Tuesday, October 27, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे कॉन्ग्रेस के सस्ते ध्रुव राठी (जो स्वंय ही सस्ता है) बन कर रह गए...

कॉन्ग्रेस के सस्ते ध्रुव राठी (जो स्वंय ही सस्ता है) बन कर रह गए हैं राहुल गाँधी!

अब शायद ही कोई ऐसा विषय रह गया हो, जिस पर उस विषय के जानकारों से ज्यादा जानकारी राहुल गाँधी ने ना दे दी हो। अगर इसी स्ट्राइक रेट के साथ राहुल गाँधी सभी घरेलू, देशी, विदेशी, राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय, आकाशगंगा, ब्लैकहोल्स के अंदरूनी मामलों पर भावुक संगीत के साथ वीडियो बनाते रहे तो वो दिन दूर नहीं जब 'रोजगार' पर वीडियो बनाते-बनाते किसी दिन राहुल गाँधी.......

वो वकील भी है, वो डॉक्टर भी है, वो जज भी है, वो पुलिस भी है। वो विषाणु विशेषज्ञ से लेकर आरबीआई का प्रबंधक भी है। नासा वाले किसी भी सैटेलाईट को अन्तरिक्ष भेजने से पहले उसके यूट्यूब वीडियो देखने लगे हैं। उसका नाम लेने भर से वो आपको ‘एक्स्पोज़’ कर सकता है। यहाँ आप ध्रुव राठी लिखिए और वहाँ आपको एक्स्पोज करता एक सनसनीखेज यूट्यूब वीडियो ‘वायरल’ हो पड़ता है।

यह डेढ़ जीबी दैनिक सस्ते इन्टरनेट का ही कमाल है कि जिस पार्टी के युवराज को अपने पार्टी के भीतर ही आए दिन खिसक रहे विधायकों की कानों कान खबर नहीं लगती, वह भी ट्विटर पर भावुक संगीत के साथ भारत के पड़ोसियों के साथ सम्बन्धों, विदेश नीति और फॉरेन पॉलिसी पर ज्ञान दे रहे हैं।

बहुत से बड़े और लम्बे वीडियो सेशंस के बाद राहुल गाँधी अब एक बेहद छोटा और महज साढ़े तीन मिनट का एक वीडियो लेकर आए हैं। इस वीडियो में उनका मुख्य मर्म यह है कि चीन ने गलवान घाटी में खुरापात करने के लिए यह समय क्यों चुना?

इसका जवाब बेहद साधारण सा है – जवाब यह है कि शायद चीन भी जानता था कि ऐसा अवसर उन्हें पहले कभी नहीं मिल पाता, जब भारत में ही रहकर विपक्ष में बैठकर बूढ़ा होता, इस देश में सबसे लम्बे समय तक राज करता सत्ता का लालची परिवार अपने ही देश के खिलाफ जाकर चीन के लिए समर्थन दे रहा होता है? ऐसे में, यह तो वास्तव में चीन के लिए आपदा को अवसर में बदलने वाली बात थी।

सबसे हास्यास्पद बात यह है कि आए दिन नया भावुक वीडियो बनाकर देश में रोजगार पर ऐसा व्यक्ति चिंता व्यक्त करता नजर आता है, जिसके अपने ही परिवार में आने वाली अभी कई पुस्तों को सिर्फ इस कारण रोजगार की चिंता नहीं करनी होगी क्योंकि उसके नाम के साथ किसी ना किसी तरह से ‘गाँधी’ या फिर ‘नेहरू’ जुड़ा हुआ है। संयोगवश, जिनके नाम में गाँधी नहीं भी जुड़े हों, उन्हें जोड़ लेने के लिए इस परिवार को किसी बाहरी व्यक्ति की सलाह लेने की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

पड़ोसी मुल्कों के साथ भारत की विदेश नीति: मोदी सरकार के 6 साल ‘बनाम’ UPA

विदेशों से सम्बन्ध पर राहुल गाँधी का कहना है कि एक समय था जब अमेरिका, रूस और यूरोपीय देशों से भारत के अच्छे सम्बन्ध थे। लेकिन वह ये बताना भूल गए कि जिन अच्छे विदेशी सम्बन्धों की वो बात कर रहे हैं, वो मोदी सरकार के दोनों कार्यकालों से पहले शायद ही इतने गहरे रहे हों।

यह सिर्फ मोदी-ट्रम्प रिश्तों तक सीमित नहीं बल्कि इजराइल और रूस के साथ बढ़ते रक्षा सौदों और सामरिक सम्बन्धों से लेकर ऑस्ट्रेलिया के साथ होने वाले ट्रेड डील्स से ही पता चलता है, जिन्हें लेकर पिछली यूपीए सरकार पीछे हट गई थी।

चीन के व्यवहार के साथ ही जिन विदेशी सम्बन्धों का रोना राहुल गाँधी अपने इस तीन मिनट के वीडियो में रो रहे हैं, उन्हें इसकी गर्त में जाकर देखना चाहिए कि कहीं ऐसा तो नहीं कि जब चीन डोकलाम सीमा में घुसपैठ की कोशिश कर रहा था, तब कहीं कॉन्ग्रेस चीन की कम्युनिस्ट सरकार से अपने पारिवारिक राजीव गाँधी फाउंडेशन के लिए ‘वित्तीय सहायता’ लेने में व्यस्त तो नहीं थी?

या फिर राहुल गाँधी यह संदेश देना चाहते हैं कि कॉन्ग्रेस की विदेश नीतियों का आधार ही यही है कि चीन हमारी सेना का निरंतर दमन करते जाएँ और परदे के पीछे गाँधी परिवार उसी देश से वित्तीय सहायता की भीख माँगता रहे?

नेपाल की कम्युनिस्ट सत्ता का इस्तेमाल चीन हमेशा से ही पड़ोसी मुल्कों के साथ अपने शत्रुतापूर्ण व्यवहार के लिए इस्तेमाल करता आया है। इसके बाद नेपाल की सत्ता में जब भी भारत विरोधी भावनाओं ने पैर पसारा है, उसकी बुनियाद 1986-87 में राजीव गाँधी रख चुके हैं, जब इन्हीं राहुल गाँधी के पिता ने देश का प्रधानमंत्री रहते हुए नेपाल की तीन महीने की नाकाबंदी कर दी थी।

विदेश नीति में कॉन्ग्रेस कितनी कुशल रही है इस बात का सबूत यही है कि नेपाल की इस नाकाबंदी के दौरान भारत से नेपाल पानी, नमक और तेल तक नहीं जा सका था। नेपाल को भारत कभी अपने भरोसे में ला ही नहीं सका था।

वर्ष 1971 से 1975 के बीच इंदिरा गाँधी ने बांग्‍लादेश के मुद्दे पर नेपाल को भरोसे में नहीं लिया था। जब सिक्किम भारत का हिस्सा बना, तब भी यही हुआ। भारत के चीन के 1962 युद्ध के दौरान जवाहर लाल नेहरू ने भी यही किया। यही वजह है कि नेपाल को आज भी लगता है कि भारत उसके साथ अन्‍याय करता है। नतीजा यह हुआ कि समय के साथ एकमात्र पूर्ण हिन्दू देश नेपाल भी धर्म निरपेक्षता का आडम्बर करने लगा।

इन समबन्धों में प्राण फूंकने की कोशिश एक बार फिर गत 6 सालों में पीएम मोदी ने की थी, नेपाल में आपदा और भूकम्प के दौरान भारत से हर सम्भव मदद भेजी गईं, और ये सभी प्रयास कांग्रेस के प्रपंच की भेंट चढ़ते रहे।

भारत के पड़ोसी देश, मॉरिशस, मालदीव के लिए कोरोना वायरस की मह्मारी के दौरान ही भारत द्वारा उन्हें हर सम्भव मदद भेजी जा रही हैं। भारत एयर इंडिया के विशेष विमान से मेडिकल इक्विपमेंट्स, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट, विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम और अन्य राहत सामग्री मॉरीशस को भेज चुका है। सिर्फ मॉरिशस ही नहीं बल्कि मेडागास्कर, मालदीव्स, सेशेल्स, कोमोरोस आदि देशों को भी कोरोना वायरस के दौरान मदद के तौर पर भारत की ओर से दवाइयाँ भेजी गई हैं।

अपने सामुद्रिक पड़ोसी देश मालदीव के साथ भारत के सम्बन्धों में पीएम मोदी ने दुसरे कार्यकाल की शुरुआत से ही सकारात्मक संकेत देते हुए ‘पड़ोसी प्रथम’ की नीति का विस्तार किया। दोबारा प्रधानमंत्री निर्वाचित होने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा पर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मालदीव द्वारा अपने सर्वोच्च सम्मान ‘रूल ऑफ निशान इज्जुद्दीन’ से सम्मानित किया गया था। इसी तरह अरब देशों ने भी पीएम मोदी की अंतरराष्ट्रीय छवि को सम्मानित करने का काम किया है।

अपने सामरिक हितों के लिए चीन भारत के सबसे करीबी देश श्रीलंका हम्बनटोटा बंदरगाह को विकसित करना चाहता है। श्रीलंका में हम्बनटोटा बंदरगाह का नियंत्रण चीन को देने के सवाल पर भारत में पहले से ही चिताएँ थीं। 2008-09 में चीन के दख़ल की कोशिशें शुरू हुई थीं, और तब से भारत इसे लेकर चिंतित ही रहा है, यह कहने कि आवश्यकता नहीं है कि तब भारत में UPA की सरकार थी और हमारे पास एक रोबोट प्रधानमंत्री हुआ करते थे।

यह सरकार भारत के हितों के लिए कितनी सजग थी, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि श्रीलंका ने भारत को 2008 में इस बंदरगाह की पेशकश की थी लेकिन उस समय कॉन्ग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार, जिसके प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह थे, का पहला कार्यकाल खत्म होने के कगार पर था। तब भारत सरकार ने कहा था कि भारत 1.5 अरब डॉलर का निवेश करने की स्थिति में नहीं है।

इसके अलावा, इसके लिए किसी प्रमाण की आवश्यकता नहीं है की एक परिवार के निजी स्वार्थ और देश के पहले प्रधानमंत्री की व्यक्तिगत छवि के लिए यह देश अक्साई चिन की सीमा से लेकर कश्मीर की जनता तक का विश्वास खोता रहा है और यह सब समेटने के प्रयास भी इन्हीं छह सालों में किए गए हैं, जिन्हें लेकर राहुल गाँधी रोज किसी ना किसी तरह से प्रासंगिक बने हुए हैं। नेहरू ने तो जनता को यह भनक तक नहीं लगने दी थी कि देश की सीमा के एक बड़े हिस्से पर चीन अतिक्रमण कर चुका है।

लेकिन तथ्यों का यदि गाँधी परिवार से अगर कोई नाता होता तो आज वो राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी वाड्रा के हेयरस्टाइल में उनका भविष्य नहीं तलाश रही होती। फिलहाल राहुल गाँधी को अपने अगले वीडियो में एक ऐसा ग्राफ भी शेयर करना चाहिए, जिसमें दर्शाया गया हो कि किस तरह से किसी इंसान के अपने पिता से मिलते-जुलते हेयर स्टाइल और उस व्यक्ति के प्रधानमंत्री बनने की सम्भावना के बीच व्युत्क्रम सम्बन्ध होता है।

पीएम इन वेटिंग का ‘पीएम मटेरियल’ से ध्रुव राठी बनने तक का सफ़र

कहाँ एक ओर तमाम पीआर एजेंसी की ताकत एक राहुल गाँधी को राजीव गाँधी तक नहीं बना पा रही है, और कहाँ राहुल गाँधी हैं कि खुद एक प्रायोजित एजेंडाबाज ध्रुव राठी होने का सपना मन में पालकर चल रहे हैं। ध्रुव राठी होने और राहुल गाँधी होने के लिए एकमात्र आवश्यकता तर्कों से सख्त बगावत की प्रवृत्ति है, और यह स्वाभाविक हुनर इन दोनों ही हस्तियों में मौजूद है।

अब शायद ही कोई ऐसा विषय रह गया हो, जिस पर उस विषय के जानकारों से ज्यादा जानकारी राहुल गाँधी ने ना दे दी हो। अगर इसी स्ट्राइक रेट के साथ राहुल गाँधी सभी घरेलू, देशी, विदेशी, राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय, आकाशगंगा, ब्लैकहोल्स के अंदरूनी मामलों पर भावुक संगीत के साथ वीडियो बनाते रहे तो वो दिन दूर नहीं जब ‘रोजगार’ पर वीडियो बनाते-बनाते किसी दिन राहुल गाँधी खुद ध्रुव राठी का ही रोजगार ना खा बैठें।

टेलीविजन पर आने वाले ‘टेलेंट हंट’ प्रोग्राम्स, रियेलिटी शो और राहुल गाँधी के वीडियो में एक बात कॉमन है कि दोनों में ही माहौल बनाने के लिए बेहद भावुक और अप्रासंगिक संगीत की धुन बजाई जाती हैं। हालाँकि, दोनों ही जगह ‘टेलेंट खोजना’ और उसके लिए फिर ‘माहौल बनाना’, ये दोनों भी मिलती-जुलती चीजें ही हैं।

कोरोना वायरस की आपदा को अवसर में बदलने के लिए राहुल गाँधी शुरू से ही यत्न करते नजर आ रहे हैं। ऐसा करने के लिए उन्होंने अर्थशास्त्र, दर्शनशास्त्र, टीवी, सिनेमा से लेकर किसी आकाशगंगा में छुपे एलियंस और इटली की विलुप्त पशु-पक्षियों की प्रजातियों तक से भी बात कर ली है। हालाँकि, इतने सब के बीच भी वो आज तक स्वयं से बात कर थोड़ा सा आत्मचिंतन करने की फुर्सत नहीं निकाल सके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

माँ-बाप दाेनों रहे CM फिर भी पास नहीं कर पाए मैट्रिक: तेजस्वी पर योगी आदित्यनाथ की टीम ने यूँ कसा तंज

“ये है तेजस्वी यादव की सभाओं में भीड़ का सच। गुस्साए लोगों ने कहा, 500 रुपए देकर 5 साल राज करना चाहता है तेजस्वी। वोट मोदी को ही देंगे...”

गोहत्या: 18 घटनाएँ, जहाँ रंगेहाथ पकड़े गए 87 गौ-तस्कर, जिनसे मिले कुल 2604 गौवंश अवशेष

उच्च न्यायालय ने निर्दोष व्यक्तियों को फँसाने के लिए उत्तर प्रदेश गोहत्या निरोधक कानून के प्रावधानों के लगातार दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की।

प्रचलित ख़बरें

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

ससुर-नौकर से Sex करती है ब्राह्मण परिवार की बहू: ‘Mirzapur 2’ में श्रीकृष्ण की कथाएँ हैं ‘फ़िल्मी बातें’

यूपी-बिहार के युवाओं से लेकर महिलाओं तक का चित्रण ऐसा किया गया है, जैसे वो दोयम दर्जे के नागरिक हों। वेश्याएँ 'विधवाओं के गेटअप' में आती हैं और कपड़े उतार कर नाचती हैं।

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"
- विज्ञापन -

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

पैगंबर मुहम्मद के कार्टूनों का सार्वजानिक प्रदर्शन, फ्रांस के एम्बेसेडर को पाकिस्तान ने भेजा समन

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने इस मुद्दे पर कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति का बयान बेहद गैर ज़िम्मेदाराना था और ऐसे बयान से सिर्फ आग को हवा मिलेगी।

राहुल बन नाबालिग लड़की से की दोस्ती, रेप के बाद बताया – ‘मैं साजिद हूँ, शादी करनी है तो धर्म बदलो’

आरोपित ने खुद ही पीड़िता को बताया कि उसका नाम राहुल नहीं बल्कि साजिद है। साजिद ने पीड़िता से यह भी कहा कि अगर शादी करनी है तो...

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

ताजमहल में फहराया भगवा झंडा, गंगा जल छिड़क कर किया शिव चालीसा का पाठ

ताजमहल परिसर में दाखिल होते ही उन्होंने वहाँ पर गंगा जल का छिड़काव किया और भगवा झंडा फहराया। शिव चालीसा का पाठ भी किया गया।

24 घंटे में रिपब्लिक TV के दिल्ली-नोएडा के पत्रकारों को मुंबई के पुलिस थाने में हाजिर होने का आदेश

अर्नब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि नाइंसाफी की इस लड़ाई में...

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

माँ-बाप दाेनों रहे CM फिर भी पास नहीं कर पाए मैट्रिक: तेजस्वी पर योगी आदित्यनाथ की टीम ने यूँ कसा तंज

“ये है तेजस्वी यादव की सभाओं में भीड़ का सच। गुस्साए लोगों ने कहा, 500 रुपए देकर 5 साल राज करना चाहता है तेजस्वी। वोट मोदी को ही देंगे...”

गोहत्या: 18 घटनाएँ, जहाँ रंगेहाथ पकड़े गए 87 गौ-तस्कर, जिनसे मिले कुल 2604 गौवंश अवशेष

उच्च न्यायालय ने निर्दोष व्यक्तियों को फँसाने के लिए उत्तर प्रदेश गोहत्या निरोधक कानून के प्रावधानों के लगातार दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,314FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe