Monday, September 28, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे मोदी शो ने दी हवा, थोड़ा-सा धुआँ उठा, लिबरलों की जल गई!

मोदी शो ने दी हवा, थोड़ा-सा धुआँ उठा, लिबरलों की जल गई!

मोदी के भगवा से लिबरलों, कामपंथियों और पत्रकारिता के समुदाय विशेष की सुलगती क्यों है? आखिर क्या नकारात्मक है यहाँ? कुछ नहीं, सिवाय इसके कि इस भीड़ का रंग हरा क्यों नहीं है? दुर्भाग्य यह कि जब इनकी जलती है, तो उस आग का भी रंग 'लगभग' भगवा ही तो होता है!

आज मोदी ने बनारस ने नामांकन भरा, कल उनका रोड शो था। रोड शो कैसा था वो सारे न्यूज चैनलों ने दिखाया। आम तौर पर रोड शो या नामांकन का काफ़िला एक शक्ति प्रदर्शन के तौर पर इस्तेमाल होता रहा है। हाल ही में कन्हैया कुमार के लिए जब ऐसी ही भीड़ बेगूसराय में आई थी तो लिबरलों के पता नहीं कहाँ-कहाँ से आँसू निकल रहे थे। उनके लिए यह प्रेम था कन्हैया के लिए। वैसे ही राहुल गाँधी के वायनाड वाले शो में हरे रंग का प्रदर्शन भी दक्षिण के लोगों में कॉन्ग्रेस और राहुल की पैठ का परिचायक था।

लेकिन ज्योंहि मोदी ने बनारस में रोड शो किया, कि एवरीबडी लूज़ेज देयर माइंड्स! बनारस में ऐसा क्या था कि लिबरलों की सुलग गई? बनारस में एक खास रंग का समुद्र था। बनारस में एक खास व्यक्ति अपनी गाड़ी से हाथ हिला रहा था। बनारस में एक खास पार्टी के झंडे दिख रहे थे। बनारस में सनातन हिन्दू धर्म के प्रतीक चिह्नों का मेला लगा हुआ था। और बनारस में इस देश के हिन्दुओं की झुठलाई जाती रही संस्कृति को पुनर्जीवित करने की आशा की हवा चल रही थी।

इसी हवा ने बहुतों के दिलों में, और स्थानविशेष में पड़े, शोलों को जगा दिया और आग जल गई! मोदी शो ने दी हवा, थोड़ा सा धुआँ उठा और आग जल गई! और भाजपा भी कम नहीं है, वो हर साल दो से तीन बार ऐसे आयोजन करती है जिससे इन तथाकथित बुद्धिजीवियों, पाक अकुपाइड पत्रकारों और पत्रकारिता के समुदाय विशेष गिरोह के लोगों की कुंठा किलस-किलस कर बाहर आती रहे।

मोदी के भगवा से लिबरलों, कामपंथियों और पत्रकारिता के समुदाय विशेष की सुलगती क्यों है? आखिर क्या नकारात्मक है यहाँ? कुछ नहीं, सिवाय इसके कि इस भीड़ का रंग हरा क्यों नहीं है? दुर्भाग्य यह कि जब इनकी जलती है, तो उस आग का भी रंग ‘लगभग’ भगवा ही तो होता है!

- विज्ञापन -

याद कीजिए वो दौर जब सफ़ेद टोपियाँ पहने तमाम नेता इफ़्तार पार्टियों में ‘शंतिप्रियों’ से ज़्यादा ‘शांतिप्रिय’ बनने की क़वायद में लगे रहते थे। हामिद अंसारी और नजीब जंग बिना टोपी के चिल कर रहे होते हैं और केजरीवाल टोपी पहन कर सीधा मक्का में पहुँचा टाइप फ़ील करते हैं। ममता बनर्जी ऐसे दुआ में हाथ उठाती हैं और बुदबुदाती हैं मानो पूरी क़ुरान वहीं पढ़ देंगी, लेकिन जिनके यहाँ गई होती हैं, उन्हें थिएट्रिक्स की ज़रूरत नहीं होती।

ऐसा नहीं है कि समुदाय विशेष या उनके मज़हब से किसी नेता को कोई लेना-देना हो। यह न तो धर्मनिरपेक्षता है, न ही अल्पसंख्यकों के साथ खड़े होने की बात। ये सिर्फ औपचारिकता है ताकि समुदाय विशेष को लगे कि उनके प्रतीक चिह्नों को वो हिन्दू नेता ढो रहा है जिसकी पार्टी कथित अल्पसंख्यकों के हितों की बात करती है। ध्यान रहे, ‘बात करती है’, काम कोई नहीं करता।

अगर इस सम्प्रदाय विशेष के लिए कोई भी पार्टी कुछ ढंग का काम करती तो तमाम सामाजिक सूचकांकों में यह समुदाय पीछे नहीं रहता, उनके समाज में पाकिस्तान और तुर्की जैसी जगहों से नकारी गई प्रथाओं की आड़ में स्त्रियों का अपमान नहीं हो रहा होता, उनकी बच्चियों में से मात्र एक प्रतिशत ग्रेजुएट नहीं होतीं। इस मजहब के लोग भी यह सब समझते हैं लेकिन वो अभी तक इन नेताओं की नौटंकी से बाहर नहीं आ पाए हैं, और आज भी कोई इमाम उन्हें एकमुश्त वोट करने की अपील कर देता है, और शायद, वो एकमुश्त वोट कर भी देते हैं।

ख़ैर, मोदी की बात करते हैं और उस जनसैलाब की बात करते हैं जो कल वाराणसी की महान नगरी में दिखी। वाराणसी और पाटलिपुत्र, दो ऐसे शहर हैं जो दुनिया के सबसे पुराने नगरों में आते हैं जो अपनी स्थापना के बाद से लगातार जीवित हैं, जिनकी बस्तियाँ गायब नहीं हुईं। यहाँ सभ्यता की शुरुआत से शहर के लोग हैं, लगातार बसे हुए। ये जीवित शहर हैं, सबसे पुराने।

मोदी का यहाँ से चुनाव लड़ना, जीतना और इस शहर का कायाकल्प करने के प्रयास में लगा होना, बताता है कि ये सिर्फ एक शहर नहीं बल्कि सनातन अस्मिता, इतिहास और संस्कृति के कायाकल्प की कोशिश है। वाराणसी की गंगा, यहाँ के विश्वनाथ और यहाँ के महामना इतिहास के निरंतर प्रवाह के प्रतिफल को वर्तमान तक पहुँचाते हैं। उसी की कड़ी में एक प्रयास मोदी का भी है।

लिबरलों और वामपंथियों ने इस समर्थन को पंद्रह सेकेंड भी देखा होगा तो उन्हें पता चल गया होगा कि उनके हिन्दू-विरोधी प्रपंच पर पिछले पाँच सालों से शॉशांक रेडेम्पशन के एंटी डूफरेन्स की तरह एक सरकार ने धीमे-धीमे ही सही, लेकिन प्रहार तो किया है। इसलिए जब उनके इन्टॉलरेन्स राग, राग मोदी घृणा फैलावत, राग बेरोज़गारी व्यापत, राग नोटबंदी मृतक, राग जीएसटी दुकानबंदी आदि से कोई दीपक नहीं जला, लेकिन ये मान कर चल रहे थे कि वो सत्ता विरोधी लहर फैलाने में कामयाब हो जाएँगे, तभी पता चला कि उनके रेकेल वेल्च की तस्वीर के पीछे से सरकार ने वामपंथी विचारधारा की जकड़न से सनातन अस्मिता को बचा कर निकाल लिया।

और मोदी जब वाराणसी में हाथ हिलाकर अभिवादन करता है, रुक कर एक आम नागरिक की शॉल लेता है, और पूरा रास्ता मोदी-मोदी के नारों से गूँजता है तो वह सिर्फ एक रोड शो नहीं रह जाता, वो एंडी डुफरेन्स के सर गिरती पानी की वो बूँदें हैं जिसकी पवित्रता और शीतलता उसने स्वतंत्रता पाने के बाद अपने चेहरे पर महसूस की थी। मोदी के ऊपर गुलाब की पंखुड़ियों की बारिश सनातन आस्था को इन बुद्धिपिशाचों के चंगुल से छुड़ाकर बाहर लाने के आभार सदृश है।

कुछ ने भीड़ देख कर इसे हिटलर और नाज़ी जर्मनी को याद किया। ये तो उनकी अपनी चिंता है कि उन्हें लोकप्रिय नेता और बहुमत से सत्ता चलाता हुआ प्रधानमंत्री हिटलर लगता है। ये बताता है कि कुत्सित मानसिकता और दिमाग में जमा हुआ टार आपको कितना बीमार कर सकता है। हिटलर सिर्फ भीड़ जुटाने से हिटलर हो गया होता, तो वही भीड़ लालू की भी रैली में होती है, ममता की भी रैली में होती है, कॉन्ग्रेस की भी रैली में होती है। जबकि ममता के बंगाल और लालू के बिहार की जो स्थिति है, वो हिंसक तानाशाह के ज़्यादा क़रीबी होने का संकेत देती है।

किसी को इस बात से समस्या हुई कि हिन्दू आस्था का राजनीतिकरण हो रहा है! अरे चम्पू! आस्था का राजनीतिकरण बीफ पार्टी देना है, आस्था का राजनीतिकरण हिन्दू होकर इफ़्तार पार्टी में टोपी पहनकर चोरों जैसे मिसफ़िट होते हुए घुलने-मिलने की नाकाम कोशिश है, आस्था का राजनीतिकरण यह है कि तुम्हें मंदिर जाता राष्ट्राध्यक्ष गलत लगता है, लेकिन जनेऊ पहनकर बाहर आता राहुल नहीं।

अगर इनका या जिनकी चाटुकारिता में इनका दिन बीतता है, उनका जनाधार नहीं है तो यह मोदी की समस्या नहीं है। तुम जुटा लो भीड़ जहाँ से भी जुटा सकते हो, किसी ने मना तो नहीं किया। वायनाड में हरे झंडों पर चाँद-तारे की हरियाली तो पूरे देश को दिखी ही थी, किसी ने नहीं कहा कि ये रंग धार्मिक आस्था का राजनीतिकरण है।

आस्था निजी होती है, और आस्था सामुदायिक भी होती है। संविधान हमें अपना धर्म, मज़हब, रिलीजन चुनने और उसके अनुसार आचरण करने की स्वतंत्रता देता है। मोदी द्वारा गंगा आरती उनकी निजी आस्था भी है, और उन करोड़ों हिन्दुओं की सामूहिक आस्था भी जिन्होंने मोदी को सत्ता दी है ताकि उनके हितों का भी ध्यान रखे। यहाँ पर हित से तात्पर्य यह है कि पिछली सरकारों द्वारा एक तय तरीके से उनके देवताओं, मंदिरों, इतिहास और ग्रंथों को झुठलाया जाता रहा, शोध पत्र लिखे जाते रहे कि अयोध्या में मस्जिद थी, बताया गया आर्य और द्रविड़ हुआ करते थे, फैलाया गया कि दलितों पर 5000 सालों से अत्याचार हुआ!

ये प्रपंच तुमने चलाया तो खूब अच्छा। इसका आधार कुछ नहीं, बस तुमने कहना शुरु किया और खूब प्रोपेगेंडा फैलाया। तुम्हारा प्रधानमंत्री यहाँ तक कह देता है कि इस देश के संसाधनों पर पहला हक़ कथित अल्पसंख्यकों का है! क्यों? किस हिसाब से? धर्मनिरपेक्षता कहाँ गई थी उस वक्त? इसीलिए तो तुम्हारी सुलगती है जब मोदी वंचितों, ग़रीबों और बेघरों की बात करते हुए, जाति और धर्म से परे, सबको दस प्रतिशत आरक्षण देकर सामाजिक न्याय की बात सही मायनों में करता है।

ये भगवा रंग किसी को डराने के लिए नहीं है। अयोध्या का दीपोत्सव किसी को धमकाने के लिए नहीं है। क्या इफ़्तार पार्टियाँ किसी को डराने के लिए होती थीं? बिलकुल नहीं। किसी नेता को लगा कि उसे जाना चाहिए, वो गया। किसी को लगा कि दुआ पढ़ने से उसे एक मजहबी आबादी अपना नेता मान कर अगली बार वोट देगी, तो उसे कान पर साड़ी का पल्लू रख कर आँख बंद कर लिया।

ये डराने के लिए नहीं है, ये लोगों का डर भगाने के लिए है। ये संस्कृतियों के युद्ध को टालने की एक ज़रूरत है। ये भगवा रंग उन लोगों को संबल देने के लिए है कि उन्हें डरने की आवश्यकता नहीं है। उनके राम, शिव, हनुमान पर कोई किसी रैली में चप्पल नहीं मारेगा। उनकी दुर्गा को कोई वेश्या नहीं कहेगा। उनके त्रिशूलों पर कोई कंडोम नहीं चढ़ाएगा। ये उस तरह की कुत्सित कोशिशों के लिए एक संकेत है कि सुधर जाओ। ये प्रतीकात्मक रूप से यह कहना भर है कि तुम्हारी मलिन कोशिशों को अब नहीं सहा जाएगा।

ये डराना नहीं है। कोई हिटलर नहीं आया। हिन्दुओं की धरती है, सर्वसमावेशी विचार के लोग हैं, सहिष्णुता के प्रवर्तक और स्नेह में डूबे हुए लोग कि इस्लामी आक्रमणकारियों, इस्लामी बलात्कारियों, इस्लामी और विदेशी हत्यारों को भी बसने की ज़मीन दी। और कितने उदाहरण चाहिए? ऐसे लोग किसी को क्या डराएँगे? हम तो स्वयं ही हर पर्व पर एक खास तरह के आतंक से डर जीते रहे हैं। अब तो तुम हमें, जीने दो, जीने दो!

बख्तियार ख़िलजी जैसे लुटेरों के नाम पर तो हमने शहर बना रखे हैं, जिसने नालंदा विश्वविद्यालय में आग लगाई थी। हमने उन लुटेरों की संतानों को बसने दिया जिन्होंने हमें सदियों ग़ुलाम बनाए रखा। हमसे तुम्हें कैसा डर? हम तो बस रोड शो कर रहे हैं, हमने तो बस वो झंडे निकाले हैं जो वहाँ हुआ करते थे जिसे किसी ने तोड़ दिया। हमने तो बस प्रयागराज को दोबारा प्रयागराज बनाया है, इसमें डराने-धमकाने जैसी कोई बात ही नहीं है।

जैसे इस्लामी आतंकियों ने, लुटेरों और बलात्कारियों ने संस्कृति को मिटाने का सबसे उचित तरीक़ा आस्था पर प्रहार और साहित्य-इतिहास को जलाने-बदलने में ढूँढ निकाला था, हम तो उसे रीक्लेम कर रहे हैं। जो हमारा था, जैसा हमारा था, संवैधानिक दायरे में रहते हुए वही पाने की कोशिश कर रहे हैं।

ये भगवा भीड़ तो बस अपना नेता देखने आई है। ये तो वो लोग हैं जिनकी मृत आत्माओं को किसी ने संजीवनी दे दी। ये तो वसुधैव कुटुम्बकम् वाले हैं, जिसकी वसुधा से पिछली सरकारों ने उन्हीं के कुटुम्ब को खदेड़ना शुरु कर दिया था। ये वो भीड़ है जिसके भीतर आशा जगी है कि वोट देकर भी इतिहास के गौरव को वापस पाया जा सकता है।

मोदी के रोड शो की भीड़ से जलो मत, यहाँ के लोगों का प्रेम जीतने के लिए संघर्ष करो। सनातन में पापी को भी मुक्ति मिलती है। पाक अकुपाइड पत्रकार, पत्रकारिता के समुदाय विशेष गिरोह के सम्मानहीन सदस्य, लिबरलों की भीड़ के लम्पट नेतावृंद और तुष्टीकरण की टोपी लगाकर टहलने वाले लीडरों को भी मोक्ष मिल सकता है, बशर्ते वो वाराणसी की धरती पर जाएँ, नए रेलवे स्टेशन पर उतरें, गंगा घाट की सीढ़ियों का मन से प्रणाम करें और माँ गंगा से बोलें, “अब हम लम्पटई नहीं करेंगे, अब हम चिरकुट नहीं बनेंगे”।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब भारत गुलाम था, तब हम स्वतंत्र थे: नेपाली राजदूत ने कहा- चीन नहीं, भारत ने हमारी जमीन पर किया कब्जा

भारत के बारे में नेपाली राजदूत ने कहा कि पड़ोसियों को पड़ोसियों से डरना नहीं चाहिए। उन्होंने तिब्बत, हॉन्गकॉन्ग और ताइवान को चीन का हिस्सा करार दिया।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

जिसने जसवंत सिंह को रुलाया, वो उन्हीं के नाम पर BJP-मोदी को कोस रहा: सुधींद्र कुलकर्णी की वरिष्ठ पत्रकार ने खोली पोल

सुधींद्र कुलकर्णी ने जसवंत सिंह के लिए आपत्तिजनक विशेषणों का इस्तेमाल करते हुए कहा था, "मूर्ख! आपको गिनती तक गिनने नहीं आती है।"

75 सालों से एक पेड़ के नीचे बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षक: नहीं लेते कोई सरकारी सहायता, देते हैं गीता का ज्ञान भी

ओडिशा के जाजपुर में नंदा प्रस्टी नामक एक ऐसे बुजुर्ग शिक्षक हैं, जो 75 वर्षों से क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा दे रहे, बिना एक भी रुपया लिए।

भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया था… वो ऐलान, जिसे ‘शहीद’ ने जिंदगी भर निभाया

“मिस्टर मजिस्ट्रेट, आप भाग्यशाली हैं कि आपको यह देखने को मिल रहा। भारत के क्रांतिकारी किस तरह अपने आदर्शों के लिए फाँसी पर भी झूल जाते हैं।”

ट्रक में ट्रैक्टर लाया, सड़क पर पटक के जला डाला: कॉन्ग्रेसी नेताओं ने लगाए ‘भगत सिंह’ के नारे, देखें वीडियो

विरोध प्रदर्शन के नाम पर दिल्ली के इंडिया गेट पहुँचे पंजाब यूथ कॉन्ग्रेस के नेताओं ने एक ट्रैक्टर को पलट कर उसे आग के हवाले कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

ड्रग्स स्कैंडल: रकुल प्रीत ने उगले 4 बड़े बॉलीवुड सितारों के नाम, करण जौह​र ने क्षितिज रवि से पल्ला झाड़ा

NCB आज दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से पूछताछ करने वाली है। उससे पहले रकुल प्रीत ने क्षितिज का नाम लिया है, जो करण जौहर के करीबी बताए जाते हैं।

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

जब भारत गुलाम था, तब हम स्वतंत्र थे: नेपाली राजदूत ने कहा- चीन नहीं, भारत ने हमारी जमीन पर किया कब्जा

भारत के बारे में नेपाली राजदूत ने कहा कि पड़ोसियों को पड़ोसियों से डरना नहीं चाहिए। उन्होंने तिब्बत, हॉन्गकॉन्ग और ताइवान को चीन का हिस्सा करार दिया।

मध्य प्रदेश: परस्त्री से कथित संबंध पर पत्नी ने उठाई आवाज, स्पेशल DG ने पीटा, सरकार ने ड्यूटी से हटाया

वीडियो में मध्य प्रदेश के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा अपनी पत्नी प्रिया शर्मा के साथ बेरहमी से मारपीट करते देखे जा सकते हैं।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

अनिल अंबानी के खिलाफ चीन के 3 बैंको ने शुरू की कार्रवाई: 5276 करोड़ रुपए का है मामला

बैंक ने कहा है कि वह क्रॉस एग्जामिनेशन के जरिए अपने अधिकारों के बचाव हेतु हर कानूनी कार्रवाई करेंगे और अंबानी से अपना लोन वापस लेंगे।

जिसने जसवंत सिंह को रुलाया, वो उन्हीं के नाम पर BJP-मोदी को कोस रहा: सुधींद्र कुलकर्णी की वरिष्ठ पत्रकार ने खोली पोल

सुधींद्र कुलकर्णी ने जसवंत सिंह के लिए आपत्तिजनक विशेषणों का इस्तेमाल करते हुए कहा था, "मूर्ख! आपको गिनती तक गिनने नहीं आती है।"

नाम कफील लेकिन फेसबुक पर ‘करण’… लड़कियों को भेजता था अश्लील मैसेज, हुआ गिरफ्तार

वो खुद को जिम ट्रेनर बताता था। उसने फेसबुक पर करण नाम से फर्जी प्रोफाइल तैयार की थी और उसी से वह महिलाओं को अश्लील मैसेज भेजता था।

75 सालों से एक पेड़ के नीचे बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षक: नहीं लेते कोई सरकारी सहायता, देते हैं गीता का ज्ञान भी

ओडिशा के जाजपुर में नंदा प्रस्टी नामक एक ऐसे बुजुर्ग शिक्षक हैं, जो 75 वर्षों से क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा दे रहे, बिना एक भी रुपया लिए।

‘मुझे गोली तो नहीं मारोगे बाबू जी’ – गुंडा नईम UP पुलिस के पैरों में गिर कर रोया, गले में एक तख्ती लटका किया...

"मुझे गोली तो नहीं मारोगे बाबू जी। मुझे गिरफ्तार कर लो, घर में मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं।" - नईम पर गोकशी, गैंगस्टर एक्ट में कई मामले दर्ज।

भगत सिंह को उनके दादाजी ने जनेऊ संस्कार के समय ही दान कर दिया था… वो ऐलान, जिसे ‘शहीद’ ने जिंदगी भर निभाया

“मिस्टर मजिस्ट्रेट, आप भाग्यशाली हैं कि आपको यह देखने को मिल रहा। भारत के क्रांतिकारी किस तरह अपने आदर्शों के लिए फाँसी पर भी झूल जाते हैं।”

ट्रक में ट्रैक्टर लाया, सड़क पर पटक के जला डाला: कॉन्ग्रेसी नेताओं ने लगाए ‘भगत सिंह’ के नारे, देखें वीडियो

विरोध प्रदर्शन के नाम पर दिल्ली के इंडिया गेट पहुँचे पंजाब यूथ कॉन्ग्रेस के नेताओं ने एक ट्रैक्टर को पलट कर उसे आग के हवाले कर दिया।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,070FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements