Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजजिस जगन्नाथ मंदिर में फेंका गया था गाय का सिर, वहाँ हजारों की भीड़...

जिस जगन्नाथ मंदिर में फेंका गया था गाय का सिर, वहाँ हजारों की भीड़ ने जुट कर की महा-आरती: पूछा – खुलेआम कैसे घूम रहा था जिला-बदर अपराधी नौशाद?

सर्व-समाज ने माँग की है कि मंदिर परिवार में गौमांस फेंके जाने के असल मास्टरमाइंड को बेनकाब करते हुए उस पर भी कठोर कार्रवाई की जाए।

मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में शुक्रवार (14 जून, 2024) को भगवान जगन्नाथ मंदिर परिसर में गाय का कटा सिर फेंका गया था। इस घटना के बाद हिन्दुओं में आक्रोश फ़ैल गया था। पुलिस ने सलमान, शाकिर, नौशाद और शाहरुख (25) को NSA एक्ट के तहत जेल भेजा था और इनके घरों पर बुलडोजर चलाया था। जावरा इलाके के जिस मंदिर में यह हरकत की गई थी वहाँ सोमवार (17 जून, 2024) को महाआरती की गई। हजारों लोगों ने इस आरती में हिस्सा लिया और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा। ज्ञापन में असल साजिशकर्ताओं के नाम सामने ला कर उनके खिलाफ कार्रवाई की माँग की गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक दिन पहले रविवार को हुई घोषणा के बाद सोमवार को जावरा के जगन्नाथ मंदिर पर सुबह से ही लोगों की भीड़ जमा होने लगी। सर्वसमाज के हजारों लोगों की इस भीड़ से घंटाघर इलाका भर गया। रतलाम के डीएम और एसपी सहित तमाम बड़े अधिकारी मौके पर मौजूद थे। सर्वसमाज ने जगन्नाथ मंदिर में महाआरती की। महाआरती के बाद हिन्दू समाज के लोगों ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव को सम्बोधित करते हुए रतलाम के SDM को एक ज्ञापन सौंपा।

इस ज्ञापन में बताया गया है कि जिन 4 आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है वो महज किसी के द्वारा संचालित हो रहे मोहरे हो सकते हैं। सर्व-समाज ने माँग की है कि मंदिर परिवार में गौमांस फेंके जाने के असल मास्टरमाइंड को बेनकाब करते हुए उस पर भी कठोर कार्रवाई की जाए। लोगों ने गिरफ्तार आरोपितों को रिमांड पर ले कर फिर से पूछताछ करने और उनके कॉल व बैंक रिकॉर्ड खँगालने की भी बात दिए गए ज्ञापन में लिखी है। इसी ज्ञापन में यह भी सवाल उठाया गया है कि जिला बदर अपराधी होने के बावजूद नौशाद इतने आराम से कैसे घूम रहा था।

सर्वसमाज के ज्ञापन में जावरा के महत्वपूर्ण स्थानों पर CCTV कैमरे लगवाने, रतलाम में मौजूद रोहिंग्या और बांग्लादेशियों की पहचान कर के उनकी गिरफ्तारी करने, मुस्लिमों द्वारा कब्ज़ा की गई सरकारी जमीन को 14 दिनों के अंदर मुक्त करवाने जैसी माँगों को प्रमुखता दी गई है। इसी के साथ नगर में चल रहे अवैध बूचड़खानों को चिह्नित कर के उन्हें तत्काल बंद करने की भी आवाज उठाई गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

12वीं पास को ₹6000, डिप्लोमा वाले को ₹8000, ग्रेजुएट को ₹10000: क्या है महाराष्ट्र की ‘लाडला भाई योजना’, कैसे और किनको मिलेगा फायदा?

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने 'लाडला भाई योजना' की घोषणा की है। इस लाडला भाई योजना में युवाओं को फैक्ट्रियों में अप्रेंटिसशिप मिलेगी और सरकार की तरफ से उन्हें वजीफा दिया जाएगा।

उद्योगपतियों के बाद कॉन्ग्रेस के ‘लोकल कोटा’ पर IT इंडस्ट्री भी भड़की, NASSCOM ने कहा- बिल वापस नहीं हुआ तो जाएँगे कर्नाटक से बाहर:...

IT कंपनी संगठन NASSCOM ने कर्नाटक सरकार से आरक्षण बिल को वापस लेने की माँग की है और कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें बाहर जाना पड़ सकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -