Tuesday, July 27, 2021
Homeविचारराजनैतिक मुद्देकेजरीवाल की सरकार, महामारी में भी नहीं आई बाज: ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट से वेंटिलेटर...

केजरीवाल की सरकार, महामारी में भी नहीं आई बाज: ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट से वेंटिलेटर पर AAP 

दिल्ली सरकार और उसमें बैठे लोगों का आचरण वैसे तो आश्चर्यचकित नहीं करता पर फिर भी यह आशा बनी रहती है कि ये नेता महामारी काल में अपने आम आचरण से बाज आएँगे। ऐसे में जो कुछ हुआ वह किसी भी भारतीय के लिए निराशाजनक होगा।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त की गई ऑक्सीजन ऑडिट कमिटी ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की जरूरत और कमी सम्बंधित अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली सरकार ने अप्रैल और मई के महीने में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान केंद्र सरकार से ऑक्सीजन की जो माँग की थी वह आवश्यकता की चार गुने अधिक थी। अप्रैल और मई के दौरान दिल्ली के कुछ अस्पतालों ने ऑक्सीजन की लगातार कमी की बात दोहराते हुए यह सूचना भी दी थी कि ऑक्सीजन की कमी के चलते कई अस्पतालों में कोरोना संक्रमित रोगियों की मृत्यु हो गई थी।

ऑक्सीजन की आवश्यकता से अधिक दिल्ली सरकार की लगातार माँग के कारण उसके और केंद्र सरकार के बीच तनाव की स्थिति बन गई थी और मामला पहले दिल्ली हाई कोर्ट में पहुँच गया था। कोर्ट के हस्तक्षेप के पश्चात केंद्र सरकार को अन्य राज्यों के कोटे की गैस दिल्ली को देनी पड़ी थी। रिपोर्ट के अनुसार जब दिल्ली को 300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता थी तब दिल्ली की सरकार ने अपनी माँग बढ़ाकर 1200 मीट्रिक टन कर दिया था।

रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि दिल्ली सरकार के इस माँग की वजह से 12 अन्य राज्यों के ऑक्सीजन का कोटा कम कर दिल्ली को ऑक्सीजन दिया गया, जिसके कारण अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमित रोगियों की जान को खतरा उत्पन्न हुआ होगा। यह रिपोर्ट दिल्ली सरकार की नाकामियों और अव्यवस्थाओं का चिट्ठा है। रिपोर्ट के अनुसार 13 मई के दिन अस्पतालों के सामने खड़े टैंकरों को इसलिए खाली नहीं किया जा सका क्योंकि अस्पतालों के ऑक्सीजन टैंक 75 प्रतिशत तक भरे हुए थे।

दिल्ली सरकार की रिपोर्ट के अनुसार अस्पतालों में ऑक्सीजन की खपत 1140 मीट्रिक टन थी। पर जाँच में पाया गया कि तब खपत मात्र 209 मीट्रिक टन थी। रिपोर्ट में इस तरह की तमाम और अनियमितताओं की बात की गई है। साथ ही रिपोर्ट में कमेटी ने सलाह भी दी है ताकि भविष्य में ऐसी स्थिति उत्पन्न न हो। 

कमेटी की रिपोर्ट हमें अनुमान लगाने का एक आधार देती है। यह अनुमान कि दिल्ली की सरकार के काम करने का तरीका कैसा है। वैसे तो दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान ही हमें इस बात की एक झलक मिल गई थी कि सरकार ने कोरोना संक्रमण के दौरान कैसा काम किया है, पर यह रिपोर्ट इस सोच को और पुख्ता करती है कि दिल्ली सरकार में बैठे लोग एक महामारी के दौरान भी कैसा आचरण करते हैं।

जिस तरह की बातें दिल्ली के मुख्यमंत्री, बाकी मंत्रियों और आम आदमी पार्टी (AAP) के नेताओं द्वारा कही गई, वह जिम्मेदारी के प्रति सरकार में बैठे लोगों की गंभीरता को दर्शाती हैं। सबसे अधिक निराश सरकार के मुखिया अरविन्द केजरीवाल ने किया जिन्होंने इस बात की जरा भी चिंता नहीं की कि महामारी काल आम समय नहीं होता। उनके अलावा पार्टी के राज्यसभा सदस्य और और मंत्रियों ने बात-बात पर केंद्र सरकार पर आरोप लगाए और साबित किया कि वे अपनी जिम्मेदारियों के प्रति कितने गंभीर हैं। 

दिल्ली सरकार और उसमें बैठे लोगों का आचरण वैसे तो आश्चर्यचकित नहीं करता पर फिर भी यह आशा बनी रहती है कि ये नेता महामारी काल में अपने आम आचरण से बाज आएँगे। ऐसे में जो कुछ हुआ वह किसी भी भारतीय के लिए निराशाजनक होगा। कभी-कभी यह लगता है कि बिना सोचे-समझे सार्वजनिक मंचों पर कुछ भी कहा जा सकता है, इन नेताओं के ऐसी सोच का आधार क्या होता होगा?

जब से कोरोना संक्रमण भारत में आया है, दिल्ली सरकार का आचरण दर्जनों बार निराशाजनक रहा है। लॉकडाउन के शुरूआती दिनों में प्रवासी मज़दूरों को दिल्ली से भगाने के प्लान से लेकर ऑक्सीजन की ऐसी अनुचित माँग और सिंगापुर वैरिएंट को लेकर बयान तक, ऐसे कई मौके आए जब सरकार में बैठे लोगों ने गैर जिम्मेदारीपूर्ण आचरण किया। 

अब देखना यह है कि इस रिपोर्ट के बाद न्यायालय दिल्ली सरकार से कैसे सवाल करती है। अभी तक सरकार में बैठे लोगों ने कभी सवाल का सामना नहीं किया है। सवाल पूछे जाने पर अभी तक ये उसे टालते आए हैं पर अभी तक अक्सर ये सवाल केंद्र सरकार या भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और समर्थकों की ओर से उठाए गए हैं। मीडिया, पत्रकार और संपादक वैसे भी केजरीवाल सरकार और उसके नेताओं से सवाल नहीं पूछते। अब शायद पहली बार न्यायालय की ओर से सवाल उठ सकता है। जब ऐसा होगा तब दिल्ली की सरकार का जवाब जानना दिलचस्प रहेगा। पर अंत में प्रश्न वही है; सरकार में बैठे लोग सवालों का जवाब देंगे या सवालों का सवाल।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe