Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाज'मोहम्मद जावेद ने हत्यारे रियाज को बताया था कि कन्हैया दुकान पर हैं': 1...

‘मोहम्मद जावेद ने हत्यारे रियाज को बताया था कि कन्हैया दुकान पर हैं’: 1 दिन पहले मुलाकात कर रची थी साजिश, NIA ने किया गिरफ्तार

28 जून 2022 को मोहम्मद रियाज और गौस कपड़ा सिलवाने के बहाने से कन्हैया लाल की दुकान में घुसे थे। एक आरोपित वीडियो बनाता रहा, जबकि दूसरा अपना नाप देने लगा। कन्हैया नाप लेने में व्यस्त हो गए। फिर अचानक आरोपितों ने उन पर हमला कर गला काट दिया था।

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल साहू की इस्लामियों द्वारा सरेआम गला काट कर हत्या करने के मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने एक और आरोपित को गिरफ्तार किया है। इस आरोपित का नाम मोहम्मद जावेद मंसूरी है। मोहम्मद ने कन्हैयालाल के दुकान पर होने की हत्यारों को जानकारी दी थी।

कन्हैयालाल हत्याकांड मामले में गिरफ्तार 8वाँ आरोपित मोहम्मद जावेद खेरादीवाड़ा का निवासी है और मालदास स्ट्रीट में आर्टिफिशियल ज्वैलरी की दुकान चलाता था। मोहम्मद जावेद का अब्बू बेकरी का काम करता है। उसका परिवार मूलत: बिहार का रहने वाला बताया जाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोहम्मद जावेद ने हत्या को अंजाम देने वाले एक आरोपित मोहम्मद रियाज अत्तारी से हत्या के एक दिन पहले मुलाकात की थी। मोहम्मद जावेद की रियाज अत्तारी से जान-पहचान अपने पड़ोसी दुकानदार वसीम के जरिए हुई थी। इस बात का खुलासा अत्तारी और दूसरे आरोपित मोहम्मद गौस से पूछताछ के बाद हुई।

मोहम्मद जावेद ने 28 जून को कन्हैयालाल की दुकान की रेकी की थी और जब देखा कि कन्हैयालाल दुकान में मौजूद हैं तो उसने फोन करके अत्तारी को इसकी जानकारी दी थी। इसके बाद दोनों आरोपित ग्राहक के रूप में आए और घटना को अंजाम दिया था। इतना ही नहीं, जावेद इस आतंकी हत्या की साजिश में भी शामिल था।

बता दें कि 28 जून 2022 को दोनों आरोपित कपड़ा सिलवाने के बहाने से कन्हैया लाल की दुकान में घुसे थे। एक आरोपित वीडियो बनाता रहा, जबकि दूसरा अपना नाप देने लगा। कन्हैया नाप लेने में व्यस्त हो गए। फिर अचानक से आरोपितों ने उन पर हमला कर दिया। कन्हैया चीखते रहे लेकिन आरोपितों ने दबोच कर उनका सिर कलम कर दिया। खून से लथपथ कन्हैया ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

इससे पहले कन्हैयालाल को हत्या की धमकी भी मिली थी। धमकी के वह डर कर अपने दुकान को कई दिनों तक बंद कर रखा था। इसके साथ ही कन्हैयालाल ने 15 जून को पुलिस में शिकायत दी थी और सुरक्षा की माँग की थी। उन्होंने कहा था कि उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है। हालाँकि पुलिस ने सिर्फ दोनों पक्षों के बीच समझौता कराकर मामला रफा-दफा कर दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -