Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजदोस्त बनाया, कर्जा लिया, फिर मारकर अनाज की टंकी में डाल दिया: नितिन भंडारी...

दोस्त बनाया, कर्जा लिया, फिर मारकर अनाज की टंकी में डाल दिया: नितिन भंडारी की हत्या में नौशाद ब्रदर्स एंड अम्मी गिरफ्तार

नौशाद ने नितिन को जमीन पर पटक गमछे से गला घोंट दिया। इसमें परिवार के अन्य सदस्यों ने भी उसका साथ दिया। हत्या के बाद परिवार लाश के साथ रात भर सोया। अगले दिन अनाज की टंकी खरीद उसमें लाश रख दी।

उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में 27 नवंबर 2022 को हुई नितिन भंडारी की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। तीन सगे भाई गिरफ्तार किए गए हैं। इनकी पहचान आजाद और नौशाद के तौर पर हुई है। तीसरा नाबालिग है। अम्मी गुलशन सहित इनकी गिरफ्तारी 5 दिसंबर को हुई। पता चला है कि उधार का पैसा माँगने के चलते इन्होंने नितिन की हत्या की थी।

मिली जानकारी के मुताबिक 35 वर्षीय नितिन मूल रूप से पौड़ी जिले के पाबो ब्लॉक के गाँव चोड़िख का रहने वाला था। वह हरिद्वार में एक फैक्ट्री में काम करता था। नितिन के घर से कुछ ही दूरी पर भगवानपुर थाना क्षेत्र के ईदगाह कॉलोनी में गुलशन अपने तीन बेटों के साथ रहती है। नौशाद की नितिन से दोस्ती थी। एक दिन नौशाद ने प्लॉट खरीदने के नाम पर नितिन से ढाई लाख रुपए उधार ले लिए। बाद में पैसे लौटाने में आनाकानी करने लगा। इसके चलते नितिन और नौशाद के रिश्तों में तल्खी आ गई।

27 नवंबर को भी नितिन पैसे माँगने नौशाद के घर गया था। गर्मागर्म बहस के बाद मामला हाथापाई तक पहुँच गया। इसके बाद नौशाद ने नितिन को जमीन पर पटक उसका गला गमछे से घोंट दिया। नौशाद के परिवार के अन्य सदस्यों ने भी उसका साथ दिया। नितिन की हत्या के बाद उसकी लाश के साथ नौशाद का पूरा परिवार रात भर सोया। अगले दिन आरोपितों ने बाजार से अनाज की टंकी खरीदी और उसमें नितिन की लाश को रख उसे ठिकाने लगाने के लिए सही समय का इंतजार कर रहे थे।

2 दिनों तक नौशाद का पूरा परिवार नितिन की लाश के साथ रहा। लेकिन जब अनाज की टंकी से खून निकलने लगा तो आरोपित शव को वहीं छोड़ और घर में ताला लगा भाग निकले। बाद में घर की तलाशी के दौरान पुलिस को नितिन की लाश बरामद मिली थी। लाश की जेब में मिली पर्ची से उसकी कम्पनी और कम्पनी से मिली जानकारी से नितिन के घर वालों को सम्पर्क किया गया। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर केस दर्ज कर जाँच शुरू कर की। इस दौरान पुलिस ने उस पिकअप चालक को खोज निकाला जो आरोपितों का सामान लेकर गया था। पिकअप चालक ने अपनी बुकिंग के लिए आए एक बुलेट का नंबर बताया जो आरोपितों की निकली। इसी नंबर से पुलिस आरोपितों तक पहुँची।

जाँच के दौरान पुलिस ने पाया कि गुलशन और उसके परिवार को किराए पर रखने वाले मकान मालिक ने सत्यापन नहीं करवाया था। इस बावत जल्द ही मकान मालिक पर कार्रवाई की जा सकती है। पुलिस ने जाँच के दौरान कुछ मोबाइल नंबर जुटाए जिनकी लोकेशन नोएडा, बुलंदशहर और राजस्थान दिखा रही थी। पुलिस ने इन लोकेशनों पर छापेमारी करते हुए अलग-अलग दिनों में सभी 4 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस के मुताबिक आरोपितों ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया है। उनके पास से गैस सिलेंडर, फ्रिज, बुलेट, मोबाइल फोन, मृतक नितिन का पैन कार्ड और ATM कार्ड के साथ 1 लाख 10 हजार रुपए कैश बरामद किए गए हैं। मामले में शामिल 3 आरोपितों को जेल और एक अन्य नाबालिग को बाल सुधर गृह भेजा गया है। नितिन की शादी साल 2018 में हुई थी। वह लगभग 6 साल से हरिद्वार की एक दवा कम्पनी में काम करता था। उसके पिता को 2019 में लकवा मार चुका है। घर में माँ के साथ 2 बहनें हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -