पूरी दुनिया से कहा पाक को ‘आतंकी देश’ घोषित करो, खुद के प्रस्ताव में नाम भी नहीं!

क्या वजह थी कि सर्वदलीय बैठक में पाकिस्तान को एक ‘आतंकवाद का समर्थक’ देश घोषित नहीं किया गया? सत्तर सालों से जो देश हमें घाव दे रहा है नाम लेने में क्या हर्ज़ है भला?

14 फरवरी को CRPF के काफिले पर हुए हमले के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह के नेतृत्व में 16 को एक सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक के बाद एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसमें यह कहा गया कि सभी दल पुलवामा में हुए आतंकी हमले की भर्त्सना करते हैं और आतंकवाद की हर रूप में निंदा करते हैं। पारित हुए प्रस्ताव में यह भी कहा गया कि सभी दल सीमा पार द्वारा समर्थन प्राप्त आतंकवाद की कड़ी निंदा करते हैं।  

लेकिन पूरे प्रस्ताव में कहीं भी पाकिस्तान का नाम तक नहीं लिया गया। हमारे प्रधानमंत्री हर जगह जाकर पाकिस्तान को भिखमंगा देश और न जाने क्या-क्या कह रहे हैं लेकिन सर्वदलीय बैठक में पारित प्रस्ताव में एक बार भी पाकिस्तान का नाम नहीं लिया गया। यह आश्चर्यजनक होने के साथ ही बड़ी विचित्र विडंबना है कि पूरे देश के साथ प्रधानमंत्री भी पाकिस्तान को अपने भाषणों में कोस रहे हैं और चेतावनी भी दे रहे हैं लेकिन जब आतंकी हमले का विरोध करने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई जाती है तब उसमें पाकिस्तान का कहीं ज़िक्र तक नहीं किया जाता।

क्या राजनाथ सिंह सर्वदलीय बैठक में पाकिस्तान का नाम लेने से डर रहे थे? अगर नहीं तो ऐसी क्या वजह थी कि सर्वदलीय बैठक में पाकिस्तान को एक ‘आतंकवाद का समर्थक’ देश घोषित नहीं किया गया? सत्तर सालों से जो देश हमें घाव दे रहा है नाम लेने में क्या हर्ज़ है भला?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वैसे यह पहली बार नहीं है जब कई दलों के नेता मिले, आतंकवाद की कड़ी निंदा की और पाकिस्तान का नाम नहीं लिया। संसद में भी जब राजीव चंद्रशेखर ने प्राइवेट मेंबर बिल लाकर पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की माँग की थी तब भी यह बिल पारित नहीं हुआ था। आखिर संसद और सभी दलों की क्या मजबूरी है कि वे बयानों और भाषणों में तो पाकिस्तान का नाम लेने से नहीं चूकते लेकिन जब आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की बारी आती है तब मुकर जाते हैं।

पूरे प्रस्ताव में पाकिस्तान का नाम नहीं!

हमारे देश में पाकिस्तान प्रेम का एक विचित्र प्रकार का कीड़ा है जिसने सबको काटा है। बहुत कम ही लोग हैं जो इसके दंश से अछूते हैं। सिनेमा जगत और क्रिकेट के अलावा मीडिया का भी पाकिस्तान प्रेम छिपा नहीं है। जब इमरान खान को पाकिस्तान का प्रधानमंत्री चुना गया था तब हमारे मीडिया संस्थान इस पर लहालोट हो रहे थे कि अब पाकिस्तान में जम्हूरियत का सितारा बुलंद होगा।

हद तो तब हो गई थी जब सन 2013 में शीर्षस्थ जाँच एजेंसी सीबीआई ने विदेश मंत्रालय से अनुमति माँगी थी कि सीबीआई के स्थापना दिवस पर क़ुर्बान अली के परिवार को आमंत्रित किया जाए। यह माँग स्वीकार तो नहीं की गई थी लेकिन इसका कारण जानना आवश्यक है। दरअसल क़ुर्बान अली खान वह शख्स था जिसने भारत को हज़ार वर्षों में हज़ार घाव (bleeding India by thousand cuts) देने की रणनीति बनाई थी। चूँकि ब्रिटिश भारत में सीबीआई की पूर्वज एजेंसी का अध्यक्ष क़ुर्बान अली ही था इसलिए सीबीआई के कुछ अफसरों ने स्थापना दिवस पर उसके परिवारवालों को बुलाने का विचार किया था।

ग़ौर करें तो एक तरफ भारतीय सुरक्षा एजेंसियाँ क़ुर्बान अली की रणनीति को विफल करने में लगी थीं तो दूसरी तरफ सीबीआई के कुछ अधिकारी क़ुर्बान अली के परिवार को आमंत्रण देने की बात कर रहे थे। सोचने वाली बात यह है कि भारत को ऐसे विचारों से सर्वाधिक खतरा है। यह वैसा ही जैसे आप भाषणों में पाकिस्तान की भरसक निंदा करें लेकिन अपने देश की संसद में उसे एक आतंकी देश घोषित करने में आनाकानी करें।

इन बातों का सार यह है कि पाकिस्तान को लेकर भारत में राष्ट्रीय स्तर पर विचारों में एकरूपता नहीं है। कोई ऐसा सार्वजनिक पटल नहीं है जहाँ सर्वसम्मति से एक सुर में सभी भारतीय- चाहे वह नेता हों, अभिनेता हों, खिलाड़ी, सरकारी कर्मचारी या फिर पत्रकार- पाकिस्तान के प्रति एक राय, एक विचार रखें। सवाल है कि ऐसे ‘नेशनल कन्सेंसस’ की आवश्यकता क्यों है?

सर्वसम्मति की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि हमारा शत्रु एक है- ‘आतंकवाद’। जो भी देश आतंक का भरण पोषण करता है वह हमारे लिए आतंकी देश होना चाहिए। यह विचार भारत के प्रत्येक संस्थान और व्यक्ति द्वारा बिना किसी रिलिजियस अथवा सामुदायिक भेदभाव के अंगीकार किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि इस प्रकार के कानून अमेरिका ने बनाए हैं लेकिन हमारा रवैया पाकिस्तान के प्रति कभी स्पष्ट नहीं रहा।

भारत ने संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन 1373 को स्वीकार किया है लेकिन हमारे यहाँ आतंकवाद को परिभाषित करने वाला कोई कानून नहीं है। विधिविरुद्ध क्रिया-कलाप (निवारण) अधिनियम (UAPA) आतंकी गतिविधियों को तो परिभाषित करता है लेकिन आतंकवाद को परिभाषित नहीं करता। इस बात की क्या गारंटी है कि भविष्य में आतंकवाद उसी रूप में हमारे सामने आएगा जो UAPA एक्ट में परिभाषित है?

आज हम पाकिस्तान को FATF जैसे अंतर्राष्ट्रीय फोरम पर ब्लैकलिस्ट करवाना चाहते हैं और संयुक्त राष्ट्र से यह मांग करते हैं कि आतंकवाद की परिभाषा गढ़ी जाए लेकिन जब हम स्वयं आधिकारिक रूप से पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित नहीं कर पा रहे हैं तो इसका सीधा अर्थ यही है कि आतंकवाद से लड़ने की हमारी प्रतिबद्धता दृढ़ नहीं है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

"आज भगवा वस्त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं, भगवा वस्त्र पहनकर बलात्कार हो रहे हैं, मंदिरों में बलात्कार हो रहे हैं। क्या यही हमारा धर्म है? हमारे सनातन धर्म को जिन लोगों ने बदनाम किया है, उन्हें ईश्वर माफ़ नहीं करेगा।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

शरद पवार

पाकिस्तान जैसा प्यार कहीं नहीं मिला, 370 हटाने से बढ़ेगा आतंकवाद: शरद पवार

"मैं पाकिस्तान गया हूँ। वहाँ के लोगों में मेहमाननवाजी कूट-कूट कर भरी है।पाकिस्तान के बारे में गलत चित्र पेश किया जा रहा है कि वहाँ लोग खुश नहीं हैं। यहाँ (भारत) सरकार राजनीतिक लाभ लेने के लिए पाकिस्तान के बारे में झूठी खबरें फैला रही है।”
हिना सिद्धू, मलाला युसुफ़ज़ई

J&K पाकिस्तान को देना चाहती हैं मलाला, पहले खुद घर लौटकर तो दिखाएँ: पूर्व No.1 शूटर हिना

2013 और 2017 विश्वकप में पहले स्थान पर रह कर गोल्ड मेडल जीत चुकीं पिस्टल शूटर हिना सिद्धू ने मलाला को याद दिलाया है कि ये वही पाकिस्तान है, जहाँ कभी उनकी जान जाते-जाते बची थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए कितने मौके हैं, इसे मलाला बेहतर जानती हैं।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
सिंध, पाकिस्तान

मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने हिन्दू शिक्षक को पीटा, स्कूल और मंदिर में मचाई तोड़फोड़

इस हमले में कट्टरपंथी नेता मियाँ मिट्ठू का हाथ सामने आया है। उसने न सिर्फ़ मंदिर बल्कि स्कूल को भी नुक़सान पहुँचाया। मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने पुलिस के सामने शिक्षक की पिटाई की, मंदिर में तोड़फोड़ किया और स्कूल को नुक़सान पहुँचाया।
सुप्रीम कोर्ट, राम मंदिर

अगर राम जन्मस्थान को लेकर आस्था है तो इस पर सवाल नहीं उठा सकते: सुप्रीम कोर्ट

मुस्लिम पक्षकार राजीव धवन ने अदालत में दावा किया कि पहले हिंदू बाहर के अहाते में पूजा करते थे, लेकिन दिसंबर 22-23, 1949 की रात रामलला की मूर्ति को अवैध तरीके से मस्जिद के अंदर शिफ्ट कर दिया गया।
सीजेआई रंजन गोगोई

CJI रंजन गोगोई: कश्मीर, काटजू, कन्हैया…CM पिता जानते थे बेटा बनेगा मुख्य न्यायाधीश

विनम्र स्वभाव के गोगोई सख्त जज माने जाते हैं। एक बार उन्होंने अवमानना नोटिस जारी कर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को अदालत में तलब कर लिया था। काटजू ने सौम्या मर्डर केस में ब्लॉग लिखकर उनके फैसले पर सवाल उठाए थे।
सुब्रमण्यम स्वामी: राजनीति के लिए free market/हिंदुत्व, या free market/हिंदुत्व के लिए राजनीति?

सियासत का स्वामी: जिसके कारण गॉंधी कठघरे में आए, वाजपेयी गए और रामसेतु बचा

स्वामी की ‘legacy’ के आकलन में पार्टी, विचारधारा और निष्ठा को एक ही चीज़ मानकर देखने पर वे शायद ‘मौकापरस्त’, नज़र आएँगे। लेकिन किसी नेता को आंकने के पैमाने के तौर पर उसके कर्म उसके शब्दों से अधिक सटीक होते हैं और स्वामी को इसी कसौटी पर परखा जाना चाहिए।
अखिलेश यादव-मुलायम सिंह यादव

लोहिया ट्रस्ट की बिल्डिंग यादव परिवार के कब्जे से मुक्त, सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर योगी सरकार ने की कार्रवाई

लोहिया ट्रस्ट के मुलायम सिंह यादव अध्यक्ष और शिवपाल सिंह यादव सचिव हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और कई शीर्ष नेता ट्रस्ट के सदस्य हैं। यह बिल्डिंग शिवपाल यादव की पार्टी के कब्जे में थी और पिछले कुछ महीने से इसका बाजार दर पर किराया वसूला जा रहा था।
हिन्दू लड़की की हत्या

…बस एक एग्जाम और डेंटल डॉक्टर बन जातीं नमृता लेकिन पाकिस्तान में रस्सी से बंधा मिला शव

बहन के मृत शरीर को देख नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने कहा, "उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर भी निशान हैं, जैसे कोई व्यक्ति उन्हें पकड़ रखा था। हम अल्पसंख्यक हैं, कृपया हमारे लिए खड़े हों।"
सरदार पटेल, ऑपरेशन पोलो हैदराबाद

जब सरदार पटेल ने हैदराबाद को कश्मीर बनने से रोका: कहानी निज़ाम को झुकाने वाले Operation Polo की

108 घंटे तक चले इस ऑपरेशन के दौरान 18 सितम्बर को भारतीय सेना हैदराबाद में घुसी। हैदराबाद की सरकार ने 17 सितम्बर को ही इस्तीफा दे दिया था। हाउस अरेस्ट में किए जाने का बाद निज़ाम अब ये कह कर भुलावा दे रहा था कि वह नई सरकार का गठन करेगा।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,064फैंसलाइक करें
15,046फॉलोवर्सफॉलो करें
97,457सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: