Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज12 साल की उम्र में नकी खान और उसके भाई ने किया था रेप:...

12 साल की उम्र में नकी खान और उसके भाई ने किया था रेप: 26 साल बाद FIR, बेटे का होगा DNA टेस्ट

पीड़िता के अनुसार, दुष्कर्म के बाद आरोपितों ने उसे धमकी दी थी कि वह किसी को कुछ न बताए। मगर, जब वह गर्भवती हुई तो सबको ये बात पता चल गई। वह समाज के डर से लखनऊ में जा बसी। जहाँ एक साल बाद उसने बेटे को जन्म दिया, जिसे बाद में हरदोई के किसी हिंदू दंपती ने गोद ले लिया।

उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर में 26 साल पहले हुआ बलात्कार का मामला चर्चा में आया है। एक महिला ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई है। उसका कहना है कि साल 1994 में उसके साथ बलात्कार हुआ था, जिसके बाद वह गर्भवती हो गई और एक बच्चे को जन्म दिया। अब वही बच्चा बड़ा हो गया है और अपने पिता का नाम जान उन्हें सजा दिलवाना चाहता है।

घटना के समय पीड़िता कथित तौर पर 12 साल की थी। दूसरे समुदाय के नकी खान ने उसके साथ दुष्कर्म किया। घटना वाले दिन वह शाहजहाँपुर स्थित अपने बहन-बहनोई के घर अकेली थी। तभी, नकी खान घर में घुसा और उसको दबोच कर बलात्कार किया। इस घटना के दो दिन बाद उसके भाई गुड्डू ने भी उसके साथ दुष्कर्म किया। 

अब पीड़िता ने 4 मार्च को कोर्ट के आदेश पर दोनों आरोपितों के विरुद्ध केस दर्ज करवाया है। 6 मार्च को वो अपना बयान भी दे चुकी है। पुलिस का कहना है कि डीएनए जाँच करवाकर मामले की तह तक जाया जाएगा।

पीड़िता के अनुसार, दुष्कर्म के बाद आरोपितों ने उसे धमकी दी थी कि वह किसी को कुछ न बताए। मगर, जब वह गर्भवती हुई तो सबको ये बात पता चल गई। वह समाज के डर से लखनऊ में जा बसी। जहाँ एक साल बाद उसने बेटे को जन्म दिया, जिसे बाद में हरदोई के किसी हिंदू दंपती ने गोद ले लिया।

दूसरी ओर, वर्ष 2000 में परिवार ने पीड़िता की शादी गाजीपुर में कर दी, लेकिन 6 साल बाद जब ससुराल वालों को घटना का पता चला तो उसे फिर अकेले छोड़ दिया गया। 2011 में एक दिन उसकी जिंदगी फिर तब पलटी जब हरदोई वाले परिवार ने उसे उसके बेटे के बारे में बताया। 

पीड़िता पहले उससे अपनी पहचान छिपा-छिपा कर मिली, लेकिन कुछ समय बाद उसने सच्चाई बता दी। हकीकत जान कर लड़का लखनऊ में ही रहने लगा। माँ की आपबीती सुन उसने आरोपितों को सजा दिलाने की ठानी और कहा कि अगर आरोपितों को सजा नहीं मिली तो वह आत्महत्या कर लेगा।

इसी के बाद शनिवार को महिला सदर थाने के प्रभारी निरीक्षक अशोक पाल से मिली। जहाँ विवेचक मंगल सिंह ने महिला कॉन्सटेबल की मौजूदगी में बयान दर्ज कराया। दैनिक जागरण के अनुसार प्रभारी निरीक्षक अशोक पाल का कहना है कि बयान दर्ज होने के बाद कोर्ट में अब डीएनए परीक्षण की प्रक्रिया पूरी कराई जाएगी। फिर संबंधित सभी लोगों को नोटिस जारी होंगे। उसी आधार पर आगे कार्रवाई बढ़ेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe