Wednesday, November 25, 2020
Home देश-समाज इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में प्रवासी लौटें अपने गृहराज्य: प्रदीप भंडारी...

इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में प्रवासी लौटें अपने गृहराज्य: प्रदीप भंडारी से मजदूरों के हालात और आगे की जिंदगी पर बातचीत

गृह राज्यों को एक राज्य प्रवासी डेटाबेस बनाने की आवश्यकता है, और केंद्र के पास भी एक सिंगल डेटाबेस में प्रवासियों का विवरण होना चाहिए। सरकार को समय के साथ उनके प्रत्यक्ष वित्तीय लाभ को देखना चाहिए। मनरेगा बढ़ने से उन्हें फायदा होगा। इसके साथ ही उन्हें अधिक सार्वजनिक कार्यों में लगे रहने की भी आवश्यकता है।

चीनी कोरोनोवायरस महामारी ने इस दुनिया को बदल कर रख दिया है। लगभग हर इंसान की जिंदगी इसके चलते प्रभावित हुई है। दुनिया भर में लाखों लोग संक्रमित हुए हैं, जिनमें कुछ लोग ठीक हुए तो हजारों लोगों की जान गई है। इस प्रकोप को मद्देनजर रखते हुए भारत ने भी कई अन्य देशों की तरह, वायरस के प्रसार को रोकने और लोगों के जीवन को बचाने के लिए लॉकडाउन की घोषणा की। मगर एक अरब से अधिक की आबादी वाले भारत के पास अनेक चुनौतियाँ थी।

जहाँ एक तरफ घर पर रहना कई लोगों के लिए एक लक्जरी था, तो वही दूसरी तरफ लगभग पूरे भारत में हजारों प्रवासियों ने अपने कर्म स्थल को छोड़ अपने गाँव वापस जाने के लिए निकल पड़े थे। गरीब मजदूरों की ऐसी हालत ने सभी का दिल दहला कर रख दिया। इस महामारी के दौर में सेफोलॉजिस्ट प्रदीप भंडारी ने प्रवासी मजदूरों की आपबीती और जमीनी हकीकत को समझने और जानने के लिए एक महीने तक यात्रा की। मजदूरों को लेकर भंडारी ने ऑपइंडिया के साथ बातचीत की और इस बारे में बताया कि सरकारों ने कैसे काम किया और सरकारें इस संकट की घड़ी को कम करने के लिए और क्या-क्या कर सकती हैं।

1. आपने 38 दिनों की यात्रा की है, ज़मीनी स्तर पर प्रवासियों की स्थिति के बारे में आपका क्या कहना है?

मैंने लगभग 8 राज्यों में 14000 कि.मी से अधिक की ज़मीनी यात्रा की थी। अपनी यात्रा के दौरान, मैं शायद ही किसी ऐसे व्यक्ति से मिला था जिसने लॉकडाउन का विरोध किया था, यहाँ तक ​​कि प्रवासियों में भी सामान्य भावना लॉकडाउन के पक्ष में ही थी, हालाँकि उनमें निराशा की भावना भी थी, जो उनके चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थी। उनकी निराशा और क्रोध के बीच एक पतली रेखा है कि प्रवासी मजदूर थोड़ा धीरज रख कर ट्रेन से अपने घर वापस जा सकते थे।

हालाँकि, जिनके गाँव में उनका परिवार अकेला था, और अपने ठेकेदारों से भी मजदूरी प्राप्त होना बंद हो गया था, उनके पास पैदल या साइकिल से घर जाने के अलावा और कोई चारा नहीं बचा था। साथ ही लौटने वाले प्रवासियों को जिस तरह से अस्थायी रोजगार प्रदान किया जाएगा वह आने वाले महीनों में प्रवासियों की उस स्थिति को निर्धारित करेगा।

2. क्या प्रवासी मजदूर मोदी सरकार के खिलाफ हो गए है?

जहाँ-जहाँ मैंने यात्रा की ज्यादातर प्रवासी मजदूर हिन्दी बोलने वाले थे (जिसमें यूपी, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, चंडीगढ़ और बिहार शामिल है।) और उनमें से किसी में भी मोदी के विरोध जैसी कोई भावना नहीं थी। यहाँ तक कि कई लोगों की राय थी कि अगर मोदी पीएम नहीं होते तो देश की स्थिति और खराब हो सकती थी।

पैदल यात्रा करने वाले थोड़े परेशान थे, उन्होंने अपनी इस तरह की यात्रा पर असंतोष की भावना व्यक्त की, जबकि जिन लोगों ने ट्रेन से यात्रा की वे लोग संतोष की भावना के साथ घर लौटे। अब आने वाले 3 महीने ही यह निर्धारित करेंगे कि प्रवासी मोदी समर्थक रहेंगे या नहीं। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा कल्याणकारी सेवाओं के वितरण पर यह निर्भर करता है।

3. प्रवासियों की स्थिति में सुधार लाने के लिए और क्या-क्या करने की आवयश्कता है?

यह बेहद महत्वपूर्ण होगा कि विभिन्न राज्य सरकार आने वाले महीनों में प्रवासियों से कैसे काम कराएँगी। लगातार प्रवासियों की आर्थिक, सामाजिक और स्वास्थ्य के लिहाज से देखभाल करना होगा। साथ ही अपने गृह राज्य वापस लौटने पर पहले उन्हें क्वारंटाइन किया जाना चाहिए। मुझे याद है कि नोएडा से महोबा (यूपी) के लिए साइकिल पर प्रवासियों का एक समूह मिला था। जब मैंने इस बारे में पूछताछ की कि वे घर पहुँचते ही क्या करेंगे, तो पहली बात उन्होंने कहा- “14 दिनों के लिए क्वारंटाइन।” जागरूकता और स्वैच्छिक जिम्मेदारी के स्तर, प्रवासियों में लचीलापन ने भारत को अब तक इस महामारी से निपटने में काफ़ी मदद की है।

यह अत्यंत आवश्यक है कि आने वाले दिनों में भोजन, और आश्रय का ध्यान रखा जाए। गृह राज्यों को एक राज्य प्रवासी डेटाबेस बनाने की आवश्यकता है, और केंद्र के पास भी एक सिंगल डेटाबेस में प्रवासियों का विवरण होना चाहिए। सरकार को समय के साथ उनके प्रत्यक्ष वित्तीय लाभ को देखना चाहिए। मनरेगा बढ़ने से उन्हें फायदा होगा। इसके साथ ही उन्हें अधिक सार्वजनिक कार्यों में लगे रहने की भी आवश्यकता है। इससे पहले यह कभी नहीं हुआ है कि इतने सारे प्रवासी मजदूर एक साथ वापस अपने गृहराज्य आएँ हो। राज्यों को इस अवसर का उपयोग अपने राज्य केंद्रित मॉडल के विकास के लिए करना चाहिए।

4. आपके हिसाब से कौन से राज्य इस वक़्त अच्छा और कौन खराब प्रदर्शन कर रहे हैं?

ओडिशा, तेलंगाना, केरल, यूपी इस महामारी से अच्छी तरह से लड़ रहें है। इसके अलावा बंगाल, बिहार और महाराष्ट्र में सुधार करने की आवश्यकता है। गुजरात और एमपी को भी कोरोना वायरस के प्रसार पर नज़र रखने की आवश्यकता है। बाकी लोगों ने प्रतिक्रिया के लिए सार्वजनिक धारणा में औसत से ऊपर प्रदर्शन किया है।

5. जमीन स्तर पर 20 लाख करोड़ रुपए का आर्थिक पैकेज किस प्रकार दिया जाएगा?

सरकार ने एमएसएमई, किसानों और सुधारों पर केंद्रित एक बड़े पैकेज की घोषणा की है। आने वाले दिनों में इस पैकेज की बारीकियों के बारे में ज़मीनी स्तर पर लोगों को बताना होगा। लोगों को यह तो पता है कि सरकार ने राहत पैकेज की घोषणा की है, लेकिन इस पैकेज से किस प्रकार लाभ हासिल किया जाएगा इसकी जानकारी अभी उनके पास नहीं है।

6. बंगाल से क्या खबरें आ रही हैं?

बंगाल की रिपोर्ट चिंताजनक है। वहाँ के लोगों से बात करने पर इस बात का पता लगा कि वहाँ के निवासी कोविड-19 को लेकर काफ़ी परेशान है। उन्हें इस महामारी के प्रसार के बारे में बहुत ही कम जानकारी है। ग्राउंड रिपोर्ट्स के अनुसार, बंगाल में सही तरह से लॉकडाउन लागू नहीं किया गया था। केंद्र को बंगाल में कोविड-19 की स्थिति का सूक्ष्मता से पता लगाने की आवश्यकता है क्योंकि वहाँ के निवासियों को राज्य सरकार पर पूरी तरह से विश्वास नहीं है कि वे अपने दम पर इस महामारी को रोकने का प्रयास कर रही है।

7. प्रवासी संकट के बीच उनकी जमीनी यात्रा कैसे हुई है? उनमें जागरूकता का स्तर कैसा है? क्या सोशल डिस्टेंसिग का पालन किया जाता है?

मेरी 14 हजार किमी की यात्रा में मेरा दृष्टिकोण सिर्फ लोगों की आवाज का प्रतिनिधित्व करना या उनके बीच पैनिक क्रिएट करना नहीं था। मेरा उद्देश्य पीड़ित प्रवासियों की मदद करना था। इसलिए यदि राजमार्ग पर एक प्रवासी नंगे पैर था, तो उसके दर्द को समझने के अलावा उस प्रवासी की बात को मदद के लिए संबंधित अधिकारियों तक पहुँचाना भी था। यदि रास्ते में सैनिटेशन की जरूरत पड़ी तो हमने सैनिटेशन किट भी वितरित किए।

इस तरह सड़कों पर कई लोगों की मदद कर हमने अपने आपको बहुत भाग्यशाली महसूस किया। मुझे याद है कि कुछ लोग यूपी जाने वाले थे लेकिन अपना रास्ता भटक चुके थे और लुधियाना पंजाब से उत्तराखण्ड के रुड़की पहुँच गए थे। इस स्थिति में हम कोशिश करते थे कि उन लोगों को आसपास से गुजरने वाली गाड़ियों से मेरठ तक छोड़ दिया जाए ताकि वे आसानी से पूर्वी यूपी अपने घर तक पहुँच जाएँ।

साथ ही हम उन्हें अधिकारियों के फ़ोन नंबर भी उपलब्ध कराते थे जिससे कि कोई दिक्कत आने पर वे उनसे मदद ले सकें। मैंने अपने विवेक के साथ अन्याय किया होता तो अगर मैं सिर्फ प्रवासियों के दर्द तक खुद को केंद्रित रखता, लेकिन दर्द को कम करने का प्रयास नहीं करता तो।

अंतत:, हर भारतीय इस मुश्किल घड़ी में एक साथ है। गाँवों में आत्मविश्वास की भावना है कि वे अधिक इस कोरोना महामारी प्रतिरोधी हैं। उन्होंने बाहरी लोगों को गाँव में प्रवेश करने पर रोक लगा दी थी, यहाँ तक कि उत्पादन भी गाँव में स्थानीय रूप से किया जाता था। वे चेहरे को ढकने के लिए गमछे का इस्तेमाल करते थे।

बता दूँ कि सभी स्थानों पर समाजिक दूरी का कड़ाई से पालन नहीं किया गया। सड़क पर प्रवासी सिर्फ़ वापस घर पहुँचने के लिए उत्सुक थे। सैकड़ों किमी की यात्रा ने उन्हें अधीर बना दिया था और उनकी पहली प्राथमिकता सामाजिक दूरी नहीं थी, बल्कि जल्द से जल्द घर पहुँचना था। हालाँकि, वे स्वेच्छा से वापस पहुँचने पर क्वारंटाइन के बारे में जानते थे।

मुझे लगता है कि प्रवासी इस हालात में भी सबसे अच्छा कर रहे हैं। सौभाग्य से हर दिन स्थिति में सुधार हो रहा है क्योंकि प्रवासियों की संख्या पहले की तुलना में कम हो रही है। 15 लाख से अधिक प्रवासी वापस अपने गृहराज्य पहुँच चुके हैं और आने वालें दिनों में श्रमिक ट्रेनों में वृद्धि और नियम में बदलाव के कारण अब राज्य सरकार की अनुमति की भी जरूरत नहीं है ताकि जल्द से जल्द स्थिति फिर से सामान्य हो सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दीप्रिंट वालो! ‘लव जिहाद’ हिन्दू राष्ट्र का आधार नहीं, हिन्दू बच्चियों को धोखेबाज मुस्लिमों से बचाने का प्रयास है

लव जिहाद कोई काल्पनिक राक्षस नहीं है। ये वीभत्स हकीकत है। मेरठ में हुआ प्रिया का केस शायद जैनब ने पढ़ा ही नहीं या निकिता के साथ जो तौसीफ ने किया उससे वो आजतक अंजान हैं।

UP कैबिनेट में पास हुआ ‘लव जिहाद अध्यादेश’: अब नाम छिपाकर शादी करने पर मिलेगी 10 साल की सजा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 'लव जिहाद' को लेकर एक बड़े फैसले में अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 'लव जिहाद' के लगातार सामने आ रहे मामलों को देखते हुए यूपी कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया।

नड्डा 100 दिन के दौरे पर, गाँधी परिवार छुट्टी पर: बाद में मत रोना कि EVM हैक हो गया…

कोरोना काल में भाजपा के अधिकतर कार्यकर्ताओं को सेवा कार्य में लगाया गया था। अब संगठन मजबूत किया जा रहा। गाँधी परिवार आराम फरमा रहा, रिसॉर्ट्स में।

43 चायनीज Apps को किया गया बैन: चीन पर चोट, कुल 267 पर चला डिप्लोमैटिक डंडा

भारत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप पर...

अर्णब की गिरफ्तारी से पहले अन्वय नाइक मामला: क्यों उठते हैं माँ-बेटी की मंशा पर सवाल? कब-कब क्या हुआ, जानिए सब कुछ

ऑपइंडिया ने इस मामले में दोनों पक्षों के बीच साझा किए गए पत्रों को एक्सेस किया और यह जाना कि यह मामला उतना सुलझा नहीं है जितना लग रहा है। पढ़िए क्या है पूरा मामला?

वैक्सीन को लेकर जल्द शुरू होगा बड़ा टीकाकरण अभियान, प्रखंड स्तर तक पर भी टास्क फोर्स का हो गठन: PM मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि देश में इतना बड़ा टीकाकरण अभियान ठीक से हो, सिस्टेमेटिक और सही प्रकार से चलने वाला हो, ये केंद्र और राज्य सरकार सभी की जिम्मेदारी है।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

‘दिल्ली दंगे में उमर खालिद, शरजील इमाम और फैजान के खिलाफ पर्याप्त सबूत’: कोर्ट में सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल

दिल्ली की अदालत ने दिल्ली पुलिस के उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मामले में नए सप्लीमेंट्री चार्जशीट को स्वीकार करते हुए कहा कि आरोपित उमर खालिद, शरजील इमाम और फैजान खान के खिलाफ यूएपीए के प्रावधानों के तहत अपराध करने के पर्याप्त सबूत हैं।

दीप्रिंट वालो! ‘लव जिहाद’ हिन्दू राष्ट्र का आधार नहीं, हिन्दू बच्चियों को धोखेबाज मुस्लिमों से बचाने का प्रयास है

लव जिहाद कोई काल्पनिक राक्षस नहीं है। ये वीभत्स हकीकत है। मेरठ में हुआ प्रिया का केस शायद जैनब ने पढ़ा ही नहीं या निकिता के साथ जो तौसीफ ने किया उससे वो आजतक अंजान हैं।

UP कैबिनेट में पास हुआ ‘लव जिहाद अध्यादेश’: अब नाम छिपाकर शादी करने पर मिलेगी 10 साल की सजा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 'लव जिहाद' को लेकर एक बड़े फैसले में अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 'लव जिहाद' के लगातार सामने आ रहे मामलों को देखते हुए यूपी कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना और रंगोली की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, जस्टिस शिंदे ने मुंबई पुलिस को फटकारा

बॉम्बे उच्च न्यायालय ने अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी है, लेकिन राजद्रोह के मामले में दोनों को 8 जनवरी को मुंबई पुलिस के सामने पेश होना होगा।

नड्डा 100 दिन के दौरे पर, गाँधी परिवार छुट्टी पर: बाद में मत रोना कि EVM हैक हो गया…

कोरोना काल में भाजपा के अधिकतर कार्यकर्ताओं को सेवा कार्य में लगाया गया था। अब संगठन मजबूत किया जा रहा। गाँधी परिवार आराम फरमा रहा, रिसॉर्ट्स में।

43 चायनीज Apps को किया गया बैन: चीन पर चोट, कुल 267 पर चला डिप्लोमैटिक डंडा

भारत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप पर...

अर्णब की गिरफ्तारी से पहले अन्वय नाइक मामला: क्यों उठते हैं माँ-बेटी की मंशा पर सवाल? कब-कब क्या हुआ, जानिए सब कुछ

ऑपइंडिया ने इस मामले में दोनों पक्षों के बीच साझा किए गए पत्रों को एक्सेस किया और यह जाना कि यह मामला उतना सुलझा नहीं है जितना लग रहा है। पढ़िए क्या है पूरा मामला?

शाहिद जेल से बाहर आते ही ’15 साल’ की लड़की को फिर से ले भागा, अलग-अलग धर्म के कारण मामला संवेदनशील

उम्र पर तकनीकी झोल के कारण न तो फिर से पाक्सो एक्ट की धाराएँ लगाई गईं और न ही अभी तक शाहिद या भगाई गई लड़की का ही कुछ पता चला...

वैक्सीन को लेकर जल्द शुरू होगा बड़ा टीकाकरण अभियान, प्रखंड स्तर तक पर भी टास्क फोर्स का हो गठन: PM मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि देश में इतना बड़ा टीकाकरण अभियान ठीक से हो, सिस्टेमेटिक और सही प्रकार से चलने वाला हो, ये केंद्र और राज्य सरकार सभी की जिम्मेदारी है।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,361FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe