Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजक्या NEET पेपर लीक के पीछे हैं तेजस्वी यादव, जिस सरकारी गेस्ट हाउस में...

क्या NEET पेपर लीक के पीछे हैं तेजस्वी यादव, जिस सरकारी गेस्ट हाउस में पेपर लेकर आया था सिकंदर यदुवंशी उनसे क्या है RJD नेता का कनेक्शन: जानिए सब कुछ

विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि पेपर लीक घोटाले का किंगपिन सिकंदर कुमार यदुवंशी तेजस्वी यादव के आप्त सचिव प्रीतम कुमार का निकट संबंधी है। उसी ने गेस्ट हाउस बुक कराया था। सारा खेल तेजस्वी यादव के घर से ही खेला जा रहा था।

नीट-यूजी पेपर लीक कांड का मास्टर माइंड बिहार सरकार में जेई के तौर पर काम करने वाला सिकंदर कुमार यदुवंशी को बताया जा रहा है। वो पहले भी पेपर लीक और भ्रष्टाचार के मामले में जेल जा चुका है। ईओयू की जाँच में ये बात सामने आयी है कि बिहार में कुछ महीने पहले हुए शिक्षक परीक्षा प्रश्नपत्र घोटाले और नीट पेपर लीक मामले को एक ही गिरोह ने अंजाम दिया है, जिसका सरगना सिकंदर कुमार यदुवंशी है। बिहार के उप-मुख्यमंत्री विजय कुमार सिन्हा ने दावा किया है कि उसका पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से करीबी संबंध है।

जानकारी के मुताबिक, सिकंदर यादवेंदु ने 4 मई को एनएचएआई के गेस्ट हाउस में अपने साले की पत्नी रीना कुमारी और उसके बेटे अनुराग को ठहराया था। पुलिस ने 5 मई को रीना को एनएचएआई के गेस्ट हाउस से ही गिरफ्तार किया था। गेस्ट हाउस के एंट्री रजिस्टर में छात्र अनुराग यादव के नाम के आगे ब्रैकेट में ‘मंत्री जी’ लिखा हुआ है। यही नहीं, एनएचएआई गेस्ट हाउस से ईओयू को एक ओएमआर शीट भी मिली थी। ऐसे में सिकंदर यादव कौन है, और कैसे इसने NHAI में कमरे की बुकिंग कराई, ये बड़ा सवाल बना हुआ है।

बिहार के समस्तीपुर का रहने वाला सिकंदर यदुवंशी घोटाले के मामले में जेल भी जा चुका है। वो पहले राँची में ठेकेदारी का काम करता था, लेकिन साल 2012 में उसने बिहार एसएसपी की परीक्षा पास कर लिया और बतौर जूनियर इंजीनियर सरकारी नौकरी में आ गया। उसका बेटा और बेटी दोनों ही MBBS की पढ़ाई कर रहे हैं तो दामाद MBBS करने के बाद पीजी की पढ़ाई कर रहा है। सिकंदर तीन करोड़ के एलईडी घोटाले में भी गिरफ्तार हो चुका है।

तेजस्वी यादव से जुड़ा है मामला, आरजेडी मानसिकता के लोगों का काम: उप-मुख्यमंत्री

बता दें कि नीट-यूजी पेपर लीक मामले में जेल में बंद जेई सिकंदर कुमार यदुवंशी के साले के बेटे अनुराग यादव और उसकी माँ रीना कुमारी को ठहराया गया था। सिकंदर कुमार यदुवंशी तेजस्वी यादव के पीएस प्रीतम का करीबी है। अनुराग और रीना कुमारी को NHAI के गेस्ट हाउस से ही गिरफ्तार किया गया था। अनुराग को 5 जून 2024 की परीक्षा से एक दिन पहले ही 4 जून को प्रश्न पत्र उपलब्ध कराए गए थे और उसकी तैयारी गेस्ट हाउस में ही कराई गई थी।

एनएचएआई गेस्ट हाउस मामले में बिहार के डिप्टी सीएम और पथ निर्माण विभाग के मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने दावा किया कि पूरा मामला तेजस्वी यादव से जुड़ा हुआ है। विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि पेपर लीक घोटाले का किंगपिन सिकंदर कुमार यदुवंशी तेजस्वी यादव के पीएस प्रीतम कुमार का निकट संबंधी है। उसी ने गेस्ट हाउस बुक कराया था। सारा खेल तेजस्वी यादव के घर से ही खेला जा रहा था।

एक चैनल से बात करते हुए उप-मुख्यमंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा, “NHAI गेस्ट हाउस में जो लोग पकड़े गए हैं, कोई यदुवंशी है, उसका संबंध प्रीतम है, जो तेजस्वी यादव से जुड़ा है। जो दोषी होंगे, कार्रवाई होगी। जिनका नाम आ रहा है, (तेजस्वी यादव के पीएस का), उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। जिन लोगों के इशारे पर ऐसी बुकिंग हो रही थी, हम उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे। हमने पहले भी कहा है आरजेडी की मानसिकता अपराधियों को संरक्षण देने का है। माफियाओं को आरजेडी का संरक्षण प्राप्त है। जाँच से ये स्पष्ट हो जाएगा।”

बता दें कि पटना स्थित NHAI के गेस्ट हाउस में रीना और अनुराग रुके थे। अनुराग के साथ ही कई अन्य अभ्यर्थियों को भी इसी गेस्ट हाउस में परीक्षा की तैयारी कराई गई थी। नीट-यूजी मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है। इस मामले में 14 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं, जिसमें कई अभ्यर्थी भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सिकंदर यादुवंशी शिक्षक परीक्षा के दौरान हुए घोटाले में भी सामने आया था। उसने बिहार शिक्षक पेपर लीक वाला ही तरीका नीट-यूजी में अपनाया था और वो ही दोनों घोटालों का मास्टरमाइंड है।

इस मामले में बिहार पुलिस ने सबसे पहले सिकंदर यदुवंशी को ही पकड़ा था। उसके साथ अखिलेश और बिट्टू नाम के युवक भी शास्त्रीनगर के बेली रोड पर राजवंशी नगर मोड़ पर पकड़े गए थे। उसके पास से नीट-यूजी के कई एडमिट कार्ड भी मिले थे। यदुवंशी से मिले इनपुट के बाद आयुष, अमित और नितीश को गिरफ्तार किया गया, तो नालंदा के संजीव सिंह को भी पुलिस ने पकड़ा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -