Saturday, June 12, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे प्रोपेगेंडा का यह पाप भारी: टूलकिट से पल्ला झाड़ना कॉन्ग्रेस के लिए मुमकिन नहीं,...

प्रोपेगेंडा का यह पाप भारी: टूलकिट से पल्ला झाड़ना कॉन्ग्रेस के लिए मुमकिन नहीं, इकोसिस्टम से बाहर नहीं चलेगा ‘फेक’ वाला जुमला

कॉन्ग्रेस भले इस टूलकिट को फेक बताए, शिकायत करे, पर सच्चाई यही है कि वह सवालों के ऐसे भँवर में है जिससे निकलना शायद ही उसके बूते में है।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक टूलकिट (ToolKit) जारी किया। बताया कि इसे कॉन्ग्रेस पार्टी ने तैयार किया ताकि कोरोना की दूसरी लहर में योजनाबद्ध तरीके से नरेंद्र मोदी, उनकी सरकार और प्रदेशों में बीजेपी सरकारों के विरुद्ध झूठा प्रचार चलाकर उन्हें बदनाम किया जा सके। कॉन्ग्रेस की ओर से वक्तव्य आया कि इस टूलकिट से उसका कोई सम्बंध नहीं है।

कॉन्ग्रेस की प्रतिक्रिया अपेक्षा के अनुरूप ही है। एक लोकतांत्रिक देश में हर राजनीतिक दल से एक न्यूनतम सार्वजनिक व्यवहार की अपेक्षा होती है, इसलिए विपक्ष में बैठा कोई दल यह स्वीकार नहीं करेगा कि उसने सरकार और उसके नेता के विरुद्ध ऐसी साजिश रची।

कॉन्ग्रेस की ओर से आया यह वक्तव्य तब और भी अपेक्षित लगता है जब सरकार के नेता नरेंद्र मोदी हों क्योंकि मोदी की कथित घटती लोकप्रियता अभी तक केवल सोशल मीडिया विमर्श का ही हिस्सा रही है और इसे लेकर किसी तरह का हालिया सर्वे प्रकाशित नहीं हुआ है। कोरोना की तीव्र दूसरी लहर के दौरान नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार की असफलता को लेकर परंपरागत मीडिया और सोशल मीडिया में दावे भले किए जा रहे हैं पर फिलहाल एक वृहद् परिप्रेक्ष्य में उन्हें अभी तक मात्र दावों के रूप में ही देखा जाएगा, ऐसे दावे जो समय-समय पर पहले भी किए जाते रहे हैं। ऐसे में कॉन्ग्रेस इस टूलकिट के साथ किसी भी तरह से दिखना नहीं चाहेगी।

टूलकिट को लेकर बीजेपी, कॉन्ग्रेस और इन दलों के समर्थकों की प्रतिक्रियाएँ और काफी हद तक सोशल मीडिया में चल रहा शोर भी अपेक्षा के अनुरूप है। जैसा मैंने लिखा, कॉन्ग्रेस सार्वजनिक तौर पर यह नहीं चाहेगी कि इस टूलकिट से उसका किसी भी तरह का सम्बंध साबित हो। दूसरी ओर बीजेपी यही चाहेगी कि ऐसे सबूत पेश किए जाएँ जो साबित कर दें कि इसका सम्बंध कॉन्ग्रेस से है। राजनीतिक विमर्श में यह विषय अगले कई दिनों तक छाया रहेगा। इस पर तर्क, वितर्क और कुतर्क देखने को मिलेंगे जो लोकतांत्रिक राजनीति का हिस्सा हैं।

इस टूलकिट में क्या-क्या लिखा है यह राजनीतिक विमर्शों में सक्रिय रहने वालों को पता है। लिहाजा उन्हें यहाँ दोहराने की आवश्यकता नहीं है। पर इस टूलकिट की सच्चाई क्या है, शायद इस प्रश्न का उत्तर निकट भविष्य में पता न चल सके। कॉन्ग्रेस पार्टी उसे बदनाम करने और इसके खुद के साथ जोड़ने को लेकर बीजेपी के विरुद्ध शिकायत कर चुकी है। लेकिन क्या इतना करना काफी होगा? क्या एक ​शिकायत पार्टी को इस टूलकिट के खुलासे से पैदा होने वाले विमर्श से अलग कर सकेगी? मेरे विचार से लंबे समय तक प्रश्नों से खुद को दूर रखने वाली कॉन्ग्रेस पार्टी और उसके नेताओं के लिए ऐसा संभव न हो सकेगा।

इस टूलकिट के सम्बंध में प्रश्न पूछे जाएँगे। कॉन्ग्रेस पार्टी उन प्रश्नों का उत्तर दे या न दे पर वह इनसे अपना पल्ला नहीं झाड़ सकेगी क्योंकि वर्तमान समय महत्वपूर्ण है जब यह खुलासा हुआ है। यह टूलकिट भीषण महामारी से जूझ रहे भारतवर्ष में कॉन्ग्रेस पार्टी, उसकी सहयोगी मीडिया, उसके पाले वाले बुद्धिजीवी और उसके बनाए इकोसिस्टम के आचरण के बारे में है। पिछले कई वर्षों में राहुल गाँधी की राजनीतिक जवाबदेही देखी नहीं गई, न तो उनकी पार्टी के सामने और न ही भारतवर्ष की जनता के सामने।

उनकी राजनीति अभी तक अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों के साथ वीडियो में कठिन दर्शन झाड़ने, मेहनत करके इकट्ठा की गई भीड़ के सामने मानलॉग डिलिवर करने और ठोस प्रश्नों पर चुप रहने पर निर्भर रही है। पर उनकी यह रणनीति तभी तक चल सकती है जब तक बात उनकी पार्टी के प्रति उनकी जवाबदेही की हो रही है। वे ऐसा राजनीतिक आचरण तभी तक अफोर्ड कर सकते हैं जब तक वे अपने दल से मुखातिब हैं। पर जब बात भारतवर्ष के लोकतंत्र और अन्य दलों को लेकर होगी, उनका यह आचरण मान्य नहीं होगा।

इस टूलकिट के आधार पर प्रश्न पूछा जाएगा कि उसमें जो कुछ लिखा गया है वैसा हुआ या नहीं? दल ने इस टूलकिट में वर्णित योजना के अनुसार अपने इकोसिस्टम के जिस किसी जिस शाखा से जो करने के लिए कहा, उसने वैसा किया या नहीं? सरकार के खिलाफ प्रोपेगेंडा के जिन स्वरूपों का वर्णन इस टूलकिट में है वैसा ही प्रोपेगेंडा हुआ या नहीं? इकोसिस्टम से पार्टी ने जो अपेक्षा रखी, उसने अपना वह किरदार निभाया या नहीं? ये सारे प्रश्न पूछे जाएँगे और चूँकि इस बार एक ऐसी टूलकिट लीक हुई है जिसे बनाने वाले और उसके क्रियान्वयन की ज़िम्मेदारी लेने वाले देसी हैं, कॉन्ग्रेस पार्टी और उसके नेतृत्व के लिए इससे खुद को अलग कर पाना लगभग असंभव होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शर्म आनी चाहिए 370 पर इतना बड़ा झूठ बोलते हुए…’: दिग्विजय सिंह को कश्मीरी एक्टिविस्ट डॉ अग्निशेखर ने लताड़ा

डॉ अग्रनिशेखर ने दिग्विजय सिंह की निंदा की। साथ ही अपनी व तमाम कश्मीरी पंडितों की ओर कॉन्ग्रेसी नेता के बयान का खंडन कर इसे बिलकुल गलत बताया।

‘राजस्थान में गहलोत सरकार करा रही पायलट खेमे के विधायकों की फोन टैपिंग और जासूसी’: MLA वेद प्रकाश सोलंकी

सोलंकी ने कहा कि इस मामले के सामने आने के बाद विधायकों में दहशत है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए ये सब ठीक नहीं है।

‘आग लगाओ आग’: मेवात में जुनैद की मौत के बाद भीड़ ने किया पुलिस पर हमला; लाठी-डंडे-पत्थर फेंकने के बाद लगाई आग

“मेवात में आज जुनैद के मौत के बाद पुलिस वालों को शांतिदूतों ने मारा पीटा थाने को आग के हवाले कर दिया पुलिस की गाड़ियों को तोड़ा फोड़ा गया।”

‘किसान’ आंदोलन में गैंगरेप, बात दबाने के लिए शव यात्रा: 2 महिलाओं ने भी नहीं की पीड़िता की मदद

गैंगरेप की बात को लेकर 'किसान' आंदोलन में महिलाओं ने भी पीड़िता को धोखा दिया। उन्होंने पीड़िता की आपबीती का वीडियो बनाकर...

न जॉब रही, न कार्टून बिक रहे… अब PM मोदी को कोस रहे: ट्विटर के मेल के सहारे वामपंथी मीडिया का प्रपंच

मंजुल के सहयोगी ने बताया कि मंजुल अपने इस गलत फैसले के लिए बाहरी कारणों को दोष दे रहे हैं और आशा है कि जो पब्लिसिटी उन्हें मिली है उससे अब वो ज्यादा पैसे कमा रहे होंगे।

UP के ‘ऑपरेशन’ क्लीन में अतीक गैंग की ₹46 करोड़ की संपत्ति कुर्क, 1 साल में ₹2000 करोड़ की अवैध प्रॉपर्टी पर हुई कार्रवाई

पिछले 1 हफ्ते में अतीक गैंग के सदस्यों की 46 करोड़ रुपए की संपत्ति कुर्क की गई और अब आगे 22 सदस्य ऐसे हैं जिनकी कुंडली प्रयागराज पुलिस लगातार खंगाल रही है।

प्रचलित ख़बरें

सस्पेंड हुआ था सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट, लिबरलों ने फिर से करवाया रिस्टोर: दूसरों के अकाउंट करवाते थे सस्पेंड

जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है, वो उस गड्ढे में खुद गिरता है। सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट @TeamSaath के साथ यही हुआ।

सुशांत ड्रग एडिक्ट था, सुसाइड से मोदी सरकार ने बॉलीवुड को ठिकाने लगाया: आतिश तासीर की नई स्क्रिप्ट, ‘खान’ के घटते स्टारडम पर भी...

बॉलीवुड के तीनों खान-सलमान, शाहरुख और आमिर के पतन के पीछे कौन? मोदी सरकार। लेख लिखकर बताया गया है।

‘तुम्हारी लड़कियों को फँसा कर रोज… ‘: ‘भीम आर्मी’ के कार्यकर्ता का ऑडियो वायरल, पंडितों-ठाकुरों को मारने का दावा

'भीम आर्मी' के दीपू कुमार ने कहा कि उसने कई ब्राह्मण और राजपूत लड़कियों का बलात्कार किया है और पंडितों और ठाकुरों को मौत के घाट उतारा है।

नुसरत जहाँ की बेबी बंप की तस्वीर आई सामने, यश दासगुप्ता के साथ रोमांटिक फोटो भी वायरल

नुसरत जहाँ की एक तस्वीर सामने आई है, जिसमें उनकी बेबी बंप साफ दिख रहा है। उनके पति निखिल जैन पहले ही कह चुके हैं कि यह उनका बच्चा नहीं है।

‘भाईजान’ के साथ निकाह से इनकार, बॉयफ्रेंड संग रहना चाहती थी समन अब्बास, अब खेत में दफन? – चचेरा भाई गिरफ्तार

तथाकथित ऑनर किलिंग में समन अब्बास के परिवार वालों ने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और उसके शव को खेत में दफन कर दिया?

11 साल से रहमान से साथ रह रही थी गायब हुई लड़की, परिवार या आस-पड़ोस में किसी को भनक तक नहीं: केरल की घटना

रहमान ने कुछ ऐसा तिकड़म आजमाया कि सजीथा को पूरे 11 साल घर में भी रख लिया और परिवार या आस-पड़ोस तक में भी किसी को भनक तक न लगी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,396FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe