Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजमाँ काली के अपमान पर लीना के खिलाफ दिल्ली के संसद मार्ग थाने में...

माँ काली के अपमान पर लीना के खिलाफ दिल्ली के संसद मार्ग थाने में एक और FIR, MP के गृहमंत्री ने केंद्र से की लुक आउट सर्कुलर जारी करने की माँग

"हमने केस तो दर्ज कर ही लिया था लेकिन अब हम केंद्र सरकार से लीना के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी करने की माँग कर रहे हैं।"

माँ काली का अपमान करती डॉक्यूमेंट्री बनाने वाली फिल्म निर्मात्री लीना और उनका समर्थन करने वाली TMC सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ दिल्ली में FIR दर्ज हुई है। यह FIR भाजपा नेता हरीश खुराना और रंजन तिवारी ने दर्ज करवाई है। FIR में काली माँ के आपत्तिजनक पोस्टर को शेयर करने वाले हैंडलों पर भी कार्रवाई की माँग की गई है जिसमें फराह खान अली भी शामिल हैं। DCP नई दिल्ली को इस बावत आज 7 जुलाई 2022 (गुरुवार) को शिकायती पत्र भी सौंपा गया था।

शिकायतकर्ताओं ने डॉक्यूमेंट्री को हिन्दू आस्थाओं पर आघात बताया और इसे बनाने और इसका समर्थन करने वालों पर कार्रवाई की माँग की है। इस शिकायत पर दिल्ली पुलिस के संसद मार्ग थाने में IPC की धारा 295, 505 (2), 153B, 509, 120B के साथ IT एक्ट की धारा 66 & 67 के तहत FIR दर्ज कर ली गई है।

शिकायतकर्ता राजन तिवारी ने लिखा, “दोषियों को फ़ौरन गिरफ्तार किया जाए। किसी को भी धार्मिक उन्माद फैलाने का अधिकार नहीं है।”

वहीं विवादित काली डॉक्यूमेंट्री को बनाने वाली पूरी टीम के खिलाफ मध्य प्रदेश सरकार लुक आउट नोटिस जारी करने जा रही है। इस बावत मध्य प्रदेश के गृहमंत्री डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा ने गृहमंत्री अमित शाह को पत्र भी लिखा है। डॉ मिश्रा के मुताबिक लीना मणिमेकलाई ने जानबूझकर हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने वाली डॉक्यूमेंट्री बनाई है।

गृहमंत्री मध्य प्रदेश के मुताबिक, “हमने केस तो दर्ज कर ही लिया था लेकिन अब हम केंद्र सरकार से लीना के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी करने की माँग कर रहे हैं।” गौरतलब है कि डॉक्यूमेंट्री काली का विवादित पोस्टर जारी होने के बाद लीना और उनकी टीम के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में FIR दर्ज हो रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -