Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजतुनिशा शर्मा की मौत के मामले में शीजान खान को जमानत, विदेश जाने की...

तुनिशा शर्मा की मौत के मामले में शीजान खान को जमानत, विदेश जाने की नहीं होगी अनुमति: शर्त – सबूत से छेड़छाड़ और गवाहों से संपर्क करने की मनाही

कोर्ट ने शीजान को जमानत देते हुए कहा है कि वह किसी भी सबूत के साथ छेड़छाड़ की कोशिश नहीं करेंगे और न ही किसी भी गवाह से संपर्क करेंगे।

अभिनेत्री तुनिशा शर्मा की मौत के आरोपित शीजान खान को जमानत मिल गई। तुनिशा शर्मा ने टीवी सीरियल ‘अली बाबा: दास्तान-ए-काबुल’ के सेट में संदिग्ध अवस्था में मृत पाई गईं थीं। इसके बाद पुलिस ने तुनिशा के को-स्टार और बॉयफ्रेंड रहे शीजान खान को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद उसकी कई जमानत याचिकाएँ खारिज हो गईं थीं। हालाँकि अब 69 दिन बाद उसे 1 लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिली है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शीजान खान की जमानत याचिका पर मुंबई की वसई कोर्ट में शनिवार (4 मार्च, 2023) को सुनवाई हुई। इसमें कोर्ट ने शीजान को जमानत देते हुए कहा है कि वह किसी भी सबूत के साथ छेड़छाड़ की कोशिश नहीं करेंगे और न ही किसी भी गवाह से संपर्क करेंगे। कोर्ट ने शीजान को अपना पासपोर्ट पुलिस के पास जमा करने और बिना अनुमति विदेश न जाने का आदेश दिया है।

बता दें कि तुनिशा शर्मा और शीजान खान टीवी सीरियल ‘अली बाबा: दास्तान-ए-काबुल’ में साथ काम कर रहे थे। इसी दौरान 24 दिसंबर, 2022 को शूटिंग सेट पर ही तुनिशा शर्मा की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। वह बाथरूम में मृत पाई गईं थीं। तुनिशा के घरवालों ने शीजान पर आत्महत्या के लिए उकसाने समेत कई प्रकार के आरोप लगाए थे। इसके बाद पुलिस ने 25 दिसंबर, 2022 को उसे गिरफ्तार कर लिया था।

गिरफ्तारी के बाद शीजान 31 दिसंबर 2022 तक पुलिस कस्टडी में था। इसके बाद कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इसके बाद शीजान ने जमानत के लिए कई बार प्रयास किए। हालाँकि कोर्ट ने उसे राहत देने से इनकार कर दिया था। इसके बाद उसने हाई कोर्ट में भी जमानत अर्जी दाखिल की थी। लेकिन हाई कोर्ट ने भी उसकी अर्जी खारिज कर दी थी। लेकिन अब 69 दिन जेल में रहने के बाद शीजान खान को जमानत मिल गई।

तुनिशा की माँ ने लगाए थे गंभीर आरोप

तुनिशा शर्मा की मौत के बाद उनकी माँ वनिता शर्मा ने शीजान और तुनिशा के रिश्ते को कई खुलासे किए थे। साथ ही उन्होंने कहा था कि तुनिशा की मौत में शीजान और उसका परिवार मिला हुआ है। एक इंटरव्यू में वनिता शर्मा ने कहा था, “मैं शीजान को छोड़ने वाली नहीं हूँ। मैंने अपनी बेटी खो दी है। मैं यहाँ न्याय पाने के लिए आई हूँ। शीजान और उसका पूरा परिवार इसमें शामिल है। तुनिषा मेरी जिंदगी थी। उसने मुझसे कभी कुछ नहीं छुपाया। पिछले 3-4 महीनों में वह उसके (शीजान के) परिवार के करीब आ रही थी। पूरे परिवार ने तुनिषा का इस्तेमाल किया। शीजान की माँ ने कहा कि मैं उसे पैसे नहीं देती थी। मैंने तुनिषा को तीन महीने में तीन लाख रुपए दिए हैं। आप मेरा बैंक स्टेटमेंट देख सकते हैं।”

उन्होंने यह भी कहा था, “जब तुनिषा लद्दाख यात्रा से लौटी, तो उसने मुझसे कहा कि वह शीजान खान को पसंद करती है। मैंने उससे केवल इतना कहा था कि अपने शो और अपने काम पर ध्यान दो। शीजान की माँ और बहनों ने उसे कभी भी घर पर पर्याप्त समय रहने नहीं दिया। शूटिंग के बाद वे लोग उसे यह कहकर बुला लेते थे कि हमने तुम्हारे लिए बिरयानी बनाई है, या उनके पास ऐसा ही कोई और बहाना होता था।”

वनिता शर्मा ने आगे कहा था, “शीजान से ब्रेकअप के बाद वह दुःखी थी। उसने कहा था कि मुझे धोखा दिया गया है शीजान ने मेरा इस्तेमाल किया। उसने (शीजान ने) तुनिशा को थप्पड़ भी मारा था। तुनिशा ने अपने दोस्तों को बताया था कि शीजान ड्रग्स लेता है और उसे भी ऐसा करने के लिए मजबूर किया जा रहा था। तुनिषा भी स्मोकिंग करने लगी थी। वे लोग उससे वो सब करवाते थे जो उसे पसंद नहीं था। तुनिषा को पालतू जानवर पसंद नहीं थे, लेकिन शीजान के परिवार ने उसे एक कुत्ता दिलवाया था।”

वहीं, मीडिया से हुई बातचीत में उन्होंने कहा था कि हो सकता है कि तुनिशा की हत्या की गई हो। उन्होंने कहा था, “यह आत्महत्या या हत्या भी हो सकती है। मैं ऐसा इसलिए कह रही हूँ क्योंकि शीजान उसे एक दूर के हॉस्पिटल में ले गया था। जबकि, सेट से महज 5 मिनट की दूरी पर भी अस्पताल थे। उसे करीब के हॉस्पिटल में क्यों नहीं ले गया? तुनिषा साँस ले रही थी और उसे बचाया जा सकता था।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -