Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजकार पर फेंकी ईंट, गर्दन-छाती पर बोतल मारी: दिल्ली में Uber महिला ड्राइवर पर...

कार पर फेंकी ईंट, गर्दन-छाती पर बोतल मारी: दिल्ली में Uber महिला ड्राइवर पर जानलेवा हमला, लोग मदद देने की जगह खींचते रहे फोटो

बदमाशों ने पहले  प्रियंका की कार पर ईंटों से हमला किया और उसके बाद शीशे तोड़ दिए। जब वह कार से बाहर निकली तो बदमाशों ने उसके पर्स और पैसे छीन लिए। बदमाश प्रियंका का मोबाइल भी छीन कर भागना चाहते थे लेकिन प्रियंका ने हिम्मत दिखाई और बदमाशों से अपना मोबाइल फोन वापस ले लिया।

नई दिल्ली में लगातार महिला की सुरक्षा से खिलवाड़ के मामले सामने आ रहे हैं। अभी कुछ दिन पहले ही कार से घिसट कर अंजलि की दर्दनाक मौत का मामला सामने आया था। वहीं सोमवार (9 जनवरी 2023) की रात भी एक घटना सामने आई। ISBT इलाके में एक महिला उबर ड्राइवर प्रियंका पर सोमवार (9 जनवरी 2023) की रात दो बदमाशों ने हमला कर दिया। बदमाशों ने प्रियंका के गले पर काँच की बोतल से वार किया, जिसके कारण वह लहूलुहान हो गई। लोगों ने आधे घंटे तक उसकी कोई मदद नहीं की। उलटे प्रियंका की फोटो ली और चलते बना।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बदमाशों ने पहले  प्रियंका की कार पर ईंटों से हमला किया और उसके बाद शीशे तोड़ दिए। जब वह कार से बाहर निकली तो बदमाशों ने उसके पर्स और पैसे छीन लिए। बदमाश प्रियंका का मोबाइल भी छीन कर भागना चाहते थे लेकिन प्रियंका ने हिम्मत दिखाई और बदमाशों से अपना मोबाइल फोन वापस ले लिया। इस दौरान बदमाशों ने काँच की बोतल से पीड़िता की गर्दन और छाती पर वार किए। बकौल प्रियंका, उसे 10 टाँके लगे हैं। जब बदमाशों ने उसपर हमला किया तो उसने उबर पैनिक बटन दबाया लेकिन उससे कोई मदद नहीं मिली।

प्रियंका ने आजतक को बताया, ”घटना 9 जनवरी की रात 3 बजे की है। मैं अपने ग्राहक को पिक करने जा रही थी। तभी अचानक वहाँ आए कुछ बदमाशों ने मेरी गाड़ी पर ईंटों से हमला कर दिया और शीशे तोड़ दिए। 5 मिनट की बहस के दौरान उन्होंने मेरे साथ छीना झपटी की, मेरे गले पर काँच की बोतल से हमला कर दिया। फिर मेरी आधे घंटे तक किसी ने मदद नहीं की। लोग पास आए, फोटो खींच कर चले गए। आधे घंटे बाद उत्तराखंड की बस में सवार एक अंकल ने मेरी मदद की, फिर पीसीआर को फोन किया। पीसीआर कॉल करने के आधे घंटे बाद आई। वहीं एम्बुलेंस को भी कॉल किया, लेकिन सुबह छह बजे एम्बुलेंस वाले का फोन आया। इस दौरान मैंने खुद से अपना गला पकड़ा हुआ था, ताकि अधिक खून न निकले।”

प्रियंका ने आरोप लगाया कि फोन करने के आधे घंटे बाद आई पुलिस पहले गाड़ी और घटना को लेकर पूछताछ करने लगी, जबकि वह उनसे बार-बार कह रही थी कि उसे बहुत चोट लगी है और पहले उसे अस्पताल में भर्ती कराया जाए। प्रियंका का कहना है कि घटना के वक्त वह होश में नहीं थी और इसलिए उस वक़्त कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं करवाई। दूसरी ओर पुलिस का कहना है कि प्रियंका ने रिपोर्ट लिखवाने से मना कर दिया था और पुलिस ने खुद ही मामले में IPC की धारा 393 के तहत मामला दर्ज कर लिया और आगे की जाँच की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -