Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज3000+ हिंदुओं को ईसाई बनाना चाहता था चर्च, इनकार सुन बौखलाया: पब्लिक रोड ब्लॉक...

3000+ हिंदुओं को ईसाई बनाना चाहता था चर्च, इनकार सुन बौखलाया: पब्लिक रोड ब्लॉक की, हिंदू बच्चों को पढ़ाने से भी किया मना

ग्रामीणों का आरोप है कि चर्च ने उन्हें ईसाई धर्म अपनाने को कहा था, लेकिन जब उन्होंने इससे इनकार कर दिया तो उसने लोगों को प्रताड़ित करने का ये रास्ता निकाला। इसके साथ ही चर्च ने धर्मान्तरण से इनकार करने वाले लोगों के बच्चों को शिक्षा देने से भी इनकार कर दिया है।

तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई के मारुथुवमपडी गाँव से चौंकाने वाला मामला प्रकाश में आया है, जहाँ गाँव के लोगों ने गाँव में ही स्थित एक रोमन कैथोलिक चर्च पर धर्मान्तरण नहीं करने पर रास्ता रोकने का आरोप लगाया है। इस मामले को लेकर गाँव के लोगों ने जिले के कलेक्टर से आरोपित चर्च के खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

रिपोर्टों के मुताबिक, ग्रामीणों का आरोप है कि चर्च ने उन्हें ईसाई धर्म अपनाने को कहा था, लेकिन जब उन्होंने इससे इनकार कर दिया तो उसने लोगों को प्रताड़ित करने का ये रास्ता निकाला। इसके साथ ही चर्च ने धर्मान्तरण से इनकार करने वाले लोगों के बच्चों को शिक्षा देने से भी इनकार कर दिया है। इस गाँव में करीब 3000 हिंदू रहते हैं, जिन्होंने चर्च की धर्मान्तरण की माँग को ठुकरा दिया था, जिसके बाद चर्च ने तौर पर उस रास्ते पर दीवार खड़ी कर दिया है, जिससे होकर हिंदू मुख्य सड़क तक पहुँचते थे।

चर्च के इस कार्य के बाद गाँव के लोगों ने तिरुवन्नामलाई जिले के कलेक्टर को एक ज्ञापन सौंपकर कैथोलिक चर्च के द्वारा संचालित स्कूल के प्रशासनिक अधिकारी फादर येसुपदम पर ईसाई धर्म अपनाने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया है कि ईसाई पादरी ने पब्लिक रोड को रोकने के लिए चर्च के चारों तरफ चर्च परिसर की दीवार खड़ी कर दिया है। चर्च की स्कूल में हिंदू और ईसाई बच्चों के साथ अलग-अलग व्यवहार का आरोप है।

100 साल से भी अधिक समय से कर रहे सड़क का इस्तेमाल

ग्रामीणों का कहना है कि वो बीते 100 साल से भी अधिक समय से इस सड़क का इस्तेमाल करते रहे हैं। लेकिन जब से चर्च ने इस रास्ते को बंद कर दिया है, तब से लोगों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट तक पहुँचने के लिए लोगों को लंबी दूरी तय करनी पड़ रही है। लोगों ने शिकायत की है कि कोरोना के कारण दो साल तक स्कूल बंद होने के बाद जब स्कूल खुला तो वे खुश थे, लेकिन चर्च के स्कूल अधिकारियों ने उन्हें धर्मान्तरण करने के लिए कहा।

आरोप ये भी हैं कि स्कूल की माँग के मुताबिक, पूरी ट्यूशन फीस और दूसरी फीस का भुगतान करने के बाद भी हिंदू छात्रों को किसी भी तरह की रियायत नहीं दी जाती है। बल्कि, परीक्षा शुरू होने पर हिंदू छात्रों को स्कूल आने से मना कर दिया गया। स्थानीय लोगों के मुताबिक, अब तो चर्च की स्कूल में केवल ईसाई बच्चों को ही अंदर जाने की इजाजत है। हालाँकि, इस मसले पर चर्च के पादरी ने विवादित जमीन को चर्च की ही बताया है और ये भी दावा किया कि उसे इस पर दीवार बनाने का अधिकार है। इस मामले में जानकारी के लिए ऑपइंडिया ने तिरुवन्नामलाई जिले के अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन कोई जबाव नहीं दिया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -