Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजमच्छिंद्रनाथ मंदिर में घुसकर 50-60 मुस्लिमों की भीड़ ने लगाए 'अल्लाह-हू- अकबर' के नारे,...

मच्छिंद्रनाथ मंदिर में घुसकर 50-60 मुस्लिमों की भीड़ ने लगाए ‘अल्लाह-हू- अकबर’ के नारे, आरती की बाधित : वीडियो वायरल

हिंदू भक्त पारंपरिक आरती कर रहे थे, तभी मुस्लिमों की भीड़ ने मच्छिंद्रनाथ मंदिर में प्रवेश किया और कार्यवाही को बाधित करने का प्रयास किया। आक्रोशित मुस्लिम भीड़ ने ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगाए। इतना ही नहीं हिंदुओं को उनकी वार्षिक परंपरा को निभाने से रोकने के लिए वो उनके चारों तरफ घूम-घूम कर चिल्लाने लगे।

लगभग 50 से 60 मुस्लिम कट्टरपंथियों ने मलंग गढ़ किले के ऊपर बने मच्छिंद्रनाथ के प्राचीन मंदिर में घुसकर हिंदू श्रद्धालुओं द्वारा की जा रही आरती को बाधित करने के लिए ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगाए। शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, 28 मार्च को, हिंदू भक्त पारंपरिक आरती कर रहे थे, तभी मुस्लिमों की भीड़ ने मच्छिंद्रनाथ मंदिर में प्रवेश किया और कार्यवाही को बाधित करने का प्रयास किया। आक्रोशित मुस्लिम भीड़ ने ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगाए। इतना ही नहीं हिंदुओं को उनकी वार्षिक परंपरा को निभाने से रोकने के लिए वो उनके चारों तरफ घूम-घूम कर चिल्लाने लगे।

Source: YouTube

यह वीडियो अब इंटरनेट पर वायरल हो गया है। वीडियो में, मुसलमानों की भीड़ को ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगाते हुए हिंदू भक्तों को उनके अनुष्ठान करने के खिलाफ धमकाते हुए देखा जा सकता है।

बता दें कि हर साल, मछिंद्रनाथ के भक्त मछिंद्रनाथ के प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए मलंग गढ़ किले तक माघ पूर्णिमा श्रीमालंग यात्रा नामक एक धार्मिक यात्रा करते हैं। हालाँकि, कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण, इस वर्ष की यात्रा रद्द कर दी गई थी। लेकिन शिवसेना के आग्रह पर, हिंदू परंपराओं के अनुसार, हिंदुओं को मछिंद्रनाथ के मंदिर में सभी धार्मिक अनुष्ठान करने की अनुमति दी गई। सरकारी नियमों के अनुसार- वार्षिक स्नान, पालकी, गण्डमाला, नैवेद्य, महा आरती- को सरकारी अधिकारियों और अन्य गणमान्य व्यक्तियों सहित 50 भक्तों की उपस्थिति की अनुमति दी गई।

हालाँकि, कट्टरपंथियों को यह रास नहीं आया और उन्होंने आरती को बाधित करने की योजना बनाई। जैसे ही हिंदू संगठनों को इस बारे में पता चला, उन्होंने पुलिस को इसके बारे में सूचित किया। पुलिस ने कोरोना वायरस प्रतिबंधों का हवाला देते हुए केवल सात हिंदू भक्तों को आरती के लिए मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी। आरती शुरू होने के पाँच मिनट बाद, 50-60 मुस्लिम कट्टरपंथियों की एक हिंसक भीड़ ने मंदिर में प्रवेश किया और ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगाए, उन्होंने हिंदुओं से अपने धार्मिक अनुष्ठान को रोकने के लिए कहा।

हिंदू संगठनों ने मंदिर में तोड़-फोड़ करने वाले मुस्लिमों के खिलाफ हिल रोड पुलिस स्टेशन में शिकायत की। हालाँकि, पुलिस ने आश्वासन दिया कि वे मामला दर्ज किए बिना ही जाँच करेंगे। हिंदू समूहों ने पुलिस को घटना की जाँच करने और अपराधियों को गिरफ्तार करने के लिए 4 दिनों का अल्टीमेटम दिया, इसमें विफल रहने पर उन्होंने व्यापक आंदोलन शुरू करने की बात कही।

यह घटना 28 मार्च को रात 8 बजे हुई। बताया जा रहा है कि जब पुलिस ने हस्तक्षेप करने की कोशिश की, तो मुस्लिम भीड़ ने पुलिसकर्मियों के कॉलर पकड़ लिए और उन्हें धक्का दे दिया। मामले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

जगह के स्वामित्व को लेकर हिंदू और मुसलमानों के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है

हिंदू भक्तों का मानना है कि यह स्थान नाथ संप्रदाय के बाबा मछिंद्रनाथ का विश्राम स्थल है और पेशवाओं ने पूजा करने के लिए केतकर नामक एक ब्राह्मण परिवार को सौंपा था। हर साल हिंदू रीति-रिवाजों से यहाँ पूजा की जाती है, खासकर माघ पूर्णिमा पर भव्य आरती का आयोजन किया जाता है। हालाँकि, मुसलमानों का दावा है कि यह सूफी फकीर हाजी अब्दुल रहमान शाह मलंग उर्फ मलंग बाबा का पवित्र स्थान है। उनका दावा है कि वह 13वीं शताब्दी में यमन से आए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe