Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजकेरल में 9वीं कक्षा की छात्रा को ड्रग एडिक्ट बनाकर होता रहा गैंगरेप: मो...

केरल में 9वीं कक्षा की छात्रा को ड्रग एडिक्ट बनाकर होता रहा गैंगरेप: मो अफ्ला और रफीक गिरफ्तार

इस केस के साथ ही पुलिस ने ड्रग व सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इसी रैकेट के 7 सदस्य पिछले कुछ माह से पीड़िता को ड्रग देकर उसका रेप करते थे। इन लोगों से पीड़िता इंस्टाग्राम के जरिए संपर्क में आई थी।

केरल के मल्लापुरम में 9वीं कक्षा में पढ़ने वाली 14 साल की लड़की को ड्रग देकर उसके साथ गैंगरेप करने के मामले में पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। ये दोनों एक ड्रग सिंडिकेट के सदस्य हैं। इनकी पहचान मोहम्मद अफ्ला और मोहम्मद रफीक के तौर पर हुई है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, इस केस के साथ ही पुलिस ने ड्रग व सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इसी रैकेट के 7 सदस्य पिछले कुछ माह से पीड़िता को ड्रग देकर उसका रेप करते थे। इन लोगों से पीड़िता इंस्टाग्राम के जरिए संपर्क में आई थी।

केरल पुलिस ने बताया कि लॉकडाउन के बाद जब ऑनलाइन क्लास शुरू हुई तो लड़की को क्लास लेने के लिए मोबाइल एक्सेस दिया गया था। लेकिन इस दौरान वह इंस्टाग्राम के जरिए 30 साल के युवक के संपर्क में आई। ये मुख्य साजिशकर्ता था। इसने लड़की से कई बार इंस्टाग्राम पर चैटिंग की फिर उसके घर आया और उसे ड्रग्स देने लगा।

पुलिस ने बताया कि आरोपित लड़की को ड्रग दे देकर उसे उसका आदि बना रहे थे। बाद में उन्होंने उसका शारीरिक शोषण शुरू किया। फिर अन्य लोग भी उसका यौन शोषण करने लगे।

जानकारी के मुताबिक, पीड़िता मल्लापुरम की रहने वाली है। यहाँ वह अपने माँ और भाई के साथ रहती है। उसके पिता पश्चिम एशिया में काम करते हैं। आरोपितों ने पहले अपने मनसूबों को अंजाम देने के लिए लड़की के घर में जगह बनाई फिर उसे ड्रग दिया और बाद में प्रताड़ित करना शुरू किया। 

पुलिस के संज्ञान में पूरा मामला चाल्डलाइन के हस्तक्षेप के बाद आया और किसी तरह पीड़िता को बचाया जा सका। पड़ताल में पता चला कि रैकेट के सदस्य स्कूल जाने वाली लड़कियों को फँसाते थे, फिलहाल पीड़िता को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी भेज दिया गया है। पुलिस ने भी सातों आरोपितों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: 2013 से 2018 के...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -