Monday, April 19, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 2 दिन में धराशाई हुआ NDTV का प्रोपेगेंडा, PM मोदी और डोवाल को लेकर...

2 दिन में धराशाई हुआ NDTV का प्रोपेगेंडा, PM मोदी और डोवाल को लेकर बेच रहा था झूठ

अब जबकि डोवाल को कैबिनेट रैंक का दर्जा मिल गया है तब ‘पर कतरने’ वाला विश्लेषण इंटरनेट के किसी कूड़ेदान में जाएगा या पाठक की गालियों में 'सुशोभित' होगा इस पर सम्मानित 'बुद्धिजीवी' को विचार करना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा निर्वाचन 2019 जीतने के बाद 30 मई को शपथ ली। उनके साथ 24 कैबिनेट रैंक के मंत्रियों ने शपथ ली। लेकिन शपथ ग्रहण से पहले और उसके तुरंत बाद भी भारत के बुद्धिजीवी वर्ग ने जनता को भ्रमित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कौन मंत्री बनेगा, नहीं बनेगा से लेकर इस पर भी अटकलों का बाज़ार गर्म किया गया कि किसको कैबिनेट रैंक मिलेगी अथवा नहीं मिलेगी।

भारत के बुद्धिजीवी वर्ग के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि ये एसी कमरे में बैठकर आराम फरमाते हुए, अपनी अकादमिक डिग्रियों को सुबह शाम सहलाते हुए संविधान और संवैधानिक अधिकारों की दुहाई देते रहते हैं लेकिन जब ये किसी विषय पर विश्लेषण लिखते हैं तो संविधान की पुस्तक को बंद कर उसके ऊपर भारी भरकम कॉफी का मग रख देते हैं।

एक उदाहरण देखिए। स्वनामधन्य न्यूज़ चैनल एनडीटीवी की वेबसाइट पर नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के एक दिन बाद ही बिजली की तेज़ी से यह विश्लेषण प्रकाशित किया गया कि मोदी ने अजित डोभाल के ‘पर क़तर दिए।’ डोभाल साहब के पर कतरने का क्या अर्थ है ये हमसे न पूछिए क्योंकि एनडीटीवी ने जब वह लेख प्रकाशित किया तब प्रधानमंत्री की नई कैबिनेट आकार ले ही रही थी, पोर्टफोलियो निर्धारित हो ही रहे थे।

यह ऐसा ही था जैसे स्पार्टा में किसी शिशु ने जन्म लिया हो और किसी ने उसे स्पर्श मात्र कर यह जान लिया कि उस नवजात में स्पार्टा के सैनिकों वाले गुण नहीं हैं। हे बुद्धि बेचकर जीविका कमाने वाले बुद्धिजीवियों! भारत के प्रधानमंत्री की कैबिनेट का निर्धारण स्पार्टा के सैनिकों जैसी प्रक्रिया से नहीं होता। जिस संविधान पर तुमने कॉफी का महंगा मग रखा है उसे खोलकर पढ़ लेते तो पता चल जाता कि अनुच्छेद 75 में यह लिखा है कि राष्ट्रपति उन्हीं को मंत्री बना सकते हैं जिनके नाम का सुझाव प्रधानमंत्री देते हैं।

अर्थात मंत्री बनाने की कोई ‘प्रक्रिया’ नहीं होती जिस पर प्रश्न खड़े किए जाएँ या चर्चा का विषय बनाया जाए। यह पूर्ण रूप से प्रधानमंत्री का अधिकार है कि वे किसको किस रैंक का मंत्री बनाते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार में तीन प्रकार के मंत्री होते हैं- कैबिनेट, राज्यमंत्री और राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)। इनमें कैबिनेट रैंक के मंत्री शक्तिशाली माने जाते हैं क्योंकि वे कैबिनेट समितियों की बैठकों में भाग ले सकते हैं।

जहाँ तक अजित डोभाल का प्रश्न है वे प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हैं। इससे पहले वे इंटेलिजेंस ब्यूरो के चीफ रह चुके हैं और चाहे पाकिस्तान समर्थित जिहादी आतंकवाद हो या उत्तर पूर्वी भारत का उग्रवाद, डोभाल साहब को देश की रणनीतिक सुरक्षा से जुड़े कठिनतम वातावरण में काम करने का अनुभव है। उन्होंने पंजाब में खालिस्तानी आतंकवाद भी देखा है और प्लेन हाईजैक की समस्या से भी दो चार हुए हैं।

वे नरेंद्र मोदी के विश्वस्त सहयोगी हैं। जिस व्यक्ति का पूरा जीवन इंटेलिजेंस जुटाने और संकट से जूझने में गुजरा हो और जिसे कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया हो उसकी योग्यता पर तो प्रश्न चिन्ह लग नहीं सकता। प्रधानमंत्री उन्हें कैबिनेट रैंक का दर्जा दें या न दें यह भी प्रधानमंत्री का विशेषाधिकार है। इस पर भी कोई प्रश्न खड़े नहीं कर सकता। इसलिए बुद्धिजीवी महोदय को ‘त्वरित’ विश्लेषण करने से पहले थोड़ा सोच लेना चाहिए था।

बहरहाल आजकल थिंक टैंकों में लिखने पढ़ने वाले बुद्धिजीवियों की छपास यानी ‘छपने की प्यास’ इतनी तीव्र है कि वे अपनी कलम रोक नहीं पाते। अब ताजा समाचार के अनुसार जब डोभाल साहब को अगले पाँच साल के लिए प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के पद पर विस्तार मिल गया है और यही नहीं उन्हें कैबिनेट रैंक का दर्जा भी मिल गया है तब ‘पर कतरने’ वाला विश्लेषण इंटरनेट के किसी कूड़ेदान में जाएगा या पाठक की गालियों में सुशोभित होगा इस पर सम्मानित बुद्धिजीवी जी को विचार करना चाहिए।

दूसरी बात यह है कि किसी व्यक्ति को पद मिलना या न मिलना उतना महत्वपूर्ण नहीं। संस्थान सदैव व्यक्ति से ऊँचा होता है। नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री रहते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की कार्यप्रणाली में जो परिवर्तन किए उसका विश्लेषण, प्रशंसा, आलोचना और विमर्श किया जाना चाहिए क्योंकि पद कोई भी ग्रहण करे, संस्थान की कार्यक्षमता अधिक महत्वपूर्ण है। अजित डोभाल को कैबिनेट रैंक मिलने से अब वे सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की बैठक में भी भाग ले सकेंगे। इससे क्या प्रभाव पड़ना चाहिए विमर्श का मुद्दा यह होना चाहिए, किंतु भारत के बुद्धिजीवी विरले प्राणी हैं जो ग्रहों की चाल का अध्ययन कर यही समझ पाते हैं कि कहीं वे आकाश में टकरा गए तो क्या होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बीजेपी को कोसने वाले लिबरल TMC पर मौन’- हर दिन मेगा रैली कर रहीं ममता लेकिन ‘ट्विटर’ से हैं दूर: जानें क्या है झोल

ममता बनर्जी हर दिन पश्चिम बंगाल में हर बड़ी रैलियाँ कर रही हैं, लेकिन उसे ट्विटर पर साझा नहीं करतीं हैं, ताकि राजनीतिक रूप से सक्रीय लोगों के चुभचे सवालों से बच सकें और अपना लिबरल एजेंडा सेट कर सकें।

क्या जनरल वीके सिंह ने कोरोना पीड़ित अपने भाई को बेड दिलाने के लिए ट्विटर पर माँगी मदद? जानिए क्या है सच्चाई

केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने ट्विटर पर एक नागरिक की मदद की। इसके लिए उन्होंने ट्वीट किया, लेकिन विपक्ष इस पर भी राजनीति करने लगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने फैलाया झूठ: रेमडेसिविर की आपूर्ति पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा ब्रुक फार्मा के निदेशक के उत्पीड़न का किया बचाव

कॉन्ग्रेस समर्थक साकेत गोखले ने एक बार फिर से फेक न्यूज फैलाने का काम किया है। गोखले ने बेबुनियाद ट्वीट्स की सीरीज में आरोप लगाया कि भाजपा ने महाराष्ट्र में अपने पार्टी कार्यालय में 4.75 करोड़ रुपए की रेमडेसिविर (Remdesivir) की जमाखोरी की है।

दूसरी लहर सँभल नहीं रही, ठाकरे सरकार कर रही तीसरी की तैयारी: महाराष्ट्र के युवराज ने बताया सरकार का फ्यूचर प्लान

महाराष्ट्र के अस्पतालों में न सिर्फ बेड्स, बल्कि वेंटिलेटर्स और ऑक्सीजन की भी भारी कमी है। दवाएँ नहीं मिल रहीं। ऑक्सीजन और मेडिकल सप्लाइज की उपलब्धता के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भारतीय सेना से मदद के लिए गुहार लगाई है।

10 ऑक्सीजन निर्माण संयंत्र, हर जिले में क्वारंटीन केंद्र, बढ़ती टेस्टिंग: कोविड से लड़ने के लिए योगी सरकार की पूरी रणनीति

राज्य के बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए सरकार रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और बस स्टैन्ड पर ही एंटीजेन और RT-PCR टेस्ट की व्यवस्था कर रही है। यदि किसी व्यक्ति में कोविड-19 के लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे क्वारंटीन केंद्रों में रखा जाएगा।

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

ऑडियो- ‘लाशों पर राजनीति, CRPF को धमकी, डिटेंशन कैंप का डर’: ममता बनर्जी का एक और ‘खौफनाक’ चेहरा

कथित ऑडियो क्लिप में ममता बनर्जी को यह कहते सुना जा सकता है कि वो (भाजपा) एनपीआर लागू करने और डिटेन्शन कैंप बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,229FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe