Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजबकरीद पर दी गाय की कुर्बानी, हिंदुओं ने विरोध किया तो प्रदर्शनकारियों पर मुस्लिम...

बकरीद पर दी गाय की कुर्बानी, हिंदुओं ने विरोध किया तो प्रदर्शनकारियों पर मुस्लिम भीड़ टूटी: मतीन, रहीम समेत 19 पर केस दर्ज

महाराष्ट्र के संभाजीनगर में बकरीद पर गाय की कुर्बानी दी गई थी। हिन्दू संगठनों को जब इसकी खबर मिली तो उन्होंने इसका विरोध किया। इसी बात से नाराज मुस्लिम भीड़ ने उनके सदस्यों पर हमला कर दिया। अब खबर है कि हमले में कई लोग घायल हो गए हैं। वहीं एक महिला से छेड़खानी और घर से पैसे लूटने की बात भी सामने आई है।

महाराष्ट्र के छत्रपति संभाजी नगर में साम्प्रदायिक तनाव की खबर है। बताया जा रहा है कि यहाँ बकरीद पर गाय की कुर्बानी दी गई, जिसकी जानकारी होने पर कुछ हिन्दू संगठनों ने विरोध किया तो मुस्लिम भीड़ ने उनके सदस्यों पर हमला कर दिया। हमले में कई लोग घायल हो गए हैं। इसके अलावा इस दौरान महिला से छेड़खानी और लूटपाट जैसी घटना को अंजाम दिया गया। पुलिस ने मतीन, रहीम और शहजाद सहित कुल 19 लोगों पर नामजद FIR दर्ज कर ली है। प्रशासन ने मांस के सैम्पल जाँच के लिए भेजे हैं। घटना सोमवार (17 जून 2024) की है।

यह मामला छत्रपति संभाजीनगर जिले के दौलताबाद इलाके का है। बकरीद के दिन सोमवार (17 जून 2024) को हिन्दू संगठनों सूचना मिली कि कुछ गोवंशों को कुर्बानी के लिए लाया गया है। मामले की सूचना फ़ौरन ही पुलिस को दी गई। पुलिस ने दबिश दी। दावा किया जा रहा है कि इस दौरान गोमांस बरामद भी हुआ। इसे देख हिन्दू संगठनों ने इस करतूत के खिलाफ नारेबाजी की और विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसी दौरान मुस्लिम भीड़ ने इन प्रदर्शनकारियों पर हमला कर दिया। हमले के दौरान कुछ वाहनों में आगजनी भी की गई। घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

हमलावर इस बात से नाराज थे कि हिन्दू संगठनों ने उसकी हरकत पुलिस को क्यों बता दी। बताया जा रहा है कि इस्लामी कट्टरपंथियों के हमले में कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए हैं जिनको इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस CCTV फुटेज के आधार पर हमलावरों को चिन्हित करने का प्रयास कर रही है।

इसके अलावा इस मामले में एक हिन्दू महिला ने भी अलग से शिकायत दर्ज करवाई है। महिला ने बताया है कि मुस्लिम भीड़ उसके घर में ये कहकर घुसी कि उन्होंने पुलिस को कुर्बानी की सूचना दी। इसके बाद महिला के साथ बदसलूकी की गई। साथ ही उसके घर से पैसे और मंगलसूत्र भी लूटा गया। फ़िलहाल पीड़िता की शिकायत पर कुल 19 आरोपितों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है। नामजद आरोपितों के नाम अहमद सैय्यद, लाला शेख, नासर शेख, इमरान पठान, इस्माइल पठान, अरबाज पटेल, बाबा शेख अंडियावाला, बाबा अद्दू वखरवाला, अज्जू टिक्कियापाववाला, रहीम शेख, सैय्यद मतीन, सैय्यद बाबा, रहीम शेख, शहजाद सैय्यद, अरबाज कुरैशी, जुनैद शेख, सैय्यद शेरू, सैय्यद हारुन और मुन्नी बाजी हैं।

इन सभी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 395 (डकैती), 354ए (छेड़खानी), 452 (घर में जबरन घुसना), 323 (चोट पहुँचाना), 504 (अपमान करना), 506 (धमकी देना), 143 (अवैध रूप से जमा होना), 147 (दंगा करना) और 149 के तहत कार्रवाई की गई है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। अपनी शिकायत में महिला ने बताया है कि 17 जून को कुछ लोग उनके घर में घुस गए। वो महिला के पति के बारे में पूछताछ करने लगे। उनका कहना था कि महिला के पति ने पुलिस को बकरीद पर मुस्लिमों द्वारा गाय की कुर्बानी की सूचना दी है।

उस समय महिला का पति घर पर मौजूद नहीं था। इन सभी ने पीड़िता को गंदी-गंदी गालियाँ और जान से मार डालने की धमकी दी। साथ ही महिला के साथ छेड़खानी भी की गई। घर में रखे 14 हजार रुपए का मंगलसूत्र भी भी लूट लिए गए। अब तक कुल 15 हमलावरों के हिरासत में लिए जाने की खबर है।

इस घटना के बाद मुस्लिम पक्ष ने भी हिन्दुओं के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में उन्होंने आदित्य बोडखे, अक्षय बोडखे, तुषार म्हास्के और मयूर म्हास्के को नामजद किया है। इन सभी पर आरोप लगाया गया है कि ये तलाशी के नाम पर एक मुस्लिम परिवार में जबरन घुसे और अभद्रता की। इन चारों नामजदों पर महिला के घर में तोड़फोड़ करने की भी शिकायत दी गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -