Advertisements
Saturday, May 30, 2020
होम देश-समाज मस्जिद व कॉन्ग्रेस दफ्तर से चले पत्थर: मुस्लिमों ने की गोलीबारी, 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' चीखते...

मस्जिद व कॉन्ग्रेस दफ्तर से चले पत्थर: मुस्लिमों ने की गोलीबारी, ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ चीखते हुए टूट पड़ी भीड़

मुस्लिमों ने एक आदिवासी लड़के को मार-मार कर अधमरा कर दिया। आम लोगों सहित कुछ पुलिसकर्मियों ने भी स्थानीय शिव मंदिर में छिप कर अपनी जान बचाई। एसपी तक को खदेड़ दिया गया।

ये भी पढ़ें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

लोहरदगा में सीएए के समर्थन में हुई रैली में 15 से 20 हज़ार लोग शामिल थे, फिर भी मुस्लिम मोहल्ले में जुलूस के पहुँचते ही इतनी तेज़ पत्थरबाजी हुई कि लोगों में भगदड़ मच गई। इस सम्बन्ध में एक विस्तृत रिपोर्ट के जरिए हम पहले ही बता चुके हैं कि कैसे पूर्व-नियोजित तरीके से मुसलमानों ने अपने घरों की छतों पर ईंट-पत्थर इकट्ठा कर के रखे हुए थे। मुस्लिम मोहल्ले में पहुँचते ही नारा-ए-तकबीर के साथ जुलूस का स्वागत किया गया और मुस्लिमों की भीड़ उन पर टूट पड़ी। हालाँकि, रैली विश्व हिन्दू परिषद् के बैनर तले निकाली जा रही थी लेकिन इसमें ज्यादातर आम नागरिक शामिल थे, जिनका ताल्लुक किसी संगठन से नहीं रहा है।

ऑपइंडिया ने इस सम्बन्ध में वहाँ उपस्थित कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से बातचीत की, जो उस रैली में शुरू से अंत तक शामिल थे। डर का आलम ये है कि कोई भी अपना नाम सार्वजनिक करने को तैयार नहीं है क्योंकि इससे उसकी जान को ख़तरा हो सकता है। राज्य में झामुमो व कॉन्ग्रेस की सरकार है, जो मुस्लिम तुष्टिकरण के लिए जानी जाती है। ऐसे में, आम लोग जाएँ तो जाएँ कहाँ? एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि जब वो स्थानीय विधायक व राज्य में कैबिनेट मंत्री रामेश्वर उराँव के पास शिकायत लेकर गए तो उन्होंने कहा कि रैली में शामिल लोगों के उकसाने के कारण पत्थरबाजी हुई।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या भाषण से भड़क कर मोहल्ले के मुस्लिमों ने तुरंत भारी संख्या में न सिर्फ़ ईंट-पत्थर का इंतजाम कर लिया बल्कि उन्हें उठा कर अपनी छतों पर भी ले गए? जाहिर है, विधायक का बयान ग़लत है। जब ऑपइंडिया ने विधायक से संपर्क किया तो रामेश्वर उराँव ने कहा कि उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है। पुलिस से रिटायर होकर राजनीति में आए उराँव इस बात से हतप्रभ हैं कि आख़िर सीएए के समर्थन में रैली निकाली ही क्यों जा रही है? विधायक को जनता की अभिव्यक्ति की आज़ादी से कोई मतलब नहीं।

कॉन्ग्रेस नेता उराँव ने कहा कि उन्हें कुछ नहीं मालूम कि किसने पत्थरबाजी की। उन्होंने कहा कि आज तक सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ लोग सड़क पर उतरते रहे हैं, ऐसा पहली बार हो रहा है जब सरकार के समर्थन में रैली हो रही हो। उन्होंने अपना पूरा गुस्सा सीएए के समर्थन में हुई रैली पर ही निकाला। प्रत्यक्षदर्शी ने ऑपइंडिया को बताया कि मुस्लिमों ने एक आदिवासी लड़के को मार-मार कर अधमरा कर दिया। स्थिति ये थी कि आम लोगों सहित कुछ पुलिसकर्मियों ने भी स्थानीय शिव मंदिर में छिप कर अपनी जान बचाई। एसपी तक को खदेड़ दिया गया।

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि पत्थरबाजी करने वालों में अधिकतर महिलाएँ और बच्चे शामिल थे, जो छत से पत्थर फेंक रहे थे। मस्जिद की छत पर बड़ी संख्या में ईंट-पत्थर जमा कर के रखे गए थे, जो दिखाता है कि रैली को रोकने के लिए पहले से ही साज़िश रच ली गई थी। ऑपइंडिया ने विश्व हिन्दू परिषद् विनोद बंसल से संपर्क किया तो और भी चौंकाने वाली बात पता चली। उन्होंने बताया कि मस्जिद के साथ-साथ स्थानीय कॉन्ग्रेस दफ्तर से भी जम कर पत्थरबाजी हुई। तो क्या कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता भी मुस्लिमों के साथ इस साज़िश में शामिल थे? बंसल का जवाब हाँ में आया। विनोद बंसल के बयान के जवाब में हमें झारखण्ड कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष रामेश्वर उराँव ने दावा किया कि कॉन्ग्रेस दफ्तर में कोई था ही नहीं तो पत्थर कौन चलाएगा?

बकौल उराँव, उलटा कॉन्ग्रेस के ही कुछ पदाधिकारियों को चोटें आई हैं। यह जानने के लिए हमने संगठन और नेताओं से बात की। स्थानीय मध्य विद्यालय के आसपास के कई ऐसे माता-पिता से भी हमने बातचीत की, जो अपने बच्चे को फिर से स्कूल नहीं भेजना चाहते। नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर एक व्यक्ति ने बताया कि उसके घर के बच्चे भी मध्य विद्यालय में जाते हैं लेकिन अब उन्हें मुस्लिम बच्चों को देख कर डर लगता है। बच्चों को पढ़ाने की बजाय पत्थरबाजी सिखाई जा रही है। ऑपइंडिया ने इसके बाद बजरंग दल के झारखण्ड के प्रदेश संयोजक दीपक ठाकुर से बातचीत की।

दीपक ठाकुर ने मध्य विद्यालय में पैरेंट्स द्वारा डर से अपने बच्चों को न भेजने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज रहे। ठाकुर ख़ुद उस रैली में मौजूद थे, जहाँ ये घटना हुई। उन्हें क़रीब 300 की संख्या में मुसलमानों ने घेर रखा था और उन्हें निशाना बना कर पेट्रोल बम फेंके गए। उन्होंने बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि दंगाई मुस्लिमों ने गोलियाँ भी चलाईं। मुस्लिम महिलाएँ छत पर से ही मिर्ची पाउडर फेंक रही थीं। दंगाई भीड़ ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद, पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगा रही थी।

कई हिंदुओं की दुकानों को जला दिया गया। एक साउंड सिस्टम की दुकान जला दिया गया। एक व्यक्ति की कपड़े की दुकान जला दी गई। अभी और भी ऐसी कई घटनाएँ हुई हैं, जिनका झारखण्ड में सरकार बदलने से सीधा सम्बन्ध है। इस सम्बन्ध में ऑपइंडिया की छानबीन चालू है और जल्द ही हम नई रिपोर्ट लेकर आएँगे।

आख़िर इतना डर का माहौल क्यों है? लोग सच बोलते हुए अपना नाम सामने लाने से डर क्यों रहे हैं? दीपक ठाकुर बताते हैं कि कॉन्ग्रेस की सरकार होने के कारण लोगों को डर है कि पुलिस उलटा उन पर ही कार्रवाई न कर दे। सरकार बदल चुकी है और मीडिया भी बदले-बदले रूप में नज़र आ रहा है। स्थानीय अख़बार भी पूरी बात लिखने से डर रहे हैं। अब देखना ये है कि पुलिस इस मामले में क्या कार्रवाई करती है और दोषियों को कब पकड़ा जाता है।

हिन्दुओं के घरों को फूँका, CAA समर्थक जुलूस पर हमले के लिए छतों पर जमा कर रखे थे ईंट-पत्थर

CAA समर्थक जुलूस पर पथराव: धू-धू कर जला लोहरदगा, पथराव-आगजनी के बाद कर्फ्यू

धारा-144, कर्फ़्यू के बाद भी आगजनी व हिंसक झड़पें: CAA समर्थक जुलूस पर पथराव, लोहरदगा में बिगड़ी स्थिति

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

POK में ऐतिहासिक बौद्ध धरोहरों पर उकेर दिए पाकिस्तानी झंडे, तालिबान पहले ही कर चुका है बौद्ध प्रतिमाओं को नष्ट

POK में बौद्ध शिलाओं और कलाकृतियों को नुकसान पहुँचाते हुए उन पर पाकिस्तान के झंडे उकेर दिए गए हैं।

पिंजड़ा तोड़ की नताशा नरवाल पर UAPA के तहत मामला दर्ज: देवांगना के साथ मिल मुसलमानों को दंगों के लिए उकसाया था

नताशा नरवाल जेएनयू की छात्रा है। दंगों में उसकी भूमिका को देखते हुए UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है।

J&K: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

कुलगाम जिले के वानपोरा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकियों के छुपे होने की खुफ़िया जानकारी मिली थी।

‘मरीज मर जाएँ तो हमें दोष मत दीजिएगा’: उद्धव राज में बाल ठाकरे ट्रॉमा सेंटर की उखड़ी साँसें, ऑक्सीजन की कमी से 12 मरे

जोगेश्वरी के HBT ट्रॉमा सेंटर में तैनात डॉक्टरों ने कहा है कि हाँफते हुए मरीजों को दम तोड़ते देख उनका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है।

चीन के पर कतरे, WHO से रिश्ते तोड़े, हांगकांग का विशेष दर्जा छीना जाएगा: ट्रंप के ताबड़तोड़ फैसले

ट्रंप ने WHO से सारे संबंध खत्म करने का ऐलान किया है। चीन पर कई पाबंदियॉं लगाई है। हांगकांग का विशेष दर्जा भी वापस लिया जाएगा।

राजस्थान: अब दौसा में हेड कॉन्स्टेबल ने लगाई फाँसी, 7 दिन में तीसरे पुलिसकर्मी ने की आत्महत्या

दौसा के सैंथल में हेड कॉन्स्टेबल गिरिराज सिंह ने आत्महत्या कर ली। राज्य में सात दिनों के भीतर सुसाइड करने वाले वे तीसरे पुलिसकर्मी हैं।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

ISKCON ने किया ‘शेमारू’ की माफ़ी को अस्वीकार, कहा- सुरलीन, स्याल पर कार्रवाई कर उदाहारण पेश करेंगे

इस्कॉन के प्रवक्ता राधारमण दास ने शेमारू के इस माफ़ीनामे से संतुष्ट नहीं लगते और उन्होने घोषणा की कि वे बलराज स्याल और सुरलीन कौर के इस वीडियो को प्रसारित करने वाले शेमारू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

टिड्डियों के हमले को जायरा वसीम ने बताया अल्लाह का कहर, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ली क्लास

इस्लाम का हवाला देकर एक्टिंग को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने देश में टिड्डियों के हमले को घमंडी लोगों पर अल्लाह का कहर बताया है।

जैकलीन कैनेडी की फोटो पास में रख कर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

दिल्ली में अस्पताल और श्मशान में शव रखने की जगह नहीं, हाइकोर्ट ने भेजा केजरीवाल सरकार, तीनों निगमों को नोटिस

पाँच दिन पहले जिनकी मौत हुई थी उनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। जिसकी वजह से मॉर्चरी में हर दिन संख्या बढ़ती चली जा रही है। पिछले हफ्ते जमीन पर 28 की जगह 34 शव रखें हुए थे।

हमसे जुड़ें

209,526FansLike
60,747FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements