Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजदावा- नशे में पहलवानों से दिल्ली पुलिस ने की बदतमीजी, हकीकत- मेडिकल टेस्ट में...

दावा- नशे में पहलवानों से दिल्ली पुलिस ने की बदतमीजी, हकीकत- मेडिकल टेस्ट में नहीं मिला एल्कोहल: जंतर-मंतर पर AAP नेता के कारण हुआ बवाल

दिल्ली पुलिस ने अपने बयान में बताया कि जिस पुलिसकर्मी पर नशे की हालत में होकर बदसलूकी करने के आरोप लगाए गए थे। उस पुलिसकर्मी के मेडिकल में कोई एल्कोहल नहीं पाया गया है।

जंतर-मंतर पर चल रहे पहलवानों के प्रदर्शन में कल (3 मई 2023) रात झड़प हो गई। इस झड़प के बाद पहलवानों ने एक पुलिसकर्मी पर नशे की हालत में बदसलूकी करने का आरोप भी लगाया। अब इसी मामले पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी प्रणव तयाल ने मेडिकल का हवाला देते हुए कहा है कि पुलिसकर्मियों ने शराब नहीं पी थी।

डीसीपी प्रणव ने बताया कि जंतर-मंतर पर सोमनाथ भारती के कुछ लोग बिन अनुमति के गाड़ी भर कर फोल्डिंग पलंग लेकर पहुँचे थे। जब पुलिस ने उन्हें देखा तो उनको रोकने का प्रयास किया गया, मगर तभी सारे प्रदर्शनकारी वहाँ इकट्ठा हो गए और वहीं धक्का-मुक्की होने लगी। इस पूरे प्रकरण में पाँच पुलिसकर्मी घायल हुए जिनमें से 2 महिला पुलिसकर्मी थीं।

डीसीपी ने मीडिया को यह भी बताया कि प्रदर्शनकारियों ने इल्जाम लगाया था कि कोई पुलिसवाला शराब के नशे में धुत था। डीसीपी ने कहा, “उस पुलिसवाले का हमने अलग से मेडिकल कराया था, उसकी रिपोर्ट में कोई एल्कोहल होने के सबूत नहीं मिले हैं।” डीसीपी ने बताया कि इस झड़प में प्रदर्शनकारियों के भी 2 लोगों को चोट आई थी उनका मेडिकल होने के बाद डिस्चार्ज (लामा मिल गया है) हो गए हैं।

पुलिस ने स्वाति मालीवाल के आरोपों पर कहा कि कल प्रदर्शनस्थल पर कानून व्यवस्था को देखते हुए उन्हें बैरिकेड से अंदर आने को रोका गया था। बाद में उनको हिरासत में लेकर सिविल लाइन्स थाने ले जाया गया था। उसके बाद वहाँ से उन्हें छोड़ दिया गया था। ये सब कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हुआ था।

उल्लेखनीय है कि जंतर-मंतर पर देर रात हुई पुलिस के साथ झड़प के बाद विनेश फोगाट ने आरोप लगाया था कि पुलिसकर्मी ने महिला प्रदर्शनकारियों के साथ बदसलूकी की। लड़कियों की छाती पर धक्का मारा। वायरल वीडियो में देख सकते हैं विनेश फोगाट कहती हैं,

“वो बृजभूषण जिसने इतने कांड किए वो घर में मजे से सो रहा है। हम लोग तख्ते के खाट ला रहे हैं सोने के लिए उसमें भी इन्हें लग रहा है सो जाओ मर जाओ…मारना है वैसे ही मार दो, हम मरने के लिए तैयार हैं। इतनी इज्जत गिराओगे क्या। हम अपने मान-सम्मान की लड़ाई लड़ रहे हैं और वह पुलिस वाला धर्मेंद्र लड़कियों की चेस्ट पर धक्के मार रहा है। इसी दिन को देखने के लिए मेडल लेकर आना है तो मैं चाहूँगी देश का कोई खिलाड़ी मेडल न लाए फिर। इतना दुर्दशा कर दी है हमारी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -