तार के बेटे उमर ने हिंसा को भड़काने के लिए भाड़े के गुंडे बुलाए थे। ये गुंडे हथियारों से लैस थे जिन्होंने न सिर्फ पत्थर फेंके, बल्कि पेट्रोल बम का भी इस्तेमाल किया। हिंसक भीड़ को अफजाल, बशीर और बाबर लीड कर रहे थे। अफ़ज़ाल की भूमिका गुंडों को बुलाने में भी थी।

ध्वस्त होंगी बिल्डर वसी की अवैध इमारतें

उधर कानपुर प्रशासन हिंसा के मास्टरमाइंड हाजी वसी की अवैध इमारतें गिराने की तैयारी कर रहा है। हालाँकि प्रशासन ने इस अभियान की तारीख का खुलासा नहीं किया है। कानपुर विकास प्राधिकरण के मुताबिक वसी की 16 अवैध इमारतों को गिराया जाएगा, जिसमें 10 दुकानें हैं। इन इमारतों में 5 और 7 मंजिला तक के मकान भी हैं। हाजी वसी के साथ उसके बेटे हमजा और सहयोगी आदिल को भी इस बावत प्रशासन द्वारा नोटिस जारी किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -