Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजअर्णब गोस्वामी का ट्विटर हैंडल @arnab_5222, लगाए मुंबई के DCP पर घटिया आरोप: पैरोडी...

अर्णब गोस्वामी का ट्विटर हैंडल @arnab_5222, लगाए मुंबई के DCP पर घटिया आरोप: पैरोडी हैंडल को असली समझ केस दर्ज

"DCP मानसिक रोगी, महेश भट्ट को चाय पर बुलाया। DCP से रिया के संपर्क एक साल से और उनके बीच फोन पर बातचीत। DCP ने महाराष्ट्र के राजनेताओं के सेवा की शपथ ली या..." - इन ट्वीट्स के आधार पर मानहानि का मुकदमा।

मुंबई पुलिस के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस (DCP) अभिषेक त्रिमुखे ने ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के संस्थापक अर्णब गोस्वामी के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। उन्होंने दावा किया है कि अर्णब गोस्वामी ने ट्विटर पर उनके खिलाफ टिप्पणियाँ की और बयान दिए। इसके लिए उन्होंने ट्विटर हैंडल ‘@arnab_5222‘ का भी जिक्र किया है। आइए, देखते हैं डिफेमेशन सूट में इस सम्बन्ध में क्या लिखा गया है।

इसके ‘Annexure B’ में लिखा है कि उपर्युक्त ट्विटर हैंडल को ‘मुख्य आरोपित (अर्णब गोस्वामी)’ द्वारा चलाया जाता है इसके 1.802 लाख (अब 2.001 लाख) फॉलोवर्स भी हैं। दावा किया गया है कि इस हैंडल से कई मानहानिजनक ट्वीट्स किए गए और जो बातें टीवी न्यूज़ टेलीकास्ट के दौरान कही जाती हैं, उन्हीं भड़काऊ चीजों को इस ट्विटर हैंडल के माध्यम से एक बड़ी ऑडियंस के समक्ष दोहराया जाता है और फिर से सर्कुलेट किया जाता है।

दावा किया गया है कि उन ट्वीट्स का कोई सन्दर्भ ही नहीं हैं और उन्हें जानबूझ कर याचिकाकर्ता को बदनाम करने के लिए फैलाया गया है। साथ ही ‘Annexure C’ में उन ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट्स भी डाले गए हैं। इसके बाद 6 ट्वीट्स की सूची पेश की गई है, जो इस हैंडल द्वारा किया गया था। दावा किया गया है कि उनके पास इन सभी के स्क्रीनशॉट्स मौजूद हैं। आइए देखते हैं किन ट्वीट्स को उन्होंने मानहानि वाला माना है।

अर्णब गोस्वामी के ट्विटर हैंडल को लेकर किया गया दावा

पहला ट्वीट अगस्त 16, 2020 की है। इसमें पूछा गया है कि पुलिस की सर्विस ज्वाइन करने से पहले मुंबई के DCP ने देश की सेवा करने की शपथ ली थी या फिर महाराष्ट्र के राजनेताओं की? साथ ही इसमें हैशटैग के जरिए सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सुशांत सिंह राजपूत की मौत की CBI जाँच की माँग की गई है। दूसरा ट्वीट अगस्त 7 का है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि आरोपित रिया चक्रवर्ती मुंबई के DCP के साथ पिछले 1 वर्ष से संपर्क में थीं।

इसमें दावा किया गया है कि ये वही DCP हैं, जिन्होंने सुशांत के परिवार के निवेदन को दो-दो बार ठुकरा दिया। इसे ब्रेकिंग न्यूज़ बताते हुए ‘वॉरियर फॉर SSR’ का हैशटैग भी लगाया गया है। इस ट्वीट में पुलिस पर जाँच के नाम पर 55 दिनों तक नाटक करने का आरोप लगाते हुए DCP पर ‘मानसिक रोगी’ महेश भट्ट को चाय पर बुलाने का आरोप लगाया गया है। साथ ही सवाल दागा गया था कि रिया का असली कारोबार क्या है?

उसी दिन किए गए तीसरे ट्वीट में एक खबर का जिक्र किया गया है, जिसके अनुसार मुंबई पुलिस के DCP अभिषेक त्रिमुखे ने रिया चक्रवर्ती को पूछताछ के लिए बुलाया है। साथ ही पूछा गया है, “देश मुझे बताए, मात्र 21 सेकेंड्स की कैसी पूछताछ?” चौथे ट्वीट में DCP से रिया के संपर्कों और उनके बीच हुई कॉल्स और संदेशों का विवरण माँगा गया है। 5वें ट्वीट में इसी आरोप को दोहराया गया है। पेश किए गए अंतिम ट्वीट में रिया और DCP के बीच कई बार कुछ सेकेंड्स की बात होने का दावा करते हुए पूछा गया है कि कौन सी सूचनाएँ आरोपित को दी गईं?

इसे अर्णब गोस्वामी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल होने का किया गया दावा

जब हमने इस यूजरनेम वाले ट्विटर हैंडल को चेक किया तो इस पर स्पष्ट लिखा है कि ये एक ‘अनाधिकारिक पैरोडी हैंडल’ है। साथ ही इसे ‘फैन पेज’ भी बताया गया है। इस पर कोई ब्लू टिक भी नहीं है। इस हैंडल से कंगना रनौत, नीता अम्बानी और सोनू निगम के पैरोडी/फेक हैंडल्स से किए गए ट्वीट्स भी रीट्वीट किए जाते हैं। इंस्टाग्राम पर भी ऐसा ही हैंडल बना कर रखा गया है। कहीं नहीं लिखा है कि इसे अर्णब गोस्वामी चलाते हैं।

असली बात ये है कि अर्णब गोस्वामी न तो किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर हैं और न ही उनकी तरफ से कोई टीम या फैन पेज है, जो उनका प्रतिनिधित्व करता हो। उनके बयान को ‘रिपब्लिक वर्ल्ड’ और ‘रिपब्लिक भारत’, इन दोनों मीडिया संस्थानों के हैंडलों के जरिए ही जारी किया जाता है। ट्विटर पर वो चर्चा में ज़रूर रहते हैं लेकिन उनका कोई ट्विटर हैंडल नहीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -