Tuesday, October 27, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे उनके लिए धर्म अफीम है, मजहब नहीं: बेगूसराय में निपटा 'लफंगा' अब अपनों के...

उनके लिए धर्म अफीम है, मजहब नहीं: बेगूसराय में निपटा ‘लफंगा’ अब अपनों के गेम से चित

आयातित विचारधारा की राजनीति कैसे एक व्यक्ति को उठाती है, फिर विरोधियों के बीच उसे छोड़कर किसी और का दामन थाम लेती है, वो भी देखिए। राजनीति की प्रयोगशाला कहलाने वाले बिहार के चुनावों में आपका स्वागत है!

राजनीति बड़ी कुत्ती चीज़ है!

ऐसा हम नहीं कहते, ऐसा कई राजनेता भी व्यक्तिगत बातचीत में स्वीकार लेंगे। राजनीति को बुरा इसलिए माना जाता है, क्योंकि इसमें आप अपने घोषित शत्रुओं और प्रतिद्वंदियों से ही प्रतिस्पर्धा नहीं करते। आपके मित्रों से भी आपको आगे रहना पड़ता है।

प्रबंधन (मैनेजमेंट) में कभी-कभी सिखाया जाता है कि आप अपने मातहतों से ही सम्बन्ध नहीं बनाते, आपके वरिष्ठों से आपके सम्बन्ध कैसे हैं, इस पर भी काफी कुछ निर्भर करता है। जैसे मैनेजमेंट सिर्फ ऊपर से नीचे की तरफ नहीं, नीचे से ऊपर की तरफ भी चलता है, राजनीति में स्थिति उससे भी बुरी हो जाती है।

राजनीति में आपको अपने सामानांतर वाले संबंधों का भी ध्यान रखना पड़ता है। अफ़सोस के साथ कहा जा सकता है कि ऐसे विषयों पर भी हिन्दी साहित्य में रचनाएँ नहीं बनीं। हिन्दी लिखने वाले तथाकथित बुद्धिपिशाचों की इतनी हिम्मत ही नहीं थी कि ऐसे विषय पर लिखते। जो कहीं आप थोड़े पढ़े-लिखे हैं तो अंग्रेजी में इस विषय पर ‘टीम ऑफ़ राइवल्स’ (https://amzn.to/35MouGz) लिखी गई है। ये अब्राहम लिंकन के मंत्रिमंडल में शामिल प्रतिस्पर्धियों पर किताब है। एक-दूसरे से शत्रुता जैसी प्रतिस्पर्धा रखने वालों के साथ मिलकर अब्राहम लिंकन ने मंत्रिमंडल (कैबिनेट) कैसे चलाया, उस विषय पर ये मोटी सी (करीब नौ सौ पन्नों की) किताब देखी जा सकती है।

वापस भारत पर आएँ तो यहाँ की राजनीति में भी ऐसा होता रहता है। पिछले लोकसभा चुनावों के दौर में जो एक नाम बड़ा उछला था वो एक वामपंथी पोस्टर बॉय का था। बिहार की भूमिहार जाति से सम्बन्ध रखने वाले इस तथाकथित नेता के लिए बॉलीवुड से कई हस्तियाँ भी प्रचार को बेगूसराय में उतर आईं थी। उसके स्वजातीय ‘आत्मनिर्भर’ सम्बन्धियों (जैसे स्वरा भास्कर) जैसों के प्रचार का भी उसे कोई फायदा नहीं हुआ। वैसे तो उसके चुनाव प्रचार पर नजर रखने वाले उसकी विचारधारा की ओर झुकाव रखने वाले कई लोग (जैसे राहुल पंडिता) भी वहॉं गए, मगर जब नतीजे आए तो पता चला कि ये स्त्रियों के सामने अश्लील हरकतें करने वाला कोई पंचायत चुनाव जीतने लायक भी नहीं है।

जाहिर है ऐसे में आयातित विचारधारा को नए चेहरों की जरूरत पड़ गई। पुराना नाम नहीं चला तो कोई नया नाम निकालो! ऐसे में ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ ने उसी कुकृत्य से कुख्यात हुए एक दूसरे चेहरे को सामने रखना शुरू कर दिया। जिन्हें वो दौर याद होगा उन्हें पता होगा कि ये वो पहली मुहिम थी, जिसमें वामपंथी टुकड़ाखोरों ने भारत के तिरंगे झंडे का इस्तेमाल किया था। इससे पहले, सत्तर वर्षों में, किसी मुहिम में उन्होंने तिरंगा नहीं उठाया। जो ज्यादा करीब से जानते हैं वो ये भी बता देंगे कि मुहिम में तिरंगा लहराने वाला आयातित विचारधारा का टुकड़ाखोर नहीं था। जो भी हो, पुराने नाम के दोबारा सामने आने से कई बातें हुई।

एक तो ये स्पष्ट पता चल गया कि आयातित विचारधारा के लिए सिर्फ ‘धर्म अफीम है’। उनके लिए मजहब अफीम नहीं, क्योंकि जिन नारों के लिए ये नया उछाला जा रहा नाम कुख्यात है, उसमें ‘टुकड़े होंगे’ के साथ ‘इंशाअल्लाह’ कहा जा रहा था। वैसे उस पर यथा पिता, तथा पुत्र का जुमला भी फिट बैठता है, क्योंकि उसका बाप पहले ही ‘सिमी’ नाम से जाने वाले प्रतिबंधित इस्लामी अलगाववादी-आतंकवादी संगठन का हिस्सा रहा है। ऐसे में बेटे ने आतंकवाद और अलगाववाद की राह चुनकर बाप का नाम रोशन ही किया है। अब सवाल है कि इसमें राजनीति, ‘टीम ऑफ़ राइवल्स’, और सामानांतर प्रतिद्वंदियों का मुद्दा क्या है?

सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों को पता होगा कि महिला छात्रावास के सामने अश्लील हरकतें करने वाला बेगूसराय का बकैत काफी दिनों से चुप था। हाल के दौर में उसके ट्वीट काफी कम रहे हैं। अब जब उसके प्रतिद्वंदी के रूप में एक चेहरा उसी की विचारधारा के लोगों ने खड़ा कर दिया है तो बेचारे को फिर से सक्रिय होना पड़ गया। वरना बिहार चुनावों में उसे जिस तरह से हाशिए पर धकेल दिया गया है, उससे इस लफंगे के एक राजनेता के रूप में करियर, दाँव पर लगा दिखता है। उम्मीद है कि अपने प्रयासों से बेचारा बिहार चुनावों में फिर से इक्का-दुक्का जगहों पर रैलियों में मंच पर दिख पाएगा।

बाकी आयातित विचारधारा की राजनीति कैसे एक व्यक्ति को उठाती है, फिर विरोधियों के बीच उसे छोड़कर किसी और का दामन थाम लेती है, वो भी देखिए। राजनीति की प्रयोगशाला कहलाने वाले बिहार के चुनावों में आपका स्वागत है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

दारुल उलूम देवबंद के उलेमा का कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

मुस्लिमों को BJP का डर भी दिखाया, ‘जात’ देख कर आरोपित को भी बचाया: लालू यादव का MY समीकरण

उन्हें जम कर भाजपा का डर दिखाया। इससे वो मुस्लिमों के मसीहा भी बने रहे और यादवों का वोट भी उन्हें मिलता रहा। इस तरह उन्होंने MY समीकरण बना कर राज किया।

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

प्रचलित ख़बरें

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

हमसे सवाल करने वालों के मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हैं: हिन्दू घृणा से भरे तंज के सहारे उद्धव ठाकरे ने साधा भाजपा पर निशाना

"जो लोग हमारी सरकार पर सवाल उठाते हैं, उनके मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हुए हैं। ये वो लोग हैं जिनके खुद के कपड़े गोमूत्र व गोबर से लिपटे हैं।"
- विज्ञापन -

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

दारुल उलूम देवबंद के उलेमा का कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

मुस्लिमों को BJP का डर भी दिखाया, ‘जात’ देख कर आरोपित को भी बचाया: लालू यादव का MY समीकरण

उन्हें जम कर भाजपा का डर दिखाया। इससे वो मुस्लिमों के मसीहा भी बने रहे और यादवों का वोट भी उन्हें मिलता रहा। इस तरह उन्होंने MY समीकरण बना कर राज किया।

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

पैगंबर मुहम्मद के कार्टूनों का सार्वजानिक प्रदर्शन, फ्रांस के एम्बेसेडर को पाकिस्तान ने भेजा समन

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने इस मुद्दे पर कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति का बयान बेहद गैर ज़िम्मेदाराना था और ऐसे बयान से सिर्फ आग को हवा मिलेगी।

राहुल बन नाबालिग लड़की से की दोस्ती, रेप के बाद बताया – ‘मैं साजिद हूँ, शादी करनी है तो धर्म बदलो’

आरोपित ने खुद ही पीड़िता को बताया कि उसका नाम राहुल नहीं बल्कि साजिद है। साजिद ने पीड़िता से यह भी कहा कि अगर शादी करनी है तो...

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

ताजमहल में फहराया भगवा झंडा, गंगा जल छिड़क कर किया शिव चालीसा का पाठ

ताजमहल परिसर में दाखिल होते ही उन्होंने वहाँ पर गंगा जल का छिड़काव किया और भगवा झंडा फहराया। शिव चालीसा का पाठ भी किया गया।

24 घंटे में रिपब्लिक TV के दिल्ली-नोएडा के पत्रकारों को मुंबई के पुलिस थाने में हाजिर होने का आदेश

अर्नब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि नाइंसाफी की इस लड़ाई में...

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,308FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe