Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजकमलनाथ के राज में भूखमरी से 7 साल के मासूम ने तोड़ा दम, परिवार...

कमलनाथ के राज में भूखमरी से 7 साल के मासूम ने तोड़ा दम, परिवार के अन्य 5 सदस्यों की हालत गंभीर

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बताया कि जाँच के दौरान इनके घर में खाने के लिए कोई अनाज आदि नहीं मिला। टीम में शामिल सुपरवाइजर संजय कौशल ने कहा कि इनके घर में राशन का कोई भी सामान नहीं था और तीन दिन पुरानी सूख चुकी कटी हुई भिंडी मिली थी।

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में 7 साल के एक मासूम बच्चे की भुखमरी से मौत हो गई। घटना जिले के सेंधवा ब्‍लॉक की है, जहाँ एक परिवार के 6 सदस्यों की अचानक से तबीयत खराब हो गई, जिन्हें इलाज के लिए सेंधवा के अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान 7 साल के अर्जुन की मौत हो गई। परिवार के अन्य सदस्यों की भी हालत गंभीर बनी हुई है।

दरअसल उल्टी-दस्त की शिकायत के चलते इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम इनके घर पहुँची थी। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बताया कि जाँच के दौरान इनके घर में खाने के लिए कोई अनाज आदि नहीं मिला। टीम में शामिल सुपरवाइजर संजय कौशल ने कहा कि इनके घर में राशन का कोई भी सामान नहीं था और तीन दिन पुरानी सूख चुकी कटी हुई भिंडी मिली थी। संजय कौशल ने कहा कि उन्हें लगता है कि भुखमरी के कारण मासूम की जान गई है।

नई दुनिया में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट

अचानक तबीयत खराब होने पर परिजनों का भी कहना था कि कई दिन से भूखा रहने के कारण उनकी ये हालत हुई है। बता दें कि रतन (अर्जुन के पिता) की आर्थिक हालत बेहद ही खराब है। रतन मजदूरी करके किसी तरह से अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। इसके साथ ही रतन और उसके परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ न मिलने की बात भी सामने आई है। जानकारी के मुताबिक रतन का राशन कार्ड नहीं होने से उसे राशन भी उचित मूल्य पर नहीं मिलता है।

सेंधवा की एसडीएम अंशु जावला ने भी कहा कि शुरुआती जाँच में ऐसा लग रहा है कि पीड़ित परिवार का कई दिनों से भूखा रहने के स्वास्थ्य खराब हुआ है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe