Monday, April 19, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे छात्रों का अधिकार और दोमुँहापन: FTII और JNU के वाम मजहब के छात्र Vs...

छात्रों का अधिकार और दोमुँहापन: FTII और JNU के वाम मजहब के छात्र Vs BHU के विद्यार्थी

एक ख़ास आयातित विचारधारा का विरोध तो अधिकार है, मगर कोई और विरोध करे तो उसे “गुंडागर्दी” कहकर सिरे से ख़ारिज किया जा सकता है। ये वो जहरीली विचारधारा है जिसने दशकों की मेहनत से विश्वविद्यालयों और पत्रकारिता के संस्थानों पर कब्जा जमाया है।

“अगर किसी व्यक्ति की तनख्वाह बात को ना समझने पर निर्भर हो तो उसे वही बात समझा पाना कठिन होगा!” ऐसा मैं नहीं कहता, ये किसी सिनक्लैर साहब ने कहा था। अब सोचिए कि जिस न्यूज़ एंकर (पत्रकार या संवाददाता नहीं) की पूरी टीआरपी अगर किसी समुदाय पर धौंस जमाने, किसी “ब्राह्मणवाद” को कोसने, और किसी ख़ास आयातित विचारधारा को प्रचारित करने पर टिकी हो, तो समझना छोड़िए, वो भला सुने भी क्यों? बता दें कि यहाँ पर सवाल संस्कृत की शिक्षा का है ही नहीं, बल्कि सवाल धर्म विज्ञान पढ़ाने का है, मगर इससे उसे क्या लेना देना? उसे तो बस अपना खुद का एक कथानक गढ़ना है, जिसमें वैसे भी प्रथम दृष्टया ही कई छेद नजर आ जाते हैं।

बात अगर सिर्फ छात्रों के विरोध पर किसी शिक्षण संस्थान से जुड़े व्यक्ति को हटाने या ना हटाने की हो, तो हाल में ही जेएनयू की दीवारों और दफ्तरों के दरवाजे इत्यादि पर लिखा “वीसी गो बैक” (कई असंसदीय शब्दों के साथ) याद आ जाता है। कुछ वर्षों से टीवी पर विवादों को देखा-सुना हो तो संभवतः हाल का ही एफटीआईआई विवाद भी याद आ जाएगा। जून 2015 में जब गजेन्द्र चौहान की वहाँ चेयरमैन के तौर पर नियुक्ति हुई, तो वाम मजहब के युवा मोर्चे एआईएसए के (तथाकथित) छात्रों ने लंबा विरोध किया। कई फ़िल्मी अभिनेता और नेता भी उस वक्त समर्थन और विरोध में उतरे थे। आखिर गजेन्द्र चौहान को बदला गया था। क्या ये पूछा जाए कि अगर गजेन्द्र चौहान के मामले में ये तय किया जा सकता है, तो आखिर बीएचयू में छात्रों को ये अधिकार क्यों नहीं होना चाहिए?

अगर मामला सिर्फ विचारधारा के आधार पर किसी के समर्थन और किसी के विरोध का है, और जेएनयू एवं एफटीआईआई जैसे संस्थानों के वाम मजहब के छात्र “शिक्षा का भगवाकरण” कहकर किसी नियुक्ति का विरोध कर सकते हैं, तो वही अधिकार आखिर बीएचयू के छात्रों को क्यों नहीं मिलना चाहिए? समस्या की जड़ में यही दोमुँहापन है। ये मान लिया जाता है कि एक ख़ास आयातित विचारधारा का विरोध तो अधिकार है, मगर कोई और विरोध करे तो उसे “गुंडागर्दी” कहकर सिरे से ख़ारिज किया जा सकता है। ये वो जहरीली विचारधारा है जिसने दशकों की मेहनत से विश्वविद्यालयों और पत्रकारिता के संस्थानों पर कब्जा जमाया है।

ये रणनीति कभी दशकों पहले पूर्णचंद जोशी (पीसी जोशी) ने बनाई थी। किसी दौर में वो कम्युनिस्ट पार्टी के मुखिया थे। बाद के दौर में स्थितियाँ बदली। जब दूसरा विश्वयुद्ध शुरू हुआ तो युद्ध का विरोध करने के कारण भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था। बाद में जब स्टालिन और हिटलर दोस्त नहीं रहे, यानी जर्मनी ने सोवियत रूस पर हमला कर दिया तो भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को आदेश आया कि ये युद्ध तो फासीवाद के खिलाफ है! फिर क्या था भारतीय कम्युनिस्ट भी “हम लड़ेंगे साथी” कहते हुए कूद पड़े! इस दौर में भी पीसी जोशी ही भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के मुखिया थे और उस समय भी ये कॉन्ग्रेस के समर्थक और नेहरु के करीबी थे।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने 1942 के भारतीय स्वतंत्रता के प्रयासों से तो दूरी बनाई, मगर अब तक पीसी जोशी को समझ में आने लगा था कि आगे के लिए अपने पास समर्थक बनाए रखने और नए समर्थक जुटाने के लिए प्रचार तंत्र यानी अख़बारों, और नई फसल यानी विश्वविद्यालयों पर कब्जा ज़माना जरूरी है। कम्युनिस्ट पार्टी के 1938 में “नेशनल फ्रंट” शुरू करने पर वो इसके एडिटर भी थे और आजादी के बाद उन्हें पार्टी के साप्ताहिक “न्यू ऐज” का संपादक भी बनाया गया था। खुद पत्रिकाओं और अख़बारों से जुड़े होने के अलावा कम्युनिस्टों के नाजियों से शुरुआती रिश्तों की वजह से भी उन्हें प्रचार के तरीकों पर कब्जा जमाने के फायदों की अच्छी समझ थी।

बाद में जब मोस्को के आदेशों की वजह से भारतीय कम्युनिस्टों ने हथियार उठाकर भारत के खिलाफ बगावत का फैसला किया तो पीसी जोशी से मुखिया का पद छिन गया। पार्टी प्रमुख के पद से 1948 में हटाए जाने के बाद उन्हें जनवरी 1949 में पार्टी से भी निष्कासित कर दिया गया। कम्युनिस्टों के लिए ये उनके बड़े नारों में से एक “ये आजादी झूठी है” का दौर रहा। बाद में पीसी जोशी को वापस पार्टी में लिया तो गया मगर वो फिर नेतृत्व के पदों पर कभी नहीं आए। उन्हें “न्यू ऐज” के संपादक का काम दिया गया था। अपने दौर में ही पीसी जोशी प्रोग्रेसिव राइटर्स एसोसिएशन और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) जैसे संगठन बना चुके थे।

उनका दौर बीतने पर भी कभी इनका काम रुका नहीं। ये एक स्थापित तथ्य है कि ग्राम्सकी की हेगेमोनी के सिद्धांतों का पीसी जोशी ने बखूबी इस्तेमाल किया था। उनके शुरू किए काम को आयातित विचारधारा को मानने वालों ने सात दशकों से जारी रखा है। इसका नतीजा ये है जो हम आज अपने सामने देखते हैं। सीधे तौर पर बौद्धिक कहे जा सकने वाले (लेखन आदि) या उससे जुड़े व्यवसायों में ये पैठ ऊँचे स्तर पर काफी ज्यादा है। ऊँचे पद ऐसे लोगों के हाथ में होने के कारण निचले पदों पर काम करने वाला अगर जानता भी हो कि उसे जो करने कहा जा रहा वो नैतिक रूप से गलत है, तब भी कई बार उसे चुप्पी साधनी पड़ती है।

इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि संपादक के आदेश पर पत्रकार को लेख बदलना पड़ता है। ये हमें वापस अपने शुरुआती वाक्य “अगर किसी व्यक्ति की तनख्वाह बात को ना समझने पर निर्भर हो तो उसे वही बात समझा पाना कठिन होगा!” पर ले आता है। युद्ध में किसी सेना का एक जगह से किसी दूसरी जगह जाना देखें तो भी संवाद और संचार का महत्व समझ में आ जाएगा। सबसे पहले कम्युनिकेशन यानी संचार का विभाग जाकर काम करना शुरू करता है, बाकी की सेना, तोपों से लेकर रसद और दूसरे विभाग, धीरे-धीरे आते रहते हैं।

बाकी हमारे संचार के माध्यमों पर नाजियों के पोलैंड पर हमले वाले, पुराने (1930 के दशक वाले) दौर के दोस्तों यानी कॉमरेडों के अवैध कब्जे का नुकसान कैसे हुआ है, इस पर भी सोचिएगा। फ़िलहाल सोचने पर जीएसटी नहीं लगता!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बीजेपी को कोसने वाले लिबरल TMC पर मौन’- हर दिन मेगा रैली कर रहीं ममता लेकिन ‘ट्विटर’ से हैं दूर: जानें क्या है झोल

ममता बनर्जी हर दिन पश्चिम बंगाल में हर बड़ी रैलियाँ कर रही हैं, लेकिन उसे ट्विटर पर साझा नहीं करतीं हैं, ताकि राजनीतिक रूप से सक्रीय लोगों के चुभचे सवालों से बच सकें और अपना लिबरल एजेंडा सेट कर सकें।

क्या जनरल वीके सिंह ने कोरोना पीड़ित अपने भाई को बेड दिलाने के लिए ट्विटर पर माँगी मदद? जानिए क्या है सच्चाई

केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने ट्विटर पर एक नागरिक की मदद की। इसके लिए उन्होंने ट्वीट किया, लेकिन विपक्ष इस पर भी राजनीति करने लगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने फैलाया झूठ: रेमडेसिविर की आपूर्ति पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा ब्रुक फार्मा के निदेशक के उत्पीड़न का किया बचाव

कॉन्ग्रेस समर्थक साकेत गोखले ने एक बार फिर से फेक न्यूज फैलाने का काम किया है। गोखले ने बेबुनियाद ट्वीट्स की सीरीज में आरोप लगाया कि भाजपा ने महाराष्ट्र में अपने पार्टी कार्यालय में 4.75 करोड़ रुपए की रेमडेसिविर (Remdesivir) की जमाखोरी की है।

दूसरी लहर सँभल नहीं रही, ठाकरे सरकार कर रही तीसरी की तैयारी: महाराष्ट्र के युवराज ने बताया सरकार का फ्यूचर प्लान

महाराष्ट्र के अस्पतालों में न सिर्फ बेड्स, बल्कि वेंटिलेटर्स और ऑक्सीजन की भी भारी कमी है। दवाएँ नहीं मिल रहीं। ऑक्सीजन और मेडिकल सप्लाइज की उपलब्धता के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भारतीय सेना से मदद के लिए गुहार लगाई है।

10 ऑक्सीजन निर्माण संयंत्र, हर जिले में क्वारंटीन केंद्र, बढ़ती टेस्टिंग: कोविड से लड़ने के लिए योगी सरकार की पूरी रणनीति

राज्य के बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए सरकार रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और बस स्टैन्ड पर ही एंटीजेन और RT-PCR टेस्ट की व्यवस्था कर रही है। यदि किसी व्यक्ति में कोविड-19 के लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे क्वारंटीन केंद्रों में रखा जाएगा।

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।

Remdesivir का जो है सप्लायर, उसी को महाराष्ट्र पुलिस ने कर लिया अरेस्ट: देवेंद्र फडणवीस ने बताई पूरी बात

डीसीपी मंजूनाथ सिंगे ने कहा कि पुलिस ने किसी भी रेमडेसिविर सप्लायर को गिरफ्तार नहीं किया है बल्कि उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, क्योंकि...

‘पंडित मुक्त’ गाँव वाला वीडियो वायरल होने के बाद भाजपा नेता सुहैल पाशा ने दिया पार्टी से इस्तीफा

हिंदू विरोधी वीडियो वायरल होने के बाद उत्तराखंड के देहरादून से भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व जिलाध्यक्ष सुहैल पाशा ने पार्टी से...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,227FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe