Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज'यह आपकी मेहनत है': डायरेक्टर का नेशनल अवाॅर्ड लौटा गए चोर, घर के बाहर...

‘यह आपकी मेहनत है’: डायरेक्टर का नेशनल अवाॅर्ड लौटा गए चोर, घर के बाहर छोड़ी चिट्ठी में लिखा- सर माफ कर दो

चोरों ने फिल्म डायरेक्टर के घर से कैश, सोना तो चुराया ही, साथ ही उनके द्वारा जीते गए 2 नेशनल अवॉर्ड की ट्रॉफिया भी उड़ा ले गए। बाद में उसे लौटा दिया।

तमिलनाडु में एक अजीब घटना घटी है। यहाँ के मदुरै में में रहने वाले फिल्म डायरेक्टर के घर चोरों ने बीते गुरुवार (7 फरवरी) की रात चोरी की घटना को अंजाम दिया। चोरों ने फिल्म डायरेक्टर के घर से कैश, सोना तो चुराया ही, साथ ही उनके द्वारा जीते गए 2 नेशनल अवॉर्ड की ट्रॉफिया भी उड़ा ले गए। इस घटना की पुलिस जाँच ही कर रही थी, कि अब चोरी किए गए पदक चोरों ने वापस कर दिए, साथ ही माफी नामे के साथ एक नोट भी छोड़ा है। इस खबर के सामने आने के बाद से सब हैरान हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, ये मामला दो-दो नेशनल अवॉर्ड जीत चुके तमिल फिल्म डायरेक्टर एम मणिकंदन से जुड़ा है। यहाँ चोरों ने कैश, सोना और नेशनल अवॉर्ड के तौर पर मिले दो पदक उड़ा ले गए। चोर बाकायदा सेंध लगाकर उनके घर में घुसे थे। उनके घर से 1 लाख रुपए नकद के साथ लाखों रुपए का सोना भी चोर ले गए। हालाँकि चोरी के कुछ दिनों बाद शायद चोरों का मन बदल गया।

चोरों ने सोमवार की रात (12 फरवरी 2024) को उनके घर के बाहर नेशनल अवॉर्ड के रूप में मिले दोनों पदकों और तमिल में माफीनामा लिख कर एक प्लास्टिक बैग में रख कर छोड़ दिया। चोरों ने माफी नामे में लिखा, “सर, हमें माफ कर दो, ये (अवॉर्ड) आपकी मेहनत है।” इस घटना के बाद स्थानीय पुलिस मामले की जाँच में जुट गई। हालाँकि उस इलाके में सीसीटीवी कैमरों के न लगे होने की वजह से चोरों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

मणिकंदन ने जीते हैं दो नेशनल अवॉर्ड

मणिकंदन की पहली फिल्म ‘काका मुत्तई’ को साल 2015 में 62वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्म का अवॉर्ड मिला था। वहीं, पिछले साल ही ‘कदैसी विवासयी’ फिल्म को सर्वश्रेष्ठ तमिल फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिला था। वो चेन्नई में रहते हैं, लेकिन मदुरै के उसिलामपट्टी में ये घर है। जहाँ कुछ लोगों को उन्होंने देखरेख लिए रखा है। उन्होंने चोरी की वारदात की पुलिस में शिकायत भी की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -