Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजकहीं 'जय श्री राम' के नारे तो कहीं मनाई जा रही है दीवाली, CAA...

कहीं ‘जय श्री राम’ के नारे तो कहीं मनाई जा रही है दीवाली, CAA लागू होने पर पाकिस्तानी हिन्दुओं ने मोदी को बताया देवता का अवतार: बंगाल में महिलाओं ने बजाए ढोल-नगाड़े

पश्चिम बंगाल में महिलाओं के एक समूह को ढोल, ताशे, घंटे और नगाड़े बजा कर ख़ुशी जाहिर करते हुए देखा जा सकता है। ये महिलाएँ पारम्परिक तौर पर बँगाली वेशभूषा में दिख रहीं हैं।

भारत सरकार ने सोमवार (11 मार्च, 2024) को ‘नागरिकता संशोधन कानून’ (CAA) का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इस कानून के लागू होने के बाद अब अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में किसी भी कारण से सताये जाने वाले अल्पसंख्यकों को भारत में नागरिकता मिलना आसान हो जाएगा। पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है और कई इलाकों में फ्लैग मार्च किया जा रहा है। देश के कई शरणार्थी कैम्पों में जश्न मनाया जा रहा है। वहीं ओवैसी ने इसे बँटवारे वाली सोच बताया है।

CAA नोटिफिकेशन जारी करने से पहले देश के विभिन्न हिस्सों में पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया था। कई संवेदनशील इलाकों में फ्लैग मार्च भी किया गया था। हर किसी से शाँति बनाए रखने और अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की गई थी। सोशल मीडिया पर भी पुलिस और अन्य एजेंसियों ने पैनी नजर रखी है। नोटिफिकेशन जारी होते ही सोशल मीडिया पर CAA ट्रेंड करने लगा है। ‘X’ हैंडल पर CAARules हैशटैग टॉप ट्रेंड बना हुआ है जबकि शीर्ष 5 में ‘Citizenship Amendment Act’ भी लीड कर रहा है।

CAA लागू होते ही देश के विभिन्न हिस्सों के अलावा राजधानी दिल्ली के हिन्दू शरणार्थी कैम्पों में भी ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी। वायरल हो रहे फुटेज में शरणार्थी हिन्दुओं को नाचते-गाते देखा जा सकता है। ख़ुशी मना रहे लोगों में बच्चे, युवा, बुजुर्ग और महिलाएँ भी शामिल हैं। कैम्पों में मिठाइयाँ बाँट कर ख़ुशी का इजहार किया जा रहा है। इस मौके पर इन शरणार्थियों को बधाई देने वालों का भी ताँता लगा हुआ है। कई मीडिया संस्थानों ने ख़ुशी के इस मौके को कवर किया है।

दिल्ली की आदर्श नगर शरणार्थी बस्ती में तमाम लोग ख़ुशी से रात में ही सड़कों पर निकल आए हैं। बजरंग बली की प्रतिमा के आगे वो ख़ुशी प्रकट कर रहे हैं। कुछ शरणार्थियो को ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्री राम’ का उद्घोष करते भी सुना जा सकता है। दीपक को जला कर माहौल दीपावली जैसा बना दिया गया है। लोग ख़ुशी में नरेंद्र मोदी जिंदाबाद बोलते भी सुने जा सकते हैं।

पश्चिम बंगाल में महिलाओं के एक समूह को ढोल, ताशे, घंटे और नगाड़े बजा कर ख़ुशी जाहिर करते हुए देखा जा सकता है। ये महिलाएँ पारम्परिक तौर पर बँगाली वेशभूषा में दिख रहीं हैं। वीडियो को शेयर करते हुए कंचन गुप्ता ने खुद को एक बंगाली शरणार्थी बताया है। उन्होंने कहा कि CAA लागू करने के बाद उनके पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहने के लिए शब्द कम हैं।

ऑपइंडिया ने राजस्थान के जोधपुर स्थित पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थी शिविर में रहने वाले भूरालाल भील से बात की। भूरालाल भील ने अपने साथ लाखों शरणार्थी हिन्दुओं के लिए इसे ऐतिहासिक दिन बताते हुए इसका पूरा श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया। उन्होंने मोदी को पाकिस्तानी हिन्दुओं के देवता का अवतार बताया। भूरालाल भील ने बताया कि अब वो और उनका परिवार बेहद सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके शिविर में हर कोई जश्न मना रहा है। इस जश्न में स्थानीय हिन्दू संगठन से जुड़े लोग भी शामिल हैं।

साल 1955 में बने इस कानून में बदलाव के लिए इसे साल 2016 में संसद में पेश किया गया था। 10 दिसंबर 2019 में यह बिल लोकसभा में पास हो गया। अगले दिन 11 दिसंबर को इसे राज्यसभा ने भी पारित कर दिया। दोनों सदनों द्वारा पारित होने के बाद 12 दिसंबर 2019 को CAA बिल को राष्ट्रपति की भी मंजूरी मिल गई थी। आखिरकार 11 मार्च, 2024 को केंद्र सरकार द्वारा इस बिल का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -