Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजराजस्थान में 4 दिन से पड़ा है राम प्रसाद का शव: सुसाइड करने से...

राजस्थान में 4 दिन से पड़ा है राम प्रसाद का शव: सुसाइड करने से पहले कहा था- अपनी ही जमीन पर नहीं बनाने दे रहे घर, काॅन्ग्रेस के मंत्री का भी लिया था नाम

20 अप्रैल को काॅन्ग्रेस नेता व पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट मीणा के घर पहुँचे और परिजनों से मुलाकात की। उससे पहले बीजेपी सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा और दीया कुमारी ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात की थी।

राजस्थान के जयपुर में सुसाइड करने वाले राम प्रसाद मीणा का अभी तक अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। 17 अप्रैल 2023 को उन्होंने आत्महत्या की थी। सुसाइड से पहले एक वीडियो बनाया था। इसमें कुछ लोगों पर अपनी ही जमीन पर घर नहीं बनाने देने का आरोप लगाया था। आरोपितों पर कार्रवाई की माँग को लेकर मीणा के परिजन धरने पर बैठे हैं।

20 अप्रैल को काॅन्ग्रेस नेता व पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट मीणा के घर पहुँचे और परिजनों से मुलाकात की। उससे पहले बीजेपी सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा और दीया कुमारी ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात की थी। मरने से पहले मीणा ने जिन लोगों पर आरोप लगाया था उनमें राजस्थान की काॅन्ग्रेस सरकार के मंत्री महेश जोशी, होटल रॉयल शेरटन के मालिक मुंजी टांक, देवा अवस्थी, लालचंद देवनानी, गिरधारी जी मंदिर के देवेंद्र शर्मा, ललित शर्मा सहित आठ लोग शामिल हैं।

राम प्रसाद मीणा ने क्यों की आत्महत्या?

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक रामप्रसाद चाँदी की टकसाल इलाके में रहते थे। गिरधारी मंदिर के पास उनकी जमीन है। वे इस पर मकान बनवाना चाहते थे। लेकिन उन्हें घर बनाने से रोका जा रहा था। इससे परेशान उन्होंने आत्महत्या कर ली।

मंदिर के पास होटल

मंदिर के पास ही देवेंद्र शर्मा होटल का निर्माण करवा रहे थे। राम प्रसाद मीणा ने इस पर सवाल उठाया था। मीणा परिवार का आरोप है कि निगम ने मंदिर के पास होटल निर्माण की अनुमति तो दे दी, लेकिन कागजात होने के बाद भी उन्हें घर नहीं बनाने दिया। कहा जा रहा है कि मीणा परिवार पर जमीन छोड़ने का दबाव डाला जा रहा था। मीणा के सुसाइड के बाद इस होटल को गिरा दिया गया है।

भाजपा सांसदों ने की मीणा परिवार से मुलाकात

आरोपितों की गिरफ्तारी, मुआवजे, परिवार के लिए नौकरी समेत 8 माँगो को लेकर मीणा परिवार धरना दे रहा है। मीणा परिवार को बीजेपी सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा और सांसद दीया कुमारी का साथ मिला है। डॉ. किरोड़ीलाल मीणा धरने पर भी बैठे।

सांसद दीया कुमारी ने भी बुधवार शाम को धरनास्थल पर मीणा परिवार से मुलाकात की।

मंत्री महेश जोशी का पक्ष

महेश जोशी ने कहा है कि उनपर मृतक को परेशान करने का आरोप है, लेकिन वे मृतक और उसके परिवार को जानते तक नहीं। जोशी ने कहा कि कुछ दिन पहले उन्हें गिरधारी मंदिर में अवैध निर्माण की शिकायत मिली थी। मामला मंदिर का था इसलिए उन्होंने जाँच के लिए काम रुकवाने का आदेश दिया था। 2 पक्षों के बीच विवाद की स्थिति में काम रुकवाना सामान्य प्रक्रिया है। जोशी ने कहा कि मरने से पहले 3-4 वीडियो कौन बनाता है? उन्होंने उच्चस्तरीय जाँच की माँग की है।

गिरधारी मंदिर का पक्ष

पूरे मामले पर गिरधारी मंदिर के पुजारी ने भी मीडिया के सामने अपना पक्ष रखा है। पुजारी ने बताया कि राम प्रसाद मीणा के पिता राम किशोर मीणा अपने परिवार के साथ 1984 से ही मंदिर परिसर में किराएदार के हैसियत से रहते थे। कुछ सालों बाद मीणा परिवार ने मंदिर को किराया देना बंद कर दिया। मंदिर प्रशासन ने उन्हें परिसर खाली करने के लिए कहा। मीणा परिवार ने किराए पर मिले हिस्से को खाली करने के स्थान पर इस पर कब्जा जमा लिया।

मंदिर पक्ष इसे लेकर जयपुर किराया प्राधिकरण पहुँचा। प्राधिकरण ने मीणा परिवार को जगह खाली करने का फैसला दिया। इस फैसले को मीणा परिवार ने हाई कोर्ट में चुनौती दी। हाईकोर्ट ने भी कब्जा खाली करने का फैसला सुनाया। इसके बाद मीणा परिवार फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुँचा। सुप्रीम कोर्ट में भी पुजारी पक्ष को सही ठहराया गया। पुजारी के अनुसार मंदिर परिसर की जमीन को अपना बताते हुए मीणा परिवार ने जाली दस्तावेजों की मदद से पट्टा तैयार करवा लिया है। उन्होंने पट्टे और दस्तावेजों की जाँच की माँग की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -