Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'हमें किसी और जेल में ले चलो': कैदियों द्वारा पिटाई के बाद उमेश कोल्हे...

‘हमें किसी और जेल में ले चलो’: कैदियों द्वारा पिटाई के बाद उमेश कोल्हे के हत्यारों ने अपनी जान को बताया खतरा, NIA कोर्ट से लगाई गुहार

शाहरुख़ पठान नाम के आरोपित पर जेल में हमला हुआ था। बताया जा रहा है कि वो जेल के अंदर उमेश कोल्हे की हत्या पर अन्य कैदियों के आगे शेखी बघार रहा था।

महाराष्ट्र के अमरावती में दवा व्यापारी उमेश कोल्हे की हत्या के आरोपितों ने खुद को मुंबई की आर्थर रोड जेल से कहीं और शिफ्ट करने की माँग की है। इस बाबत उन्होंने NIA कोर्ट में एप्लिकेशन भी दिया है। प्रार्थना पत्र में आरोपितों ने आर्थर रोड जेल में अपनी जान का खतरा बताया है। दावा है कि इस माँग पर NIA व जेल प्रशासन को कोई आपत्ति नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उमेश कोल्हे की हत्या करने के आरोप में इस समय आर्थर रोड जेल में 7 आरोपित बंद हैं। इनके नाम 22 वर्षीय मुदस्सिर अहमद उर्फ़ सोनू रज़ा, 25 वर्षीय शाहरुख़ पठान उर्फ़ बादशाह खान, 24 वर्षीय अब्दुल तौफीक उर्फ़ नानू शेख, 22 वर्षीय शोएब खान उर्फ़ भुंया खान, 22 वर्षीय आतिब रशीद, 44 वर्षीय युसूफ खान, 35 वर्षीय इरफ़ान शेख हैं। इरफ़ान शेख को ही इस हत्याकांड का मुख्य सूत्रधार माना जाता है, जो उमेश कोल्हे का पुराना दोस्त बताया जा रहा है। इसकी उमेश ने कई मौकों पर मदद भी की थी।

गौरतलब है कि एक दिन पहले 27 जुलाई को शाहरुख़ पठान नाम के आरोपित पर जेल में हमला हुआ था। बताया जा रहा है कि वो जेल के अंदर उमेश कोल्हे की हत्या पर अन्य कैदियों के आगे शेखी बघार रहा था। इस बात से नाराज हो कर कल्पेश पटेल, हेमंत मनेरिया, अरविंद यादव, श्रवण अवान और संदीप जाधव नाम के 5 कैदियों ने शाहरुख़ की पिटाई कर दी। पिटाई करने वाले उन सभी पर IPC की धारा 143, 147, 149, 323 के तहत जोशीमार्ग पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज कर ली गई है।

अमरावती के दवा व्यापारी उमेश कोल्हे की 22 जून, 2022 को हत्या कर दी गई थी। सभी आरोपित उमेश कोल्हे द्वारा नूपुर शर्मा की एक पोस्ट व्हाट्सएप ग्रुप में शेयर किए जाने से नाराज बताए गए थे। उमेश की गर्दन पर चाकू से वार किए गए थे। उनके परिवार के अन्य सदस्य उन्हें बचाने दौड़े तब तक हमलावर भाग चुके थे। मुंबई पुलिस पर शुरुआत में इस केस को गंभीरता से न लेने के भी आरोप लगे थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -