Thursday, November 26, 2020
Home बड़ी ख़बर कॉन्ग्रेस में 'G' प्रथा को तोड़िए चिदंबरम जी, सबरीमाला-राम मंदिर आपसे न हो पाएगा

कॉन्ग्रेस में ‘G’ प्रथा को तोड़िए चिदंबरम जी, सबरीमाला-राम मंदिर आपसे न हो पाएगा

सबरीमाला मंदिर कोई प्रथा नहीं हैं बल्कि यह एक विश्वास है, ठीक उसी तरह जैसे हिंदू का विश्वास राम मंदिर में है, मुस्लिम का विश्वास अल्लाह में है और ईसाईयों का विश्वास ईशु में।

लोकसभा चुनाव को अब ज्यादा समय नहीं बाक़ी बचा है। कुछ ही महीनों बाद यह तय हो जाएगा कि सत्ता की कुर्सी पर आने वाले पाँच सालों के लिए जनता किसे चुनेगी। चुनाव चाहे पंचायत का हो या फिर नगर निगम का, हवाओं में ऑक्सीजन से ज्यादा राजनीति अपने आप ही महसूस होने लगती है। और ऐसे में फिर, साल 2019 हो- लोकसभा के चुनाव हों- सत्ता में भाजपा की सरकार हो… तो सोचिए! विपक्षी पार्टियों में कितना हड़कंप होगा। हवा छोड़ दीजिए, खाने-पीने की चीजों तक पर राजनीति होगी। न सरकार के फैसलों को छोड़ा जाएगा और न देश की सेना को।

ऐसे ही थोड़ी बुआ-बबुआ ने सालों पुरानी दुश्मनी को भुलाकर अपने मेल को महागठबंधन का नाम दिया है… ‘राजनीति में कभी न आऊँगी’ कहने वाली प्रियंका ऐसे ही कॉन्ग्रेस की महासचिव थोड़ी बनी हैं… ज़हरीली शराब के मुद्दे पर ऐसे ही अखिलेश योगी सरकार को दोषी थोड़ी बता रहे हैं… ऐसी अनेकों अनेक बातें आपको सिर्फ़ यही बता रही हैं कि चुनाव नज़दीक है और अब कुर्सी की लड़ाई के लिए हर हथकंडा आज़माया जाएगा। अब इन हथकंडों में फिर चाहे राहुल को मशीन से आलू डालकर सोना ही क्यों न निकालना पड़ जाए, वो निकालेंगे और ऐसे करके एक बार फिर वो देश को सोने की चिड़िया जरूर बनाएँगे।

लोकसभा चुनाव नज़दीक हैं लेकिन राजनैतिक दल अपने मेनिफ़ेस्टो पर फ़ोकस करने से ज्यादा बयानबाज़ी करने में व्यस्त हैं। यह बात देश का लगभग हर नागरिक जानता है कि राम जन्मभूमि और सबरीमाला दो ऐसे संवेदनशील मामले हैं जिनसे हिंदू लोगों की धार्मिक भावनाएँ जुड़ी हुई हैं। एक तरफ जहाँ अयोध्या में भगवान राम को छत दिलाने के लिए लोगों की जद्दोजहद ज़ारी है तो वहीं सबरीमाला में भगवान अयप्पा द्वारा लिए मूल प्रण को बचाने का प्रयास किया जा रहा है।

ऐसे में लोकतांत्रिक देश की सबसे ‘सेकुलर’ पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम का इस मामले पर बयान है कि राम मंदिर विश्वास का मामला है जबकि सबरीमाला ‘प्रथा’ है। चिदंबरम का मानना है कि इन मामलों को एक दूसरे के साथ मिलाना नहीं चाहिए। चिदंबरम ने यह टिप्पणी अपनी किताब ‘अनडॉटेड: सेविंग द आइडिया ऑफ इंडिया’ किताब के विमोचन के दौरान कही है।

पूर्व वित्त मंत्री ने सबरीमाला और राम मंदिर पर पूछे सवालों का जवाब देते हुए कहा, “राम मंदिर प्रथा का मामला नहीं है, यह विश्वास का मामला है, जबकि सबरीमाला एक प्रथा है जो कि आधुनिक संवैधानिक मूल्यों के ख़िलाफ है।”

चिदंबरम का कहना है कि बीते चार साल देश के लिए त्रासदी से कम नहीं है, हर ओर तानाशाही ही नजर आई है। साथ ही पिछले चार सालों में किसानों के साथ इतना बुरा बर्ताव हुआ है, जिसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती है। चिदंबरम ने पूरी बातचीत में अपनी पार्टी को स्पष्ट तौर पर सेकुलर पार्टी बताते हुए कहा कि भाजपा की छवि साफ़ तौर पर मुस्लिम और अल्पसंख्यक विरोधी बनी है।

चिदंबरम जैसे वरिष्ठ नेता का ऐसा बयान वाकई किसी को भी सोचने पर मजबूर करेगा कि क्या वाकई भाजपा के काल में यह सब चल रहा है। क्या वाकई सबरीमाला मात्र एक प्रथा है। ऑपइंडिया पर लिखे आर्टिकल में  स्पष्ट रूप से इस बात का वर्णन है कि सबरीमाला मंदिर कोई प्रथा नहीं हैं बल्कि यह एक विश्वास है, ठीक उसी तरह जैसे हिंदू का विश्वास राम मंदिर में है, मुस्लिम का विश्वास अल्लाह में है और ईसाईयों का विश्वास ईशु में।

सबरीमाला में औरतों के प्रवेश पर जो निषेध है वो सिर्फ इसलिए क्योंकि उस मंदिर में विराजमान अयप्पा भगवान ने ब्रहमचर्य का प्रण लिया था, जिसके कारण उस मंदिर में तय उम्र की महिलाओं का जाना मना है। अब खुद सोचिए, अगर यह विश्वास नहीं है तो फिर क्या है… कल को अगर चिदंबरम राम मंदिर बनने पर ही कहने लगें कि राम तो मात्र एक कल्पना है ऐसे में उनके लिए इतना विवाद सिर्फ़ लोगों की अंधभक्ति को दिखाता है… तो क्या कर लिया जाएगा… शायद कुछ भी नहीं। क्योंकि जिन्हें भावनाओं को बिना जाने-समझे प्रथा का नाम देना है, वो कल को क्या कह दें, कुछ नहीं पता। ख़ास यह है कि ऐसे लोगों को फ़र्क़ भी कुछ नहीं पड़ता कि उनके कहने से कितने लोगों की भावनाएँ आहत होती हैं। अपने अधिकारों पर लड़ने वाले ‘सेकुलर’ लोग भगवान की निजता के अधिकार को ‘प्रथा’ बताकर छीनने की कोशिश कर रहे हैं… कलयुग यही है।

मुझे लगता है कि माननीय पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को अर्थशास्त्र से जुडे़ मुद्दों पर ही सीमित रह जाना चाहिए। उन्हें गौर करना चाहिए कि राहुल की न्यूनतम आय की घोषणा पर उनके द्वारा लगाया अनुमान गलत कैसे हो सकता है, क्योंकि समाजिक मुद्दों पर दिए गए उनके बयान तो किसी भी रूप में संतोषजनक नहीं हैं, ऐसे में वो अर्थशास्त्र पर ही फोकस करें।

‘विश्वास और आस्था’ को ‘प्रथा’ का नाम देने वाले चिदंबरम जी को पहले इन शब्दों में फर्क समझने की अति आवश्यकता है। प्रथा वो है, जिसमें कॉन्ग्रेस पार्टी की विचारधारा लीन है। ‘परिवारवाद’ है प्रथा चिदंबरम जी… और अगर ये प्रथा नहीं है तो ‘राहुल गाँधी’ ही क्यों कॉन्ग्रेस पार्टी के अध्यक्ष हैं… आप बन जाइए! आँकड़ों पर तो आप ‘गल्त’ हो ही चुके हैं अब सामाजिक मुद्दों पर भी बोलने लगे हैं, हद है। और इतनी उम्मीद तो हमें आप से है ही कि आप आज़ादी से पहले अस्तित्व में आई कॉन्ग्रेस पार्टी की साख़ यह कहकर तो बिलकुल धूमिल नहीं करेंगे कि हम एक तरफ से आलू डालेंगे तो वो दूसरी तरफ से सोना आएगा… उसके लिए राहुल गाँधी ही ‘परफ़ेक्ट’ हैं क्योंकि ‘प्रथा-वश’ वो अध्यक्ष भी हैं आपके।

मैं बतौर देश की नागरिक आप राजनेताओं की राजनीति को लगातार समझने का प्रयास कर रहीं हूँ, थोड़ा आप भी हम नागरिकों की जरूरतों और भावनाओं को समझने का प्रयास कीजिए। वरना आप सिर्फ मौक़ापरस्त होकर बयानबाजी करते रहेंगे और अपने लिए मौके की माँग करते रह जाएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाबालिगों से गैंगरेप, जबरन मुस्लिम बनाना, नाम बदल कर दोस्ती… SIT की वह रिपोर्ट जिसे वामपंथी नकार रहे हैं

ऑपइंडिया के पास मौजूद SIT रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा है कि यह ग्रूमिंग जिहाद के कुछ बेहद चर्चित मामले थे, जिनमें हिन्दू युवतियों को धोखा देकर उनके धर्मांतरण का प्रयास या उनका उत्पीड़न किया गया।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

संविधान दिवस पर PM मोदी ने की एक राष्ट्र और एक चुनाव पर बात, कहा- ये केवल विमर्श का नहीं बल्कि देश की जरूरत

"हमारे निर्णय का आधार एक ही मानदंड होना चाहिए और वो है राष्ट्रहित। राष्ट्रहित ही हमारा तराजू होना चाहिए। हमें ये याद रखना है कि जब विचारों में देशहित और लोकहित की बजाय राजनीति हावी होती है तो उसका नुकसान देश को उठाना पड़ता है।"

संविधान दिवस: आरक्षण किसे और कब तक, समान नागरिक संहिता पर बात क्यों नहीं? – कुछ फैसले जो अभी बाकी हैं

भारत की धर्म निरपेक्षता के खोखलेपन का ही सबूत है कि हिंदुओं के पास आज अपनी एक 'होम लैंड' नहीं है जबकि कथित अल्पसंख्यक...

बंगाल: मर्डर, फायरिंग, बमबाजी, आगजनी… BJP के प्रदेश अध्यक्ष से लेकर बूथ अध्यक्ष तक बने निशाना

बीजेपी (BJP) ने दक्षिण दिनाजपुर में अपने बूथ अध्यक्ष स्वाधीन राय की हत्या का आरोप सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के गुंडों पर लगाया है।

डॉ. वर्गीज कुरियन: भारत में ‘ह्वाइट मनी’ की धारा बहाने वाला नायक, जिसने दिया ‘द टेस्ट ऑफ इंडिया’

26 नवंबर 1921 को कालीकट में पैदा हुए डॉ. वर्गीज कुरियन ने गुजरात के आनंद को कर्मभूमि बनाई। AMUL को दुनिया भर में एक ब्रांड… और भारत को डेयरी उत्पादन का नंबर #1 देश बनाया।

प्रचलित ख़बरें

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

हाथ में कलावा, समीर चौधरी नाम की ID: ‘हिंदू आतंकी’ की तरह मरना था कसाब को – पूर्व कमिश्नर ने खोला राज

"सभी 10 हमलावरों के पास फर्जी हिंदू नाम वाले आईकार्ड थे। कसाब को जिंदा रखना पहली प्राथमिकता थी। क्योंकि वो 26/11 मुंबई हमले का सबसे बड़ा और एकलौता सबूत था। उसे मारने के लिए ISI, लश्कर-ए-तैयबा और दाऊद इब्राहिम गैंग ने..."

ओवैसी को सूअर वाली स्वादिष्ट बिरयानी खिलाने का ऑफर, AIMIM नेता के बीफ बिरयानी पर BJP का पलटवार

"मैं आपको आज बिरयानी का निमंत्रण दे रहा हूँ। वाल्मिकी समुदाय के लोग पोर्क के साथ बिरयानी अच्छी बनाते हैं। आइए हम आपको स्वादिष्ट बिरयानी..."

जहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की जय: मुर्दों को देख कसाब को आई थी उल्टी

पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया सुबह साढ़े चार बजे कसाब से कहते हैं कि वो अपना माथा ज़मीन से लगाए... और उसने ऐसा ही किया। इसके बाद जब कसाब खड़ा हुआ तो मारिया ने कहा, “भारत माता की जय बोल” कसाब ने फिर ऐसा ही किया। मारिया दोबारा भारत माता की जय बोलने के लिए कहते हैं तो...

‘माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला’ – बलिदानी ओंबले के भतीजे का वो गीत… जिसे सुन पुलिस में भर्ती हुए 13 युवा

सामने वाले के हाथों में एके-47... लेकिन ओंबले बिना परवाह किए उस पर टूट पड़े। ट्रिगर दबा, गोलियाँ चलीं लेकिन ओंबले ने कसाब को...
- विज्ञापन -

2008 में फार्म हाउस में पार्टी, अब कर रहे इग्नोर: 26/11 पर राहुल गाँधी की चुप्पी 12 साल बाद भी बरकरार

साल 2008 में जब पाकिस्तान के आतंकी मुंबई के लोगों को सड़कों पर मार चुके थे उसके कुछ दिन बाद ही गाँधी परिवार के युवराज अपने दोस्त की संगीत रस्म को इंजॉय कर रहे थे।

’26/11 RSS की साजिश’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के चहेते पत्रकार ने PAK को क्लिन चिट देकर हमले का आरोप मढ़ा था भारतीय सेना पर

साल 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अजीज़ को उसके उर्दू भाषा अखबार रोजनामा राष्ट्रीय सहारा के लिए उत्कृष्ट अवार्ड दिया था। कॉन्ग्रेस में अजीज़ को सेकुलरिज्म का चमचमाता प्रतीक माना जाता था।

नाबालिगों से गैंगरेप, जबरन मुस्लिम बनाना, नाम बदल कर दोस्ती… SIT की वह रिपोर्ट जिसे वामपंथी नकार रहे हैं

ऑपइंडिया के पास मौजूद SIT रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा है कि यह ग्रूमिंग जिहाद के कुछ बेहद चर्चित मामले थे, जिनमें हिन्दू युवतियों को धोखा देकर उनके धर्मांतरण का प्रयास या उनका उत्पीड़न किया गया।

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

26/11 की नाकामी छिपाने के लिए कॉन्ग्रेस चाटुकारों की फौज के साथ किसानों को भड़काने में जुटी, शेयर की पुरानी तस्वीरें

कॉन्ग्रेस की एकमात्र कोशिश है कि बस किसी तरह लोगों का ध्यान इस दिन किसी दूसरे मुद्दे की ओर भटक जाए और कोई उनकी नाकामयाबी व कायरता पर बात न करे।

केरल: राहुल गाँधी ने बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजी थी राहत किटें, बंद दुकान में लावारिस मिलीं

बाढ़ प्रभावितों के लिए राहुल गाँधी की तरफ से भेजी गई राहत किटें केरल के एक दुकान में लावारिस मिली हैं।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

शादी के लिए धर्म-परिवर्तन की धमकी पर 10 साल, कराने वाले मौलवियों/पुजारियों को 5 साल सजा: MP में सख्त विधेयक

शादी में धर्मांतरण का लालच देने, धमकाने और दबाव बनाने पर 10 साल की सज़ा का प्रावधान होगा। मध्य प्रदेश में इस विधेयक का मसौदा...

ट्विटर ने सुशील मोदी का ट्वीट किया डिलीट: लालू यादव को एक्सपोज़ करने में नियमों के उल्लंघन को बताया वजह

सुशील मोदी ने अपने ट्वीट में कहा था कि जब उन्होंने वापस उस नंबर को मिलाया तो लालू प्रसाद यादव ने सीधे फोन उठाया था। जिसके बाद उन्होंने जवाब दिया था कि यह गंदा खेल सफल नहीं होगा।

‘ललुआ का सब आदमी इसके साथ हो गया है’: वह सीट जो बार-बार कह रही थी सरकार एनडीए की ही बनेगी

बिहार कवरेज के दौरान हम केवटी सीट पर बार-बार गए। यही वह सीट थी जहाँ पहली बार 'माई समीकरण' को दरकते देखा और एनडीए की वापसी शत-प्रतिशत तय लगी।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,404FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe