Thursday, May 28, 2020
होम देश-समाज लाशों में गौ सेवा और शराब ले आने वाले संवेदनहीन अखिलेश अपने समय की...

लाशों में गौ सेवा और शराब ले आने वाले संवेदनहीन अखिलेश अपने समय की 33 मौतें भूल गए

तार्किक बातों को छोड़कर उन्होंने लोगों की मौत को गाय और राजस्व से जोड़ दिया। इस तरह की बयानबाज़ी बताती है कि अखिलेश को लोगों की मौत से कोई लेना-देना नहीं, उन्हें बस मुस्कुराते हुए मज़े लेने की आदत है क्योंकि आजकल बुआ-बबुआ गठबंधन के बाद खाली बैठे हैं।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

उत्तर प्रदेश में ज़हरीली शराब को पीने के कारण सहारनपुर के अलग-अलग गाँवों में 16 लोग और कुशीनगर में 10 लोग अपनी जान से हाथ धो चुके है। यूपी में इन ज़हरीली शराबों की वजह से कुल 26 मौतें हो चुकी हैं। साथ ही दर्जनों लोग अस्पताल में ज़िंदगी और मौत के बीच झूल रहे हैं।

ज़ाहिर है ऐसे संवेदनशील मामले पर सरकार द्वारा सख़्त कार्रवाई की जानी चाहिए। इसलिए प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले में सख़्ती बरतते हुए जिलाधिकारियों को जल्द कार्यवाई करने के आदेश भी दिए हैं।

एक तरफ जहाँ इन घटनाओं से प्रदेश में दहशत फैली हुई है और प्रशासन में भी हड़कंप मचा हुआ हैं, वहीं मौके का फ़ायदा उठाते हुए पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इस मामले पर भी राजनीति करनी शुरू कर दी। ज़हरीली शराब के कारण लगातार हो रहीं मौतों के बीच अखिलेश ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए इन मौतों का ज़िम्मेदार मुख्यमंत्री योगी और उनकी सरकार को बताया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अखिलेश के बयान पर बात करने से पहले बता दें कि कुछ दिनों पहले यूपी सरकार ने पूरे राज्य में गोशालाएँ बनाने के लिए गौ कल्याण उपकर (सेस) लगाने का फ़ैसला किया था। इसके तहत 0.5 प्रतिशत सेस शराब के अलावा यह ‘कर’ उन सभी वस्तुओं पर है, जो उत्पाद कर के दायरे में आती हैं। लेकिन अखिलेश ने सरकार के फैसले को अपने बयान के साथ खूब तोड़-मरोड़ कर पेश किया।

अखिलेश ने लखनऊ स्थित सपा के दफ्तर में कहा कि योगी सरकार ने शराब पर गौ कल्याण टैक्स लगाया है। सरकार ने लोगों को लालच दिया है कि गाय सेवा सिर्फ़ तभी अच्छी होगी जब लोग शराब ज्यादा पिएँगे। अखिलेश का कहना है कि ग़रीब को नहीं पता है कि उसे कौन-सी शराब पीनी है। लेकिन सरकार को सब पता है, शराब पीने वालों को बढ़ाना चाहती है। उनका मानना है कि सरकार को यह भी पता है कि कौन ऐसी ज़हरीली शराब बना रहा है।

अखिलेश यादव के ऐसे बयानों को सुनकर लगता है कि योगी सरकार पर लगातार किसी भी मामले में, किसी भी तरह से आरोप लगाने वाले पूर्व सीएम अपना समय भूल गए हैं। योगी सरकार पर उँगली उठाने वाले अखिलेश भूल रहे हैं कि उनके राज में उन्नाव और लखनऊ में 33 लोगों की मौतें ज़हरीली शराब पीने से हुई थी। इसके बाद तात्कालीन सरकार और प्रशासन की ओर से काफ़ी बड़े-बडे़ दावे भी किए गए थे।

ऐसे में अखिलेश का इस मामले पर योगी सरकार को घेरना बेहद शर्मनाक है क्योंकि अखिलेश भी ऐसी स्थिति का सामना अपने शासनकाल में कर चुके हैं। जिनका सामना आज योगी आदित्यनाथ की सरकार कर रही है। अगर कोई शख़्स अपने घर पर शराब पी ले और उसे कुछ हो जाए तो उसकी ज़िम्मेदारी राज्य की नहीं होती। स्थिति को सुधारने पर बात करने से ज़्यादा अखिलेश का सरकार पर आरोप मढ़ना दर्शाता है कि वो सिर्फ़ मौक़ापरस्त राजनीति को हवा दे रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ज़हरीली शराब पीने से कई राज्यों में कभी न कभी दुर्भाग्यपूर्ण मौतें होती रही हैं। ऐसे लोगों पर, जो ऐसी शराब बनाते हैं, किसी सरकार ने एक्शन लिया होगा, किसी ने नहीं। ये हमें पता नहीं चलता क्योंकि मीडिया मौत की संख्या बता कर, सरकारों को कोस कर नए मुद्दे तलाशने में लग जाती है।

ख़ैर, अच्छा होता कि अखिलेश यादव अपनी संवेदनहीनता को, अपने समय में मौत होने के बावजूद, इस बात तक ही सीमित रखते कि उत्तर प्रदेश में ज़हरीली शराब कौन बना रहा है। उनका ये सवाल उचित होता कि प्रशासन आख़िर क्यों इन शराब की भट्टियों को चलने देता है। अगर वो लाइसेंस वाले हैं, तो अखिलेश यादव उन पर हत्या के मुक़दमे चलाने की बात कर सकते थे।

लेकिन नहीं, इन तार्किक बातों को छोड़कर उन्होंने लोगों की मौत को गाय और राजस्व से जोड़ दिया। इस तरह की बयानबाज़ी बताती है कि अखिलेश को लोगों की मौत से कोई लेना-देना नहीं, उन्हें बस मुस्कुराते हुए मज़े लेने की आदत है क्योंकि आजकल बुआ-बबुआ गठबंधन के बाद खाली बैठे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस: सीबीआई जॉंच को लेकर राज्यवर्धन राठौड़ ने गहलोत को लिखा खत, पुलिसकर्मियों के बयान दर्ज

विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस की सीबीआई मॉंग जोर पकड़ती जा रही है। वे 22 मई को अपने सरकारी क्वार्टर में फंदे से लटके मिले थे।

प्रतापगढ़ की लाली ने तोड़ा दम: 8 साल की मासूम को साहिल, वसीम, इकलाख ने मारी थी गोली

प्रतापगढ़ में गुंडों की गोली का शिकार बनी आठ साल की लाली पांडेय ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। लाली ने 7 दिन तक मौत से संघर्ष किया।

बिस्तर के नीचे जैकलीन कैनेडी की फोटो रखकर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

PM मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी: गायक मेनुल एहसान पर FIR, टैगोर पर भी कर चुका है विवादित कमेंट

PM मोदी को लेकर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में त्रिपुरा पुलिस ने बांग्लादेशी गायक मेनुल एहसान पर FIR दर्ज की है।

‘तेरे बाप के बाप के बाप को भी बात करनी पड़ेगी’: सपा MLA अबू आजमी ने महिला अफसर को धमकाया

सपा विधायक अबू आसिम आजमी पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा को अपशब्द कहते नजर आए हैं। भाजपा नेता किरीट सोमैया ने घटना का वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है।

स्टेशन पर मृत माँ को जगाता बच्चा… मार्मिक और वायरल वीडियो की कहानी से खेलती राणा अयूब – Fact Check

मृत महिला अपनी बहन, पति और 2 बच्चों के साथ यात्रा कर रही थीं। वो लंबी बीमारी से पीड़ित थीं और यात्रा के दौरान ट्रेन में ही उनकी मौत हो गई।

प्रचलित ख़बरें

‘पिंजरा तोड़’: वामपंथनों का गिरोह जिसकी भूमिका दिल्ली दंगों में है; ऐसे बर्बाद किया DU कैम्पस, जानिए सब कुछ

'पिंजरा तोड़' वामपंथी विचारधारा की विष-बेल बन दिल्ली यूनिवर्सिटी को बर्बाद कर रही है। दंगों में भी पुलिस ने इनकी भूमिका बताई है, क्योंकि दंगों की तैयारी के दौरान इनके सदस्य उन इलाकों में होते थे।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

एक बाजू गायब, सिर धड़ से अलग, बाल उखड़े हुए… कमरा खून से लथपथ: पंजाब में 80 वर्षीय संत की निर्मम हत्या

पंजाब के रूपनगर में 85 साल के संत की निर्मम हत्या कर दी गई। महात्मा योगेश्वर का सर धड़ से अलग था और उनका बाजु गायब था।

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

हमसे जुड़ें

208,638FansLike
60,526FollowersFollow
243,000SubscribersSubscribe
Advertisements