Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजमुहर्रम पर बरेली और वाराणसी में बवाल, पथराव और धारदार हथियारों से किया हमला,...

मुहर्रम पर बरेली और वाराणसी में बवाल, पथराव और धारदार हथियारों से किया हमला, दर्जनों लोग हुए घायल: वीडियो वायरल

सबसे ज्यादा बवाल वाराणसी के मिर्जामुराद इलाके में हुआ। यहाँ ईंट-पत्थर के साथ हथियारों का भी इस्तेमाल किया गया, जिसमें दर्जनों लोग घायल हो गए हैं।

उत्तर प्रदेश के बरेली और वाराणसी में मुहर्रम के जुलूस के दौरान बवाल हो गया। यहाँ ताजिया जुलूस के दौरान बवाल के बाद जमकर मारपीट हुई और धारदार हथियार से हमला किया गया। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। सबसे ज्यादा बवाल वाराणसी के मिर्जामुराद इलाके में हुआ। यहाँ ईंट-पत्थर के साथ हथियारों का भी इस्तेमाल किया गया, जिसमें दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। बताया जा रहा हैं कि करधना बाजार में ताजिया ले जाते समय जामुन का पेड़ काटने को लेकर विवाद हुआ था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुस्लिम समुदाय के कुछ लोग ताजिये के लिए खदेरू साव की दुकान के सामने छायादार जामुन के पेड़ को काटने लगे, जिसका विरोध करने पर विवाद बढ़ गया। लोगों ने कहा कि ताजिया जाने के लिए पर्याप्त रास्ता है। विवाद के बीच दुकानदार को लाठी डंडों से पीट दिया। उन्होंने दुकान को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। इससे पूरे गाँव में अफरातफरी मच गई।

सूचना पाकर मौके पर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स पहुँची। उन्होंने लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन जब वे नहीं माने उन्हें अलग करने के लिए बल का प्रयोग किया गया। इसी बीच जैसे ही घटना की जानकारी हिन्दू संगठन के लोगों को लगी, वे भी जय श्रीराम व वंदेमातरम का नारा लगाते हुए पहुँच गए। इसके बाद डीआईजी, एडिशनल एसपी, एसपी ग्रामीण भी वहाँ पहुँच गए।

वहीं बरेली में मुहर्रम जुलूस के दौरान भोजीपुरा के मझौआ गंगापुर में दुकानों में जमकर पत्थरबाजी की गई। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी सामने आया है। इसमें आप देख सकते हैं कि कैसे लोगों ने दूसरे समुदाय की दुकानों को निशाना बनाया है और वहाँ जमकर पथराव किया। पथराव करने वालों में महिलाएँ भी शामिल हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों पक्षों में करीब आधे घंटे तक पत्थरबाजी होती रही, जिसको लेकर वहाँ अफरा-तफरी मच गई। हालाँकि, पुलिस अब दोनों पक्षों के लोगों से बातचीत कर मामला शांत कराने में जुट गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -