Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजवाराणसी के सरैया में होली के दिन हिंदुओं पर पत्थरबाजी, कई घायल: रंग पड़ने...

वाराणसी के सरैया में होली के दिन हिंदुओं पर पत्थरबाजी, कई घायल: रंग पड़ने का मामला – अजीम, आसिम गिरफ्तार

"जलन के कारण ये लोग (मुस्लिम) ईंट पत्थर चलाने लगते हैं। लड़की तक हमला की है, छत से मुस्लिम लोग पत्थर चला रहे थे। ऐसा एक बार नहीं बल्कि चार-पाँच बार हो चुका है। यहाँ हिन्दू कम हैं, अब क्या करें या तो घर गिरा के कहीं चले जाएँ या कोई कुर्की ही करा दे।"

वाराणसी के जैतपुरा थाना क्षेत्र के मुस्लिम बहुल सरैया इलाके में होली (मार्च 29, 2021) के दिन दो पक्षों में विवाद होने के बाद पत्थरबाजी का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि होली के दिन होली खेल कर नहाने गए हिन्दू समुदाय के बच्चे आपस में एक दूसरे पर कपड़ा फेंक रहे थे, तभी पास से गुजर रहे एक मुस्लिम व्यक्ति पर रंग का छींटा पड़ गया। जिसने बड़ा विवाद का रूप ले लिया। मामले में हिन्दू पक्ष द्वारा कहा जा रहा है कि मुस्लिमों ने पहले छतों से पत्थरबाजी शुरू कर दी। जिसमें कई लोग घायल बताए जा रहे हैं।

घायल लोग

वहीं ट्विटर पर रामभक्त वैदिक द्वारा पोस्ट किए गए एक वीडियो में एक व्यक्ति खून से लथपथ नजर आ रहा है। वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा गया है, “वाराणसी के सरैया में होली खेलते समय हिन्दुओं पर हिंसा, मुस्लिम महिला-पुरुषों ने होली खेलने वालों पर पत्थरबाजी की।” वीडियो में कोई कह रहा है कि घायल लड़के को कई टाँके लगे हैं।

मामले के तूल पकड़ते ही हिन्दू युवा वाहिनी के लोग भी हिन्दू पीड़ितों से मिलने पहुँचे तो परिवार ने चौंकाने वाले खुलासे किए। रामभक्त वैदिक और एक फेसबुक पर पोस्ट किए गए वीडियो में हिन्दू परिवार की एक महिला सदस्य का कहना है, “लड़कन नाचे गावे लगिहन त जरती के मारे, ईंटा-पत्थर चलावे लगिहन, लड़किन तक छेकले हइन भैया, इ लोग मारे-पिटे लगिहन, एक हल्ली क बात ना हाउ 4-5 हल्ली क बात हौ। इहाँ हिन्दू कम हउवन, या त घरवे गिरा द भैया, या कुर्की लगवा दा, उ हस्पताले पड़ल हउअन।”

ऊपर जो स्थानीय बोली में महिला ने कहा है, उसकी सामान्य हिंदी यह है – “लड़के नाचने-गाने लगते हैं तो जलन के कारण ये लोग (मुस्लिम) ईंट पत्थर चलाने लगते हैं। लड़की तक हमला की है, छत से मुस्लिम लोग पत्थर चला रहे थे। ऐसा एक बार नहीं बल्कि चार-पाँच बार हो चुका है। यहाँ हिन्दू कम हैं, अब क्या करें या तो घर गिरा के कहीं चले जाएँ या कोई कुर्की ही करा दे। वो घायल होकर अस्पताल में पड़ा है।”

ऑपइंडिया ने इस मामले में सरैया चौकी इंचार्ज मनोज सिंह से बात की तो उन्होंने बताया, “मोहम्मडन और हिन्दू का आस-पास घर है। वहीं पर एक खुला स्थान है, जहाँ दुर्गा माता का छोटा सा मंदिर है। वहीं होली खेलने के बाद हिन्दू बच्चे सबमर्सिबल चालू कर नहा रहे थे और उसी में जो कपड़ा पहने थे, उसी से एक दूसरे को मार रहे थे। इसी दौरान वहीं रास्ते से जा रहे एक मोहम्मडन पर छींटा पड़ गया। जिसके बाद मुस्लिमों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी।” उन्होंने जानकारी दी कि मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

इस पूरे मामले पर ऑपइंडिया ने जाँच अधिकारी से भी बात की, जिन्होंने बताया कि मामले में छतों से मुस्लिमों की तरफ से ही पत्थरबाजी हुई है। पुलिस के पास वीडियो भी है। और इस मामले में जाँच कर विधिक कार्रवाई की जा रही है।

पीड़ित हिन्दू पक्ष द्वारा जहाँ इस मामले में FIR की गई है, वहीं मुस्लिमों की तरफ से कोई FIR नहीं है। फिर भी कुछ मीडिया रिपोर्ट और फेसबुक पोस्ट में हिन्दुओं द्वारा दरवाजे पर लात मारने और करघे को नुकसान पहुँचाने की बात की जा रही है। जिस पर पुलिस का कहना है कि यह बाद का है, पहले मुस्लिमों ने ही पत्थरबाजी की है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जैतपुरा में पंजीकृत मुकदमा संख्या 69/21 धारा-147, 149, 323, 504, 336, 352 आईपीसी व 3(1) द, 3(1)ध, 3(2)v ए एससीएसटी एक्ट से सम्बन्धित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। साथ ही वाराणसी पुलिस ने मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए अजीम उम्र-52 पुत्र अजीमुल्ला व आसीम पुत्र शमीम अहमद निवासीगण लाट भैरव सरैया थाना जैतपुरा जनपद वाराणसी के दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

गौरतलब है कि इलाके के लोगों ने जैसा बताया कि वाराणसी का वह मुस्लिम बहुल इलाका पहले से भी संवेदनशील है। पहले भी कभी शिव बारात तो कभी होली को लेकर मुस्लिमों के इलाके में तनाव और पत्थरबाजी करने की खबरें आ चुकी हैं। फ़िलहाल अभी पुलिस ने मामले को सांप्रदायिक न कह कर बच्चों के बीच झगड़ा कहा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -