Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजभारतीय लड़कियों से खाड़ी देशों में करवाया जा रहा मुजरा, सैफुद्दीन है शामिल: पीड़िता...

भारतीय लड़कियों से खाड़ी देशों में करवाया जा रहा मुजरा, सैफुद्दीन है शामिल: पीड़िता ने दिल्ली सहित कई महानगरों की बताई हालात, कॉन्ग्रेस नेता का भी नाम

पीड़िता ने आगे बताया कि सैफुद्दीन का पेशा लड़कियों को इमोशनल ब्लैकमेल करके उन्हें अपने जाल में फँसाना है। ये लड़कियाँ मुंबई, दिल्ली और गुजरात आदि प्रदेशों की हैं। इन लड़कियों को होटल और ब्यूटी पॉर्लर की जॉब दिलाने का लालच दिया जाता है। बाद में लड़कियों को खाड़ी देशों में बेच दिया जाता और उनसे मुजरा करवाया जाता है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 13 मई 2024 को एक हिन्दू लड़की ने अपने मुस्लिम शौहर के खिलाफ हिंसा का केस दर्ज करवाया था। इसमें 6 नामजद सहित अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। इस मामले में अब पीड़िता सामने आई है। उसने लव जिहाद की गहरी साजिश का आरोप लगाया है। पीड़िता ने इस पूरे नेटवर्क में कॉन्ग्रेस के एक नेता को भी शामिल बताया है।

पीड़िता मूलतः UP के बहराइच जिले रहने वाली है, जबकि आरोपित कर्नाटक के बीदर से रहने वाले हैं। पीड़िता ने इस मामले में लखनऊ के गुडम्बा थाने में केस दर्ज कराया है। पीडिता ने अपनी शिकायत में बताया कि वो पिछले 6-7 वर्षों से दुबई और बहरीन में रहकर काम करती थी। बहरीन में उसकी मुलाक़ात कर्नाटक के बीदर निवासी सैफुद्दीन से हुई थी।

सैफुद्दीन ने पीड़िता से दोस्ती की और बहरीन में उससे रेप किया। इसके बाद पीड़िता ने बहरीन में बलात्कार का केस दर्ज करवाया। रेप की वजह से पीड़िता गर्भवती हो गई। इसके बाद पीड़िता को इस्लाम कबूल करने की सलाह दी गई थी। आरोप है कि सैफुद्दीन के परिजनों के दबाव में 13 फरवरी 2024 को पीड़िता ने धर्मांतरण करके सैफुद्दीन से निकाह किया।

गर्भावस्था के 5 माह पूरे होने पर सैफुद्दीन ने पीड़िता को इलाज के बहाने मुंबई भेजा। यहाँ साजिशन पीड़िता का गर्भपात करवा दिया। वहाँ से सैफुद्दीन पीड़िता को अपने घर कर्नाटक के बीदर ले गया। वहाँ लड़की को सैफुद्दीन के भाई सबीरूद्दीन और 3 अन्य लोगों ने अपनी बहन के साथ मिलकर उसका शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित किया।

लखनऊ की पीड़िता ने अपनी शिकायत में सैफुद्दीन की पूर्व प्रेमिका मोनिका और कुछ अन्य लोगों के नाम दर्ज करवाए हैं। इसके आधार पर सैफुद्दीन, उसके 4 भाई, बहन और पूर्व प्रेमिका मोनिका पर 498A, 323 और 313 IPC के तहत FIR दर्ज कर ली थी। इस मामले की FIR से संबंधित कॉपी ऑपइंडिया के पास मौजूद है।

अब पीड़िता ने मीडिया को अपनी प्रताड़ना को विस्तार से बताया है। ABP न्यूज़ से बात करते हुए लड़की ने बताया कि सैफुद्दीन उसे एक क्लाइंट के तौर पर मिला था। कुछ दिनों की बातचीत में वो पीड़िता पर डोरे डालने लगा। वह शराब में गोलियाँ डालकर पीता था। वह खुद को अपने घर से बेहद परेशान बताया करता था।

पीड़िता ने बताया कि वह अपनी बीवी और गर्लफ्रेंड से खुद को परेशान बताता था। धीरे-धीरे सैफुद्दीन ने पीड़िता को अपने साथ निकाह के लिए तैयार करने की कोशिश करने लगा। एक दिन आरोपित सैफुद्दीन ने लड़की को नशीली दवा देकर उसका रेप किया और फिर अश्लील वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल करने लगा।

पीड़िता ने आगे बताया कि सैफुद्दीन का पेशा लड़कियों को इमोशनल ब्लैकमेल करके उन्हें अपने जाल में फँसाना है। ये लड़कियाँ मुंबई, दिल्ली और गुजरात आदि प्रदेशों की हैं। इन लड़कियों को होटल और ब्यूटी पॉर्लर की जॉब दिलाने का लालच दिया जाता है। बाद में लड़कियों को खाड़ी देशों में बेच दिया जाता और उनसे मुजरा करवाया जाता है।

पीड़िता का दावा है कि वो कई लड़कियों को जानती है, जो बहरीन के अलग-अलग बार में काम कर रही हैं। इसी दौरान पीड़िता ने बताया कि बीदर में कॉन्ग्रेस पार्टी का एक नेता है, जो सैफुद्दीन का रिश्तेदार है। इस रिश्तेदार पर भी आरोप है कि उसने न सिर्फ पीड़िता के साथ हाथापाई की, बल्कि उसका रेप भी करने का प्रयास किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -