Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजकेरल के पुलिसकर्मी पीके अनस ने इस्लामी कट्टरपंथी संगठन SDPI से साझा की RSS...

केरल के पुलिसकर्मी पीके अनस ने इस्लामी कट्टरपंथी संगठन SDPI से साझा की RSS कार्यकर्ताओं की निजी जानकारी, सस्पेंड

बस कंडक्टर पर हमले के मामले में SDPI कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद यह जानकारी सामने आई थी कि CPO पीके अनस उनके संपर्क में था। इसके बाद CPO अनस का इडुक्की मुख्यालय में ट्रांसफर कर दिया गया था, लेकिन आज...

केरल पुलिस के एक सिविल पुलिस अधिकारी पीके अनस को पुलिस डेटाबेस से आरएसएस (RSS) कार्यकर्ताओं की संवेदनशील और निजी जानकारी सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के कार्यकर्ताओं को लीक करने के आरोप में सस्पेंड कर दिया गया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, करीमन्नूर पुलिस स्टेशन के सीपीओ (Civil Police Officer) पीके अनस को बुधवार (29 दिसंबर 2021) को एक आंतरिक जाँच के बाद सस्पेंड कर दिया गया। जाँच में पाया गया है कि अनस ने PFI के इस्लामी कट्टरपंथी संगठन SDPI के प्राइवेट चैट ग्रुप में आरएसएस कार्यकर्ताओं की संवेदनशील जानकारी साझा की थी।

बस कंडक्टर पर हमले के मामले में SDPI कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद यह जानकारी सामने आई थी कि CPO पीके अनस उनके संपर्क में था। इसके बाद CPO अनस का इडुक्की मुख्यालय में ट्रांसफर कर दिया गया था, लेकिन आज विस्तृत जाँच में आरोपों की पुष्टि होने के बाद उसे केरल पुलिस बल से सस्पेंड कर दिया गया।

साभार: टाइम्स नाउ

मालूम हो कि एसडीपीआई के 6 कार्यकर्ताओं ने 2 दिसंबर 2021 को इडुक्की जिले के थोडुपुझा में मधुसूदन नाम के एक बस कंडक्टर के साथ मारपीट की थी। एसडीपीआई हमलावरों ने मधुसूदन पर फेसबुक पर सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील पोस्ट शेयर करने का आरोप लगाया था। जिला पुलिस प्रमुख आर विश्वनाथ ने मीडियाकर्मियों को बताया कि बस कंडक्टर के साथ मारपीट मामले में गिरफ्तार एसडीपीआई कार्यकर्ताओं में से एक सीधे तौर पर हत्या में शामिल है। उसने एक व्यक्ति को तलवार से काट दिया था।

बता दें कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या छह हो गई है, जिसमें दो पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के सदस्य भी शामिल हैं। एसडीपीआई पीएफआई का राजनीतिक मोर्चा है, जो एक प्रतिबंधित संगठन है। पीएफआई का हिंसा करने का काफी पुराना इतिहास है। नागरिकता संशोधन अधिनियम के मद्देनजर हिंदू विरोधी दिल्ली दंगों और देश भर में हिंसा की जाँच के दौरान, पीएफआई की भूमिका संदिग्ध रही है और पीएफआई के कई सदस्यों को दंगों में शामिल होने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -