Thursday, September 24, 2020
Home विचार मीडिया हलचल एक लेख में 8 बार बु* शब्द का प्रयोग बताता है कि 'दि प्रिंट'...

एक लेख में 8 बार बु* शब्द का प्रयोग बताता है कि ‘दि प्रिंट’ का दिमाग कहाँ घुसा हुआ है

जिस खास शब्द पर ये पूरा का पूरा लेख है, उसे इसमें बार-बार प्रयोग करने की बजाए उसकी जगह कुछ और भी लिखा जा सकता था। या फिर एक बार लिख कर इशारों में भी समझाया जा सकता था। लेकिन, लेख की मंशा स्पष्ट है कि उसने बार-बार इस शब्द का प्रयोग किया, क्योंकि उसे ऐसे शब्द सर्च करने वालों से ट्रैफिक चाहिए।

पहले ऐसा होता था कि कोई अपनी किसी बात पर पलटने के लिए कम से कम एकाध साल या उससे ज्यादा तो लेता ही था। अब उसका उलटा हो गया है। अब आज के दिन कोई ‘बड़ा’ पत्रकार कुछ बोलता है और दूसरे ही दिन उसे भूल कर उससे अलग बात बोलता है। ताज़ा मामला शेखर गुप्ता के ‘दि प्रिंट’ का है, जिसमें महिलाओं के जननांग से सम्बंधित एक शब्द के जरिए बिहारियों और भोजपुरी भाषियों को नीच दिखाने की कोशिश की गई है।

उदाहरण के रूप में आप रवीश कुमार और राजदीप सरदेसाई को देखिए। ये दोनों पूछते नहीं थकते थे कि कोरोना और चीन सहित कई मुद्दे होने के बावजूद मीडिया में सुशांत मामला क्यों चल रहा है? अब वही राजदीप रिया का इंटरव्यू लेकर दिन-रात इसी मामले पर ट्वीट और शो कर रहे हैं। वहीं रवीश के चैनल एनडीटीवी पर भी सुशांत ही चल रहा है। ऐसे ही शेखर गुप्ता का ‘दि प्रिंट’ एक शब्द के सहारे एक भाषा और प्रदेश को बदनाम करने चला है।

एक ऐसा शब्द, जिसके बारे में दावा किया गया है कि उसे भोजपुरी वाले सर्च करते हैं। पोर्न वेबसाइटों पर हजारों प्रकार के वीडियोज होते हैं और उनके स्पिसिफिक कीवर्ड्स होते हैं, जिनके जरिए उन वीडियोज को देखने वाले उन्हें सर्च करते हैं। ये ज्यादातर अंग्रेजी में होते हैं। इसका मतलब ये तो नहीं कि न्यूज़ वेबसाइट अब वैसे हर कीवर्ड को पकड़ कर उसकी विधाओं को समझाने में लग जाएँ।

अगर वो ऐसा करते हैं तो फिर पोर्न वेबसाइट्स और खबरिया पोर्टलों में अंतर ही क्या रह गया? ठीक ऐसे ही, शेखर गुप्ता के ‘दि प्रिंट’ ने भी एक ऐसा कीवर्ड पकड़ा, जिस पर खबर बना कर इंटरनेट पर उस शब्द की सर्च लिस्ट में भी आया जाए और साथ ही उसे सर्च करने वालों के बहाने एक पूरे समुदाय और प्रदेश को बदनाम किया जाए। इंटरनेट पर रोज ऐसे लाखों कीवर्ड्स सर्च होते हैं, लोग वीडियोज देखते हैं।

‘दि प्रिंट’ ने बार-बार इस शब्द का प्रयोग किया
- विज्ञापन -

हम पत्रकारिता में नैतिकता जैसी बात तो कह ही नहीं रहे, हम ‘दि प्रिंट’ की उस धूर्तता के बारे में बताना चाह रहे हैं कि जिस शब्द को कथित तौर पर भोजपुरी वाले विकिपीडिया पर खोज कर पढ़ते थे, वो अब शेखर गुप्ता स्वयं SEO की चालाकी से उन्हें अपने पोर्टल पर उपलब्ध करा रहे हैं। साथ ही, वो नैतिकता की चादर भी ओढ़ रहे हैं कि ‘देखो, भोजपुरी लोग क्या-क्या गंदी और फ्रस्ट्रेशन से भरी चीजें खोज रहे हैं, जबकि बाकी लोग कोविड के बारे में जानना चाहते हैं।’

लेकिन, सवाल तो ये है कि क्या ये इतना महत्वपूर्ण विषय है, जिस पर जान-बूझकर इतना लम्बा-चौड़ा लेख लिखा जाए। जो लेख उस शब्द को सर्च करने वालों को गाली दे रहा है, उसी लेख में इस शब्द का 8 बार प्रयोग है। आपने किसी प्रोफेसर से बात कर लिया और उसके बयान डाल दिए तो क्या इससे आपकी धूर्तता छिप जाती है? ऐसे मीडिया पोर्टल्स SEO के लिए कुछ भी परोसते हैं और लेख के नाम पर खानापूर्ति करते हैं।

पत्रकारिता में यह तकनीक अब घिस गई है। कुछ लोगों के पास ट्रैफिक को ड्राइव करने के लिए बस सेक्स का ही सहारा बचा है। लल्लनटॉप इस गर्त में बहुत पहले गिर कर, पाठकों की गाली खा-खा कर चर्चा से दूर जा चुका है। ‘दि प्रिंट’ के लेखों पर अगर आप निगाह डालेंगे तो पता चलेगा कि कुछ खास पत्रकारों का मुख्य बीट ही ऐसे ‘सेक्स’ संबंधित लेख हैं, जहाँ लेखक/लेखिका सस्ती लोकप्रियता के लिए, वृहद समाज पर ‘अरे वो तो ये पढ़ रहे हैं, वो ऐसा खोज रहे हैं, उनके दिमाग में ये कचरा ऐसे आता है’ जैसी बातें कहते हुए अपनी यौन कुंठा का वमन करता/करती हैं।

ऐसे लेखों का औचित्य क्या है? इससे किसका भला हो रहा है? क्या इसका औचित्य भोजपुरी बोलने वालों को नीचा दिखाना नहीं है? 1.5% लोगों ने अगर कोई शब्द खोजा तो उसे आधार बना कर, उसे प्रमुखता से, बिना किसी * से छुपाने की कोशिश करते हुए, 8 बार लिखना बताता है कि लेख लिखने के लिए लिख दिया गया है। साथ ही, लिखने वाले ने लगातार एक क्षेत्र के लोगों पर निशाना साधा है, जैसे कि यही 1.5% ‘पिछड़े तबके के लोग’ उस पूरे तबके का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जिस खास शब्द पर ये पूरा का पूरा लेख है, उसे इसमें बार-बार प्रयोग करने की बजाए उसकी जगह कुछ और भी लिखा जा सकता था। या फिर एक बार लिख कर इशारों में भी समझाया जा सकता था। लेकिन, लेख की मंशा स्पष्ट है कि उसने बार-बार इस शब्द का प्रयोग किया, क्योंकि उसे ऐसे शब्द सर्च करने वालों से ट्रैफिक चाहिए। वैसे भी बिहार और भोजपुरी का मजाक बनाने से आउटरेज नहीं होता, ये सोच कर वो खुद को सेफ समझते होंगे।

बिहार और भोजपुरी को बदनाम करने के लिए एक खास शब्द का बार-बार प्रयोग

जहाँ इसमें हिंदी, पंजाबी और मराठी लोगों द्वारा सर्च किए गए कीवर्ड्स को हाइलाइट करते हुए उसकी तुलना भोजपुरी भाषा के इस शब्द को सर्च किए जाने से करते हुए बताया गया है कि कैसे बाकी प्रदेशों के लोग कितने अच्छे हैं और बिहारी कितने गिरे हुए, वहीं दूसरी तरफ दूसरे और तीसरे नंबर पर इस शब्द के रहने को भी ऐसे बड़ी बात बना कर पेश किया गया है, जैसे ये कोई बहुत बड़ी समस्या हो।

ऐसा कुछ तो है नहीं कि इस पर बात करने से कोई बहुत बड़ी समस्या का समाधान मिल जाएगा? ये तो किसी से छिपा नहीं है कि भोजपुरी गानों और फिल्मों में अश्लीलता का प्रभाव बढ़ा है, लेकिन ये किसी भाषा की समस्या न होकर उस भाषा की मनोरंजन इंडस्ट्री की समस्या है। ये उनलोगों की समस्या है, जो इससे रुपए बना रहे हैं और इसे प्रचारित कर रहे हैं। लेकिन, असली समस्या पर शेखर गुप्ता के ‘दि प्रिंट’ को बात करनी होती तो इस शब्द को 8 बार नहीं लिखा जाता।

इसके बाद इसी शब्द के सहारे पोर्न देखने, इंटरनेट पर लैंगिक असमानता, गैंगरेप के बाद वीडियो वायरल होने और सेक्स के टैबू होने जैसी ‘बड़ी-बड़ी’ समस्याओं की बात की गई है। जबकि असल में इनमें से किसी का भी इस शब्द को सर्च किए जाने से कोई सम्बन्ध है, ऐसा वो साबित नहीं कर पाया। साथ ही भोजपुरी को ‘अंडरप्रिविलेज्ड’ भाषा करार दिया गया है। इस लेख का उद्देश्य ही है- एक खास भाषा को बदनाम कर ट्रैफिक जुटाना।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

सुरेश अंगड़ी: पहले केन्द्रीय मंत्री, जिनकी मृत्यु कोरोना वायरस की वजह से हुई, लगातार 4 बार रहे सांसद

केन्द्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी कर्नाटक की बेलागावी सीट से 4 बार सांसद रह चुके थे। उन्होंने साल 2004, 2009, 2014 और 2019 में...

‘PM मोदी को हिन्दुओं के अलावा कुछ और दिखता ही नहीं’: भारत के लिए क्यों अच्छा है ‘Time’ का बिलबिलाना

'Time' ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की शुरुआत में ही लिख दिया है कि लोकतंत्र की चाभी स्वतंत्र चुनावों के पास नहीं होती।

टाइम्स में शामिल ‘दादी’ की सराहना जरूर कीजिए, आखिर उनको क्या पता था शाहीन बाग का अंजाम, वो तो देश बचाने निकली थीं!

आज उन्हें टाइम्स ने साल 2020 की 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों की सूची में शामिल कर लिया है। खास बात यह है कि टाइम्स पर बिलकिस को लेकर टिप्पणी करने वाली राणा अय्यूब स्वयं हैं।

प्रचलित ख़बरें

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

‘शिव भी तो लेते हैं ड्रग्स, फिल्मी सितारों ने लिया तो कौन सी बड़ी बात?’ – लेखिका का तंज, संबित पात्रा ने लताड़ा

मेघना का कहना था कि जब हिन्दुओं के भगवान ड्रग्स लेते हैं तो फिर बॉलीवुड सेलेब्स के लेने में कौन सी बड़ी बात हो गई? संबित पात्रा ने इसे घृणित करार दिया।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

व्यंग्य: बकैत कुमार कृषि बिल पर नाराज – अजीत भारती का वीडियो | Bakait Kumar doesn’t like farm bill 2020

बकैत कुमार आए दिन देश के युवाओं के लिए नोट्स बना रहे हैं, तब भी बदले में उन्हें केवल फेसबुक पर गाली सुनने को मिलती है।

‘गिरती TRP से बौखलाए ABP पत्रकार’: रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को मारा थप्पड़

महाराष्ट्र के मुंबई से रिपोर्टिंग करते हुए रिपब्लिक टीवी के पत्रकार और चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को एबीपी के पत्रकार मनोज वर्मा ने थप्पड़ जड़ दिया।

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

मैं मुन्ना हूँ: उपन्यास पर मसान फिल्म के निर्माता मनीष मुंद्रा ने स्कैच के जरिए रखी अपनी कहानी

मसान और आँखों देखी फिल्मों के प्रोड्यूसर मनीष मुंद्रा, जो राष्ट्रीय पुरुस्कार प्राप्त निर्माता निर्देशक हैं, ने 'मैं मुन्ना हूँ' उपन्यास को लेकर एक स्केच बना कर ट्विटर किया है।

विदेशी फिदेल कास्त्रो की याद में खर्च किए 27 लाख रुपए… उसी केरल सरकार के पास वेलफेयर पेंशन के पैसे नहीं थे

केरल की सरकार ने क्यूबा के फिदेल कास्त्रो की याद में लाखों रुपए खर्च कर दिए। हैरानी की बात यह थी कि इतना भव्य आयोजन जनता के पैसों से...

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

2 TV कलाकारों से 7 घंटे की पूछताछ, मुंबई के कई इलाकों में सुबह-सुबह छापेमारी: ड्रग्स मामले में आज फँस सकते हैं कई बड़े...

बुधवार के दिन समीर वानखेड़े और उनकी टीम ने दो टीवी कलाकारों को समन जारी किया था और उनसे 6 से 7 घंटे तक पूछताछ की गई थी।

सुरेश अंगड़ी: पहले केन्द्रीय मंत्री, जिनकी मृत्यु कोरोना वायरस की वजह से हुई, लगातार 4 बार रहे सांसद

केन्द्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी कर्नाटक की बेलागावी सीट से 4 बार सांसद रह चुके थे। उन्होंने साल 2004, 2009, 2014 और 2019 में...

‘PM मोदी को हिन्दुओं के अलावा कुछ और दिखता ही नहीं’: भारत के लिए क्यों अच्छा है ‘Time’ का बिलबिलाना

'Time' ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की शुरुआत में ही लिख दिया है कि लोकतंत्र की चाभी स्वतंत्र चुनावों के पास नहीं होती।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
77,965FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements