Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाज'हमेशा मदद करते हैं PM मोदी': CAA लागू होने के बाद अफगानिस्तान के सिख...

‘हमेशा मदद करते हैं PM मोदी’: CAA लागू होने के बाद अफगानिस्तान के सिख शरणार्थी ने किया धन्यवाद, कहा – पहले वीजा के लिए दौड़ाया जाता था

"हम इसी कोशिश में हैं कि हमारा हक हमको मिल जाए। हमको नागरिकता मिल जाए। 30-35 सालों से हमारी यही जद्दोजहद थी। मोदी जी ने CAA का एनाउंसमेंट 2-3 साल पहले भी किया था। वो तब लागू नहीं हुआ लेकिन अभी ये लागू हुआ है।"

भारत सरकार ने सोमवार (11 मार्च, 2024) को ‘नागरिकता संशोधन कानून’ (CAA) का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इस कानून के लागू होने के बाद अब अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में किसी भी कारण से सताये जाने वाले अल्पसंख्यकों को भारत में नागरिकता मिलना आसान हो जाएगा। यह कानून लागू होने के बाद उन तमाम लोगों की प्रतिक्रियाएँ सामने आ रहीं हैं जो कहीं न कहीं मज़हबी हिंसा के शिकार रहे हैं। पाकिस्तान के शरणार्थी हिंदुओं ने अपने कैम्पों में दीवाली मनाई। अब अफगानिस्तान के शरणार्थी सिख भी सामने आए हैं। उन्होंने यह कानून लागू करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया है।

अफगानिस्तान के एक गुरुद्वारे में ग्रंथी रहे शरणार्थी गुरमान साहेब सिंह ने ANI से बात करते हुए CAA लागू होने पर ख़ुशी जाहिर की है। गुरमान सिंह ने बताया कि साल 2018 में भारत आने से पहले वो जलालाबाद में रहते थे। CAA बिल लागू होने पहले उन्होंने अफगानिस्तान से वीजा आदि न मिलने जैसी तमाम समस्याओं का जिक्र किया। साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तहेदिल से शुक्रिया भी अदा किया है। गुरमान सिंह ने खुल कर बताया कि उन्होंने अफगानिस्तान में क्या मुसीबतें झेलीं हैं।

गुरमान सिंह ने कहा, “हम इसी कोशिश में हैं कि हमारा हक हमको मिल जाए। हमको नागरिकता मिल जाए। 30-35 सालों से हमारी यही जद्दोजहद थी। मोदी जी ने CAA का एनाउंसमेंट 2-3 साल पहले भी किया था। वो तब लागू नहीं हुआ लेकिन अभी ये लागू हुआ है। हम बहुत खुश हैं। हम मोदी जी को बहुत ज्यादा धन्यवाद करते हैं। हमारी प्रॉब्लम थी वीजा लेने की।” इसके बाद गुरमान सिंह ने बताया कि उन्हें वीजा लेते हुए क्या दिक्क्तें झेलनी पड़ती थीं।

गुरनाम सिंह ने आगे कहा, “हम वीजा लेने जाते थे FRO में हमसे कहा कहा जाता था कि मकान मालिक की ID ले कर आओ। पड़ोसी का साइन ले कर आओ। ऐसे बंदे का पासपोर्ट ले कर आओ जो इंडियन हो। आज कल तो भाई अपने भाई की गारंटी नहीं करता तो हमारे पड़ोसी हमारी गारंटी क्या लेते। हमारी ऐसी बहुत सी मुश्किलें थीं। बच्चों की पढ़ाई, घर के किराए आदि की क्योंकि हम जगह ले नहीं सकते थे। जब से हमें पता चला है कि ये (CAA) कानून लागू हुआ है तब से हम बहुत खुश हैं। हम मोदी जी और भारत सरकार का धन्यवाद करते हैं। अफगानियों के साथ हमेशा उन्होंने अच्छा ही किया है। उन्होंने हमारी बहुत मदद की है।”

बताते चलें कि भले ही CAA लागू होने पर पाकिस्तानी, बांग्लादेशी और अफगानी शरणार्थी ख़ुशी मना रहे हैं लेकिन विपक्षी INDI गठबंधन इसका लगातार विरोध कर रहे है। अरविन्द केजरीवाल और अखिलेश यादव ने खुल कर इसे मुद्दों से ध्यान भटकाने का प्रयास करार दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

पूजा खेडकर की माँ होटल से हुई गिरफ्तार, नाम बदलकर लिया था कमरा: महिला IAS के पिता नौकरी में रहते 2 बार हुए थे...

पूजा खेडकर का चिट्ठा खुलने के बाद उनके माता-पिता के खिलाफ भी जाँच जारी है। माँ को महाड के होटल से हिरासत में लिया गया है और पिता फरार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -