Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजलुंगी पहन कर राजस्व दफ़्तर पहुँचा ग्रामीण तो अधिकारियों ने भगाया, कहा- तुम्हारी समस्या...

लुंगी पहन कर राजस्व दफ़्तर पहुँचा ग्रामीण तो अधिकारियों ने भगाया, कहा- तुम्हारी समस्या नहीं सुनेंगे

आखिर किसी ग्रामीण के लुंगी पहन कर फरियाद करने में क्या समस्या है? गाँव-देहात में बहुत लोगों के पास लुंगी आदि छोड़कर कुछ ख़ास होता भी नहीं पहनने को। ऐसे में डाँट कर किसी को लौटा देना कहाँ तक सही है?

बिहार के अररिया में नरपतगंज स्थित मधुरा दक्षिणी प्रखंड के अधिकारी को लुंगी पसंद नहीं आई। उक्त अधिकारी का नाम दिलीप करन है। दरअसल, हुआ यूँ कि एक ग्रामीण किसी कार्य से कचहरी पहुँचा लेकिन अधिकारी दिलीप उसे देख कर आग-बबूला हो गए। उनके गुस्से का कारण ये था कि वो ग्रामीण लुंगी में दफ्तर में घुस गया था। इसे लोग उनकी मनमानी बता कर आलोचना कर रहे हैं। उन्होंने उस व्यक्ति की समस्या भी नहीं सुनी और उसे फटकार लगाई। इसके बाद उसे अपने कार्यालय से भगा भी दिया गया।

ग्रामीणों ने बताया कि ‘कर्मचारी साहेब’ ने उक्त ग्रामीण से कहा– “हमारे कचहरी में आना हो तो लुंगी पहन कर मत आइए।” इसके बाद अपनी समस्या लेकर आया उक्त व्यक्ति वापस अपने घर लौट गया। इस बाबत सीओ निशांत कुमार को लिखित आवेदन दिया गया है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी इस घटना की जानकारी दी गई है। लोगों ने कर्मचारी के इस व्यवहार पर आपत्ति जताई है।

पीड़िता का नाम रामस्वरूप महतो है। वह वह मधुरा दक्षिणी पंचायत के वार्ड संख्या 7 में स्थित कोसी कॉलोनी में रहता है। उसके पिता का नाम गणेश महतो है। वह बुधवार (नवंबर 20, 2019) को अपनी वंशावली सम्बंधित जानकारियाँ निकलवाने के लिए राजस्व कार्यालय गया। वहाँ कर्मचारियों के साथ-साथ कई ‘बाबू’ लोग भी मौजूद थे। पीड़ित की बस इतनी ही ग़लती थी कि वो लुंगी पहन कर वहाँ पहुँच गया था।

उसे लुंगी में देखते राजस्व कार्यालय के अधिकारियों ने फटकार लगाते हुए वापस जाने को कहा। अधिकारियों ने कहा कि वो कपड़े बदल कर आए, तब उसकी समस्या सुनी जाएगी। इस मामले को लेकर अभी तक सीओ की तरफ़ से कोई टिप्पणी नहीं आई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsbihar lungi
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe