Thursday, August 13, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 2 दिन में धराशाई हुआ NDTV का प्रोपेगेंडा, PM मोदी और डोवाल को लेकर...

2 दिन में धराशाई हुआ NDTV का प्रोपेगेंडा, PM मोदी और डोवाल को लेकर बेच रहा था झूठ

अब जबकि डोवाल को कैबिनेट रैंक का दर्जा मिल गया है तब ‘पर कतरने’ वाला विश्लेषण इंटरनेट के किसी कूड़ेदान में जाएगा या पाठक की गालियों में 'सुशोभित' होगा इस पर सम्मानित 'बुद्धिजीवी' को विचार करना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा निर्वाचन 2019 जीतने के बाद 30 मई को शपथ ली। उनके साथ 24 कैबिनेट रैंक के मंत्रियों ने शपथ ली। लेकिन शपथ ग्रहण से पहले और उसके तुरंत बाद भी भारत के बुद्धिजीवी वर्ग ने जनता को भ्रमित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कौन मंत्री बनेगा, नहीं बनेगा से लेकर इस पर भी अटकलों का बाज़ार गर्म किया गया कि किसको कैबिनेट रैंक मिलेगी अथवा नहीं मिलेगी।

भारत के बुद्धिजीवी वर्ग के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि ये एसी कमरे में बैठकर आराम फरमाते हुए, अपनी अकादमिक डिग्रियों को सुबह शाम सहलाते हुए संविधान और संवैधानिक अधिकारों की दुहाई देते रहते हैं लेकिन जब ये किसी विषय पर विश्लेषण लिखते हैं तो संविधान की पुस्तक को बंद कर उसके ऊपर भारी भरकम कॉफी का मग रख देते हैं।

एक उदाहरण देखिए। स्वनामधन्य न्यूज़ चैनल एनडीटीवी की वेबसाइट पर नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के एक दिन बाद ही बिजली की तेज़ी से यह विश्लेषण प्रकाशित किया गया कि मोदी ने अजित डोभाल के ‘पर क़तर दिए।’ डोभाल साहब के पर कतरने का क्या अर्थ है ये हमसे न पूछिए क्योंकि एनडीटीवी ने जब वह लेख प्रकाशित किया तब प्रधानमंत्री की नई कैबिनेट आकार ले ही रही थी, पोर्टफोलियो निर्धारित हो ही रहे थे।

यह ऐसा ही था जैसे स्पार्टा में किसी शिशु ने जन्म लिया हो और किसी ने उसे स्पर्श मात्र कर यह जान लिया कि उस नवजात में स्पार्टा के सैनिकों वाले गुण नहीं हैं। हे बुद्धि बेचकर जीविका कमाने वाले बुद्धिजीवियों! भारत के प्रधानमंत्री की कैबिनेट का निर्धारण स्पार्टा के सैनिकों जैसी प्रक्रिया से नहीं होता। जिस संविधान पर तुमने कॉफी का महंगा मग रखा है उसे खोलकर पढ़ लेते तो पता चल जाता कि अनुच्छेद 75 में यह लिखा है कि राष्ट्रपति उन्हीं को मंत्री बना सकते हैं जिनके नाम का सुझाव प्रधानमंत्री देते हैं।

- विज्ञापन -

अर्थात मंत्री बनाने की कोई ‘प्रक्रिया’ नहीं होती जिस पर प्रश्न खड़े किए जाएँ या चर्चा का विषय बनाया जाए। यह पूर्ण रूप से प्रधानमंत्री का अधिकार है कि वे किसको किस रैंक का मंत्री बनाते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार में तीन प्रकार के मंत्री होते हैं- कैबिनेट, राज्यमंत्री और राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)। इनमें कैबिनेट रैंक के मंत्री शक्तिशाली माने जाते हैं क्योंकि वे कैबिनेट समितियों की बैठकों में भाग ले सकते हैं।

जहाँ तक अजित डोभाल का प्रश्न है वे प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हैं। इससे पहले वे इंटेलिजेंस ब्यूरो के चीफ रह चुके हैं और चाहे पाकिस्तान समर्थित जिहादी आतंकवाद हो या उत्तर पूर्वी भारत का उग्रवाद, डोभाल साहब को देश की रणनीतिक सुरक्षा से जुड़े कठिनतम वातावरण में काम करने का अनुभव है। उन्होंने पंजाब में खालिस्तानी आतंकवाद भी देखा है और प्लेन हाईजैक की समस्या से भी दो चार हुए हैं।

वे नरेंद्र मोदी के विश्वस्त सहयोगी हैं। जिस व्यक्ति का पूरा जीवन इंटेलिजेंस जुटाने और संकट से जूझने में गुजरा हो और जिसे कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया हो उसकी योग्यता पर तो प्रश्न चिन्ह लग नहीं सकता। प्रधानमंत्री उन्हें कैबिनेट रैंक का दर्जा दें या न दें यह भी प्रधानमंत्री का विशेषाधिकार है। इस पर भी कोई प्रश्न खड़े नहीं कर सकता। इसलिए बुद्धिजीवी महोदय को ‘त्वरित’ विश्लेषण करने से पहले थोड़ा सोच लेना चाहिए था।

बहरहाल आजकल थिंक टैंकों में लिखने पढ़ने वाले बुद्धिजीवियों की छपास यानी ‘छपने की प्यास’ इतनी तीव्र है कि वे अपनी कलम रोक नहीं पाते। अब ताजा समाचार के अनुसार जब डोभाल साहब को अगले पाँच साल के लिए प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के पद पर विस्तार मिल गया है और यही नहीं उन्हें कैबिनेट रैंक का दर्जा भी मिल गया है तब ‘पर कतरने’ वाला विश्लेषण इंटरनेट के किसी कूड़ेदान में जाएगा या पाठक की गालियों में सुशोभित होगा इस पर सम्मानित बुद्धिजीवी जी को विचार करना चाहिए।

दूसरी बात यह है कि किसी व्यक्ति को पद मिलना या न मिलना उतना महत्वपूर्ण नहीं। संस्थान सदैव व्यक्ति से ऊँचा होता है। नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री रहते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की कार्यप्रणाली में जो परिवर्तन किए उसका विश्लेषण, प्रशंसा, आलोचना और विमर्श किया जाना चाहिए क्योंकि पद कोई भी ग्रहण करे, संस्थान की कार्यक्षमता अधिक महत्वपूर्ण है। अजित डोभाल को कैबिनेट रैंक मिलने से अब वे सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की बैठक में भी भाग ले सकेंगे। इससे क्या प्रभाव पड़ना चाहिए विमर्श का मुद्दा यह होना चाहिए, किंतु भारत के बुद्धिजीवी विरले प्राणी हैं जो ग्रहों की चाल का अध्ययन कर यही समझ पाते हैं कि कहीं वे आकाश में टकरा गए तो क्या होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टैक्स रिफॉर्म्स के लिए ‘विवाद से विश्वास’: खुलासा करने पर 70% तक की छूट, आयकर में पारदर्शिता

आयकर विभाग के काम में दक्षता और पारदर्शिता लाने के लिए केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड की ओर से कई पहल की गई है। विभाग की ओर से...

मणिपुर का शेर बीर टिकेंद्रजीत सिंह: अंग्रेजों ने जिन्हें कहा था ‘खतरनाक बाघ’, दी थी खुली जगह पर फाँसी

बीर टिकेंद्रजीत सिंह को 13 अगस्त 1891 को आम जनता के सामने एक खुली जगह पर फाँसी लगाई ताकि लोगों में डर पैदा किया जा सके।

ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन – ऑनरिंग द ऑनेस्ट: PM मोदी ने लॉन्च किया प्लेटफॉर्म, ईमानदार टैक्सपेयर्स को प्रोत्साहन

PM मोदी ने ईमानदारी से कर चुकाने वालों के लिए 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन- ऑनरिंग द ऑनेस्ट' नामक एक प्लेटफॉर्म का शुभारंभ करके...

इंदिरा गाँधी बाबर की कब्र पर गईं, सिर झुकाया और बोलीं – ‘मैंने इतिहास को महसूस किया…’

वो बाबर के मकबरे की ओर चल दिए। वे मकबरे के सामने खड़ी हुईं और हल्का सा सिर झुकाया। बाद में वे बोलीं - "मैं इतिहास को महसूस कर रही थी।"

उतावले राजदीप ने चलाई प्रणब मुखर्जी की मौत की ‘ब्रेकिंग’ खबर, फिर फेक न्यूज बता कर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने आदतन उतावलेपन में प्रणब मुखर्जी की मौत की फेक न्यूज़ को 'ब्रेकिंग' बताते हुए अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर कर डाली।

…जब पुलिस वालों ने रोते हुए सीनियर ऑफिसर से माँगी गोली चलाने की इजाजत: बेंगलुरु दंगे का सच

वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ पुलिस वालों पर टूट पड़ती है। हालात भयावह हो जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने...

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

दंगाइयों के संपत्ति से की जाएगी नुकसान की भरपाई: कर्नाटक के गृहमंत्री का ऐलान, तेजस्वी सूर्या ने योगी सरकार की तर्ज पर की थी...

बसवराज बोम्मई ने एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि सार्वजनिक संपत्ति और वाहनों को नुकसान की भरपाई क्षति पहुँचाने वाले दंगाइयों को करना होगा।

महेश भट्ट की ‘सड़क-2’ में किया जाएगा हिन्दुओं को बदनाम: आश्रम के साधु के ‘असली चेहरे’ को एक्सपोज करेगी आलिया

21 साल बाद निर्देशन में लौट रहे महेश भट्ट की फिल्म सड़क-2 में एक साधु को बुरा दिखाया जाएगा, आलिया द्वारा उसके 'काले कृत्यों' का खुलासा...

‘जल्दी अपलोड कर’ – बेंगलुरु में मुस्लिमों के मंदिर बचाने का ड्रामा अंत के 5 सेकंड में फुस्स, नए वीडियो से खुली पोल

राजदीप सरदेसाई ने भी मुसलमानों को 'मानव श्रृंखला' कहा। आगजनी करने वालों का कोई धर्म नहीं, मगर मंदिर के लिए मानव श्रृंखला बनाने वाले...

टैक्स रिफॉर्म्स के लिए ‘विवाद से विश्वास’: खुलासा करने पर 70% तक की छूट, आयकर में पारदर्शिता

आयकर विभाग के काम में दक्षता और पारदर्शिता लाने के लिए केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड की ओर से कई पहल की गई है। विभाग की ओर से...

मणिपुर का शेर बीर टिकेंद्रजीत सिंह: अंग्रेजों ने जिन्हें कहा था ‘खतरनाक बाघ’, दी थी खुली जगह पर फाँसी

बीर टिकेंद्रजीत सिंह को 13 अगस्त 1891 को आम जनता के सामने एक खुली जगह पर फाँसी लगाई ताकि लोगों में डर पैदा किया जा सके।

बेंगलुरु दंगों पर कर्नाटक सरकार सख्त: न्यायिक जाँच का आदेश, पहले किया दंगाइयों से नुकसान वसूलने का ऐलान

बंगलुरु दंगों की न्यायिक जाँच होगी। CM बीएस येदुराप्पा, गृहमंत्री बसवराज बोम्मई और पुलिस अधिकारियों की बैठक में इस मामले से संबंधित...

ट्रांसपैरेंट टैक्सेशन – ऑनरिंग द ऑनेस्ट: PM मोदी ने लॉन्च किया प्लेटफॉर्म, ईमानदार टैक्सपेयर्स को प्रोत्साहन

PM मोदी ने ईमानदारी से कर चुकाने वालों के लिए 'ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन- ऑनरिंग द ऑनेस्ट' नामक एक प्लेटफॉर्म का शुभारंभ करके...

इंदिरा गाँधी बाबर की कब्र पर गईं, सिर झुकाया और बोलीं – ‘मैंने इतिहास को महसूस किया…’

वो बाबर के मकबरे की ओर चल दिए। वे मकबरे के सामने खड़ी हुईं और हल्का सा सिर झुकाया। बाद में वे बोलीं - "मैं इतिहास को महसूस कर रही थी।"

उतावले राजदीप ने चलाई प्रणब मुखर्जी की मौत की ‘ब्रेकिंग’ खबर, फिर फेक न्यूज बता कर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने आदतन उतावलेपन में प्रणब मुखर्जी की मौत की फेक न्यूज़ को 'ब्रेकिंग' बताते हुए अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर कर डाली।

…जब पुलिस वालों ने रोते हुए सीनियर ऑफिसर से माँगी गोली चलाने की इजाजत: बेंगलुरु दंगे का सच

वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ पुलिस वालों पर टूट पड़ती है। हालात भयावह हो जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने...

CCTV कैमरों और स्ट्रीटलाइट्स को तोड़ा, फिर धारदार हथियार से थाने पर हमला: बेंगलुरु दंगे की पूरी प्लानिंग

70+ पुलिसकर्मियों को चोटें आईं। भीड़ ने उन पर धारदार हथियार भी फेंके। इनमें, 40 घायल पुलिस डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन के थे जबकि अन्य...

क्या सुशांत सिंह को मारने के लिए किया गया स्टन गन का प्रयोग? सुब्रमण्यम स्वामी ने की NIA जाँच की माँग

सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर पर लिखा है, "क्या यह गन अरब सागर के जरिए भारत में आई है? एनआईए को इस मामले की जाँच के साथ जुड़ना चाहिए ताकि सच सबके सामने आ सके।"

‘दंगे-हिंदुओं को निशाना न बनाए मुसलमान, BJP मुसलमानों के लिए समस्याएँ खड़ी करने के लिए कर सकती है इस्तेमाल’: अभिसार

अभिसार शर्मा ने दावा किया कि मुसलमानों को दंगा नहीं करना चाहिए क्योंकि 'भाजपा प्रचार तंत्र' अब इस मुद्दे का इस्तेमाल कर उन्हें निशाना बनाएगी और उनके लिए समस्याएँ खड़ी करेंगी।

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,745FollowersFollow
298,000SubscribersSubscribe
Advertisements