Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजअम्मी कोविड वॉर्ड में... फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर...

अम्मी कोविड वॉर्ड में… फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर का सिर फोड़ा: UP पुलिस से सस्पेंड

अम्मी को कोविड वॉर्ड से बेहतर वॉर्ड में ले जाने के लिए डॉक्टर के साथ बहस हुई और इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने तीनों भाइयों के साथ मिल कर डॉक्टर को इतना मारा कि उनका सिर फट गया।

प्रयागराज के एक अस्पताल में एक कोरोना मरीज को भर्ती कराने के लिए बेड नहीं मिला तो उसके परिजनों ने एक डॉक्टर की ही पिटाई कर डाली, जिसके बाद विरोधस्वरूप अन्य डॉक्टर भी हड़ताल पर चले गए। ये बवाल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कोविड-19 लेवल थ्री स्वरूपरानी अस्पताल (SRN Hospital) में हुआ। शुक्रवार (अप्रैल 23, 2021) को तड़के सुबह 3 बजे कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों और डॉक्टर के बीच झड़प हुई।

कोरोना पीड़ित एक बुजुर्ग महिला थी, जिनकी मौत हो गई। इसके बाद गुस्साए बेटे जुल्फिकार ने एक डॉक्टर की पिटाई कर दी। जुल्फिकार प्रतापगढ़ में बतौर इंस्पेक्टर तैनात है। हालाँकि, अपने डॉक्टर को पिटते देख कर अस्पताल के बाकी कर्मचारी भी उग्र हो गए और उन्होंने इंस्पेक्टर जुल्फिकार की भी जम कर पिटाई की, जिससे वो अधमरा हो गया। वरिष्ठ अधिकारियों ने उक्त इंस्पेक्टर को सस्पेंड करने का आश्वासन दिया है।

इंस्पेक्टर के साथ उसके दो अन्य भाई भी डॉक्टर की पिटाई में शामिल थे। अस्पताल कर्मियों ने उनकी भी धुनाई की। इसके बाद डॉक्टर और मेडिकल कर्मियों ने हड़ताल कर दिया, जिससे अस्पताल में हाहाकार मच गया। उत्तर प्रदेश में फ़िलहाल कोरोना के 2,59,810 मामले हैं, जिनमें से 16,988 (6.53%) प्रयागराज में ही हैं। लखनऊ में 54,967 (21.15%) सक्रिय मामलों के बाद राज्य में प्रयागराज का ही स्थान है।

इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुँचे और उन्होंने आक्रोशित डॉक्टरों को शांत कराया। इंस्पेक्टर को तत्काल सस्पेंड कर के उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर त्वरित विधिक कार्रवाई करने का आश्वासन वरिष्ठ अधिकारियों ने दिया, लेकिन इसके बाद भी जूनियर डॉक्टर नहीं माने और हड़ताल जारी रखा। सुबह से ही अस्पताल में मरीजों की हालत खराब है और व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गई है।

इंस्पेक्टर जुल्फिकार की अम्मी अप्रैल 18 से ही अस्पताल में भर्ती थीं और कोरोना पॉजिटिव आने के कारण उन्हें कोविड वॉर्ड में भर्ती कर दिया गया। जबकि इंस्पेक्टर अपनी अम्मी के लिए बेहतर वॉर्ड में बेड चाहता था। इसी बात को लेकर डॉक्टर के साथ बहस हुई और जुल्फिकार समेत तीनों भाइयों ने मिल कर डॉक्टर को ग्लूकोज चढ़ाने वाले स्टैंड से इतना मारा कि उनका सिर फट गया। IG केपी सिंह स्थिति को नियंत्रित करने में लगे हुए हैं।

अस्पताल के EMO डॉक्टर सूर्यभान कुशवाहा समेत सभी डॉक्टरों ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग की। डॉक्टरों का कहना है कि कोविड-19 संक्रमण के दौर में वे लोग अपनी जान की परवाह न करते हुए काम कर रहे हैं, लेकिन तीमारदारों द्वारा जिस तरह मारपीट की जा रही है, इससे उनमें भय का माहौल पैदा हो रहा है। सिटी एसपी दिनेश सिंह भी कई थानों की पुलिस के साथ मौके पर हैं। डॉक्टरों का कहना है कि 4 पुलिसकर्मी मौके पर थे, जिन्होंने डॉक्टर को नहीं बचाया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -