Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती यूनिवर्सिटी में छात्रों को छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती मनाने की...

ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती यूनिवर्सिटी में छात्रों को छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती मनाने की अनुमति नहीं: वार्डन आजम ने हटवा दी फोटो, वीडियो आया सामने

छात्रों ने हॉस्टल वार्डन आजम अंसारी के रवैये पर नाराजगी जताते हुए कहा कि जयंती मनाने से रोकना बेहद शर्मनाक है। वार्डन को शिवाजी द्वारा देश के लिए किए गए कामों और उनके महत्व को समझना चाहिए।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती विश्विद्यालय में छत्रपति शिवाजी की जयंती मनाने से रोका गया है। छात्रों का आरोप है कि हॉस्टल वार्डन आजम अंसारी ने जबरन फोटो हटवाई। वहीं, विश्विद्यालय प्रबंधन का कहना है कि शिवाजी जयंती मनाने के लिए अनुमति नहीं ली गई थी। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है।

ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती विश्विद्यालय के छात्रों का कहना है कि उन्हें देश के महापुरुषों की जयंती नहीं मनाने दी जा रही। उन्होंने कहा कि शिवाजी ने मुगलों के खिलाफ लड़ाइयाँ लड़ीं, उन्होंने अपना पूरा जीवन देश के लिए लड़ते हुए बिता दिया। शिवाजी देश के प्रत्येक युवा के लिए आदर्श हैं।

छात्रों ने आगे कहा है कि उन्होंने सिर्फ शिवाजी की फोटो पर माला पहनाने का कार्यक्रम आयोजित किया था। लेकिन इसके बाद भी उन्हें रोका गया। इस मामले को बेवजह ही तूल दिया गया। छात्रों का आरोप है कि शिवाजी की जयंती मनाने पर विश्विद्यालय ने नोटिस देने की चेतावनी दी है।

यही नहीं, छात्रों ने हॉस्टल वार्डन आजम अंसारी के रवैये पर नाराजगी जताते हुए कहा कि जयंती मनाने से रोकना बेहद शर्मनाक है। वार्डन को शिवाजी द्वारा देश के लिए किए गए कामों और उनके महत्व को समझना चाहिए। छात्रों का आरोप है कि शिवाजी के बारे में कुछ भी जाने बिना ही वार्डन ने हॉस्टल परिसर में लगी शिवाजी की फोटो जबरन हटवा दी।

इस मामले का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। वीडियो में हॉस्टल वार्डन आजम अंसारी छात्रों को शिवाजी की जयंती मनाने से रोकते हुए नजर आ रहे हैं। अंसारी ने पहले तो छात्रों से कहा कि जयंती मनाना है तो अनुमति लेनी पड़ेगी। लेकिन जब छात्रों ने उनसे पूछा कि अनुमति मिलेगी तो उन्होंने कहा कि इसके लिए (शिवाजी की जयंती मनाने के लिए) अनुमति बिल्कुल नहीं मिलेगी। यही नहीं, वीडियो में वार्डन को यह कहते हुए भी सुना जा सकता है कि जयंती मनानी है तो बाहर जाकर मंदिर में मनाओ।

वहीं, शिवाजी की जयंती मनाने को लेकर शुरू हुए विवाद को बढ़ता देख विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर नीरज शुक्ला ने मौके पर पहुँचकर मोर्चा संभाला। प्रॉक्टर ने छात्रों से बात करते हुए उनकी बात सुनी। इसके बाद हॉस्टल के कमरों के अंदर जयंती मनाने के लिए कहा। इस पर छात्र तैयार हो गए और उन्होंने हॉस्टल के कमरों में छत्रपति शिवाजी की जयंती मनाई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -