Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाज'आज मंदिर बना लो, हमारी नस्लें वहाँ फिर बाबरी मस्जिद बनाएँगी': प्रशांत किशोर के...

‘आज मंदिर बना लो, हमारी नस्लें वहाँ फिर बाबरी मस्जिद बनाएँगी’: प्रशांत किशोर के साथ घूमने वाला SDPI सदस्य उस्मान का वीडियो वायरल

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 2 दिन पहले भी उस्मान ने एक वीडियो जारी करके बाबरी, राम मंदिर और कोर्ट पर टिप्पणी की थी। उस्मान कई बार प्रशांत किशोर के साथ देखा गया है। इस दौरान उसने बाबरी गिरने और कोर्ट के आदेश पर वहाँ मंदिर बनने पर अफ़सोस जताया था।

प्रशांत किशोर के साथ अक्सर दिखने वाले SDPI सदस्य सुल्तान उस्मान खान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में उस्मान राम मंदिर के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी कर रहा है और कह रहा है कि अभी मंदिर बना लो पर मुस्लिमों की आने वाली नस्लें वहाँ फिर से बाबरी मस्जिद बनाएँगी। उस्मान की प्रशांत किशोर के साथ कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर मौजूद हैं।

इस वीडियो को @USIndia_ नाम के हैंडल से शनिवार (4 फरवरी) को शेयर किया है। मूल वीडियो 22 सेकेण्ड का है। वीडियो के एक बड़े हिस्से में शिलाओं को अयोध्या लेकर जा रहे वाहन की है। वहीं एक छोटे हिस्से में उस्मान दिखाई दे रहा है। उस्मान को प्रतिबंधित PFI की राजनीतिक शाखा SDPI बिहार का सदस्य बताया जा रहा है।

इस वीडियो में उस्मान कह रहा है, “ये वो पत्थर है जो राम मंदिर के लिए… RSS के मंदिर के लिए जा रहा है, जो हमारी बाबरी मस्जिद के ऊपर बनेगी। आज ले जा रहे हो पत्थर, लेकिन याद रखना, एक वक्त आएगा जब हमारी नस्लें वहीं बाबरी मस्जिद इंशाअल्लाह बनाएँगी।”

वीडियो के अंत में उस्मान ने ‘नारा-ए-तकबीर’ के साथ ‘बाबरी मस्जिद जिंदाबाद’ और ‘अल्लाह हु अकबर’ का नारा लगाता है। इस दौरान उसने बाबरी मस्जिद की दावेदारी कायम रहने का भी एलान किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 2 दिन पहले भी उस्मान ने एक वीडियो जारी करके बाबरी, राम मंदिर और कोर्ट पर टिप्पणी की थी। उस्मान कई बार प्रशांत किशोर के साथ देखा गया है। इस दौरान उसने बाबरी गिरने और कोर्ट के आदेश पर वहाँ मंदिर बनने पर अफ़सोस जताया था।

गौरतलब है कि NIA ने शनिवार (4 फरवरी 2023) को बिहार में छापेमारी कर 8 संदिग्ध लोगों को पकड़ा था। इस दौरान प्रतिबंधित चरमपंथी इस्लामी संगठन PFI से जुड़े रियाज मारुफ़ को भी हिरासत में लेने की जानकारी सामने आई थी। NIA ने यह कार्रवाई उन्हीं इलाकों में की थी, जहाँ से होकर अयोध्या के लिए शिलाएँ गईं थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -