Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज12 साल की उम्र में नकी खान और उसके भाई ने किया था रेप:...

12 साल की उम्र में नकी खान और उसके भाई ने किया था रेप: 26 साल बाद FIR, बेटे का होगा DNA टेस्ट

पीड़िता के अनुसार, दुष्कर्म के बाद आरोपितों ने उसे धमकी दी थी कि वह किसी को कुछ न बताए। मगर, जब वह गर्भवती हुई तो सबको ये बात पता चल गई। वह समाज के डर से लखनऊ में जा बसी। जहाँ एक साल बाद उसने बेटे को जन्म दिया, जिसे बाद में हरदोई के किसी हिंदू दंपती ने गोद ले लिया।

उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर में 26 साल पहले हुआ बलात्कार का मामला चर्चा में आया है। एक महिला ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई है। उसका कहना है कि साल 1994 में उसके साथ बलात्कार हुआ था, जिसके बाद वह गर्भवती हो गई और एक बच्चे को जन्म दिया। अब वही बच्चा बड़ा हो गया है और अपने पिता का नाम जान उन्हें सजा दिलवाना चाहता है।

घटना के समय पीड़िता कथित तौर पर 12 साल की थी। दूसरे समुदाय के नकी खान ने उसके साथ दुष्कर्म किया। घटना वाले दिन वह शाहजहाँपुर स्थित अपने बहन-बहनोई के घर अकेली थी। तभी, नकी खान घर में घुसा और उसको दबोच कर बलात्कार किया। इस घटना के दो दिन बाद उसके भाई गुड्डू ने भी उसके साथ दुष्कर्म किया। 

अब पीड़िता ने 4 मार्च को कोर्ट के आदेश पर दोनों आरोपितों के विरुद्ध केस दर्ज करवाया है। 6 मार्च को वो अपना बयान भी दे चुकी है। पुलिस का कहना है कि डीएनए जाँच करवाकर मामले की तह तक जाया जाएगा।

पीड़िता के अनुसार, दुष्कर्म के बाद आरोपितों ने उसे धमकी दी थी कि वह किसी को कुछ न बताए। मगर, जब वह गर्भवती हुई तो सबको ये बात पता चल गई। वह समाज के डर से लखनऊ में जा बसी। जहाँ एक साल बाद उसने बेटे को जन्म दिया, जिसे बाद में हरदोई के किसी हिंदू दंपती ने गोद ले लिया।

दूसरी ओर, वर्ष 2000 में परिवार ने पीड़िता की शादी गाजीपुर में कर दी, लेकिन 6 साल बाद जब ससुराल वालों को घटना का पता चला तो उसे फिर अकेले छोड़ दिया गया। 2011 में एक दिन उसकी जिंदगी फिर तब पलटी जब हरदोई वाले परिवार ने उसे उसके बेटे के बारे में बताया। 

पीड़िता पहले उससे अपनी पहचान छिपा-छिपा कर मिली, लेकिन कुछ समय बाद उसने सच्चाई बता दी। हकीकत जान कर लड़का लखनऊ में ही रहने लगा। माँ की आपबीती सुन उसने आरोपितों को सजा दिलाने की ठानी और कहा कि अगर आरोपितों को सजा नहीं मिली तो वह आत्महत्या कर लेगा।

इसी के बाद शनिवार को महिला सदर थाने के प्रभारी निरीक्षक अशोक पाल से मिली। जहाँ विवेचक मंगल सिंह ने महिला कॉन्सटेबल की मौजूदगी में बयान दर्ज कराया। दैनिक जागरण के अनुसार प्रभारी निरीक्षक अशोक पाल का कहना है कि बयान दर्ज होने के बाद कोर्ट में अब डीएनए परीक्षण की प्रक्रिया पूरी कराई जाएगी। फिर संबंधित सभी लोगों को नोटिस जारी होंगे। उसी आधार पर आगे कार्रवाई बढ़ेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -