Tuesday, December 1, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे मोदी इंटरव्यू के दौरान कपड़े फाड़कर 'पछड़ा-पछड़ी' करना चाहते हैं रवीश, उन्हें पागल होना...

मोदी इंटरव्यू के दौरान कपड़े फाड़कर ‘पछड़ा-पछड़ी’ करना चाहते हैं रवीश, उन्हें पागल होना है

दरअसल, रवीश कुमार प्रधानमंत्री मोदी से बहस करना चाहते हैं, उनसे इंटरव्यू नहीं लेना चाहते। असल में बहस भी नहीं करना चाहते, वो पीएम मोदी से 'पछड़ा-पछड़ी' करना चाहते हैं। शायद ही किसी मीडिया हाउस या पत्रकार ने पीएम से राफेल को लेकर सवाल न पूछे हों। फिर, रवीश की कुंठा का कारण क्या है?

रवीश कुमार का परिचय देते हुए ये नहीं लिखूँगा कि वह ‘ये हैं, वो हैं’ या फिर ‘उनकी फलाँ उपलब्धियाँ हैं’ और उन्हें उनके स्तर की याद भी नहीं दिलाऊँगा क्योंकि ऐसा बहुतों बार हो चुका है। हमारा मानना है कि अगर किसी व्यक्ति को ख़ुद इस बात की कोई परवाह नहीं है कि वो क्या कर रहा है, कहाँ बैठा है और वह जो भी कर रहा है, वो उसके अनुरूप है या नहीं जहाँ वह बैठा हुआ है, तो फिर याद दिलाने से क्या फ़ायदा?

बार-बार याद दिलाने से क्या फ़ायदा? नॉन-पोलिटिकल प्राइम टाइम हो या टीवी की स्क्रीन काली कर देना, रवीश ने पत्रकारिता में हर वो बाहरी चीजें ठूँसनी चाही, जिसका न पत्रकारिता से कोई लेना-देना है और न ही पत्रकारिता के मानदंडों से। जब वह अपोलोटिकल प्राइम टाइम में बोल रहे थे तो यूँ लग रहा था जैसे डिस्कवरी का कोई जानवरों वाला कॉमेडी शो चल रहा हो। ख़ैर, रवीश कुमार के मन को पढ़ कर जानने की कोशिश करते हैं कि उनकी इच्छा क्या है?

रवीश की कुंठा का कारण क्या है?

रवीश कुमार के मन में ये बात साफ़-साफ़ झलक रही थी कि वो इस बात से ख़ासे दुःखी हैं कि प्रधानमंत्री उन्हें इंटरव्यू नहीं देते। वो इस बात को ‘प्रधानमंत्री रवीश से डरते हैं’ वाला नैरेटिव बनाकर प्रचारित करना चाहते हैं ताकि जनता भी प्रधानमंत्री पर दबाव डालते हुए कहे कि आप रवीश को इंटरव्यू दो। अफ़सोस यह कि वायर, क्विंट और स्क्रॉल के पत्रकारों के अलावा कोई और उनके इस आंदोलन में शामिल नहीं हो रहा।

जिस तरह उन्होंने अपने प्राइम टाइम में कहा कि किसी ने मोदी जी को कुमार को इंटरव्यू देने को कहा तो वो अक्षय कुमार को दे आए, उससे उनका दर्द साफ़-साफ़ झलक रहा था। आख़िर झलके भी क्यों न, रवीश अपने प्राइम टाइम में एक्टिंग कर रहे हैं और एक्टिंग इंडस्ट्री को इस बात से दुःख पहुँचा होगा। शायद अक्षय कुमार ने इसी दुःख से ग्रसित होकर प्रधानमंत्री का इंटरव्यू लिया और साबित कर दिया कि अगर पत्रकार अच्छी एक्टिंग कर सकते हैं तो उनके जैसे एक्टर भी अच्छी पत्रकारिता करके दिखा सकते हैं।

मैं रवीश कुमार के शहर से हूँ। उसी शहर से जहाँ उनका जन्म हुआ था। उनके और मेरे घर की दूरी 20-30 किलोमीटर से ज्यादा नहीं होगी। हमारे यहाँ से लड़के अक्सर उनसे मिलने आते रहते हैं। एनडीटीवी स्टूडियो में मोतिहारी से आनेवाले लोगों का स्वागत भी किया जाता है और रवीश उनसे मिलने के लिए समय देते हैं, इसमें कोई शक नहीं। लेकिन, इससे रवीश का भी फ़ायदा होता है क्योंकि बिहार के किसी कोने में अगर किसी प्राथमिक सरकारी विद्यालय में दूसरी कक्षा की परीक्षा में 3 दिन की देरी हुई है, तो उन्हें पता चल जाता है। फिर क्या, इसपर आधे घंटे का एक प्राइम टाइम तो हो ही सकता है

और हाँ, एनडीटीवी पर आने वाले ऐडवर्टाइज़मेंट को भी ले लें तो एक-डेढ़ घंटे का शो तो यूँ ही बन जाता है। रवीश कुमार के शहर से, उसी मिट्टी से होने के कारण मैनें बहुत हद तक उनके मन को पढ़ लिया है और मैंने जो भी अनुभव किया वो आपसे शेयर करना चाहूँगा। ठहरिए, ये मज़ाक नहीं है, इसे सटायर न समझें।

दरअसल, रवीश कुमार प्रधानमंत्री मोदी से बहस करना चाहते हैं, उनसे इंटरव्यू नहीं लेना चाहते। असल में बहस भी नहीं करना चाहते, वो पीएम मोदी से ‘पछड़ा-पछड़ी’ करना चाहते हैं। इसे लालूकाल की गुंडागर्दी का प्रभाव कहिए या फिर नक्सलियों के ख़िलाफ़ हथियार उठाने वाले एकमात्र समाज का गरम दिमाग, बिहार में मसलों को पछड़ा-पछड़ी कर सुलझाने की बात आम रही है। रवीश कुमार और मैं एक ही इलाके से हैं, इसीलिए इस बात को बख़ूबी समझते हैं।

हालाँकि, मुझे पढ़ाई करने के लिए मुझे 12वीं से पहले शहर से बाहर निकलने का अवसर नहीं मिला, मुझे गर्व है कि रवीश उस ज़माने में भी बाहर निकलने मे सफ़ल रहे। मेरी शिक्षा-दीक्षा उनकी तरह पटना के किसी कैथोलिक प्राइवेट स्कूल में नहीं हुई है। बचपन में बड़े-बड़े कैथोलिक स्कूलों में पढ़ने का अवसर अगर मिला होता तो शायद मैं भी उस ऊँचाई पर पहुँचने का स्वप्न देखता, जहाँ आज यह खड़े हैं। लेकिन माफ़ कीजिए, वो दिल्ली के मुख्यमंत्री कहते हैं न, ‘हम तो छोटे लोग हैं जी!’

रवीश को ‘पछड़ा-पछड़ी’ से वंचित न रखा जाए

वापस मोदी और उनके इंटरव्यू पर आते हैं। नरेंद्र मोदी ने न सिर्फ़ अक्षय कुमार ही नहीं बल्कि इस चुनाव से पहले कई मीडिया हाउस को इंटरव्यू दिया है। इस साल की शुरुआत ही एएनआई को दिए उनके इंटरव्यू से हुई थी। हाँ, वही एएनआई जिसके कंटेंट की ज़रूरत एनडीटीवी को भी पड़ती है। पीएम ने एबीपी न्यूज़ को भी इंटरव्यू दिया, उसमें उनसे साध्वी प्रज्ञा को लेकर भी सवाल पूछे गए, राफेल को लेकर सवाल दागे गए। शायद ही किसी मीडिया हाउस या पत्रकार ने पीएम से राफेल को लेकर सवाल न पूछे हों। फिर, रवीश की कुंठा का कारण क्या है? फिर वही बात, वो ‘पछड़ा-पछड़ी’ करना चाहते हैं। रवीश चाहते हैं कि वो राफेल पर मोदी से सवाल पूछें, पीएम जवाब दें, रवीश फिर काउंटर सवाल पूछें और फिर अंत में वही- “पछड़ा पछड़ी”। रवीश कुमार इस बात से दुःखी हैं कि मोदी और पत्रकारों की ‘पछड़ा-पछड़ी’ क्यों नहीं हो रही?

आख़िर मोदी का इंटरव्यू लेनेवाले पत्रकार ‘द वायर’ का रिफरेन्स देकर सवाल क्यों नहीं पूछ रहे? आख़िर मोदी जब जवाब देना शुरू करते हैं तो उन्हें बीच में क्यों नहीं टोका जा रहा है? आख़िर ये कैसी पत्रकारिता है जहाँ सामनेवाले को जवाब देने के लिए पूरा समय दिया जाए? आख़िर पत्रकार लाइव इंटरव्यू में स्टूडियो के भीतर ही ‘पछड़ा-पछड़ी’ क्यों नहीं कर रहे? रवीश कुमार चाहते हैं कि कोई पत्रकार लाइव इंटरव्यू के दौरान पीएम के जवाब के बाद टेबल पर एक करारा मुक्का मारे और अपनी कुर्सी को नीचे पटक डाले।

रवीश की इच्छा है कि मोदी का इंटरव्यू लेनेवाला पत्रकार उनके जवाब के दौरान अपने ही मुँह पर माइक दे मारे। कैमरा पटक दिया जाए, माइक फेक दी जाए, टेबल पर मुक्का मारा जाए, कुर्सी को लताड़ दिया जाए और फिर पत्रकार नाचते हुए पागलों जैसी हरकत करने लगे। तब होगा ‘कठिन सवाल’, जिसे हम ‘Tough Questions’ भी कहते हैं। रवीश कुमार पूरे भारत के सामने एक नेशनल टीवी पर पागल होना चाहते हैं, वो भी प्रधानमंत्री मोदी का इंटरव्यू लेने के दौरान।

रवीश को उनके पागलपन से वंचित किया जा रहा है। उन्हें खुलकर पागल नहीं होने दिया जा रहा। उन्हें पगलई करने दिया जाए, पीएम से अपील की जाए कि सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाकर एक इंटरव्यू रवीश कुमार को दे ही दी जाए। उन्हें भरे स्टूडियो में नाचने-गाने, तांडव करने और अपने कपडे फाड़ डालने की अनुमति दी जाए। उनकी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा को यूँ न दबाया जाए। रवीश कुमार पीएम मोदी से इंटरव्यू लेकर दुनिया को अपनी अपनी ‘कठिन सवालों वाली’ पत्रकारिता दिखाना चाहते हैं।

भाजपा और मोदी समझ नहीं रहे, रवीश घंटेभर के लिए पागल होना चाहते हैं, अपना कोट फाड़कर ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाना चाहते हैं क्योंकि बाकी पत्रकार इंटरव्यू में बस सवाल पूछ रहे हैं। अरे ये पत्रकारिता थोड़े ही है? पत्रकारिता है पागल हो जाना, कपड़ा फाड़ कर नाचना। उनका पड़ोसी होने के कारण मैंने अपना कर्त्तव्य निभाते हुए दुनिया को उनकी कुंठा से अवगत कराया है,अब ज़िम्मेदारी आपकी है कि उनकी व्यथा दूर की जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन देने वाला अधिकारी हटाया गया, CM रावत ने कहा- कठोरता से करेंगे कार्रवाई

उत्तराखंड सरकार ने टिहरी गढ़वाल में समाज कल्याण विभाग द्वारा अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन का आदेश जारी करने वाले समाज कल्याण अधिकारी को पद से हटाने का आदेश जारी किया है।

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

भीम-मीम पहुँच गए किसान आंदोलन में… चंद्रशेखर ‘रावण’ और शाहीन बाग की बिलकिस दादी का भी समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए कृषि सुधार कानूनों को लेकर जारी किसानों के 'विरोध प्रदर्शन' में धीरे-धीरे वह सभी लोग साथ आ रहे, जो...

‘गलत सूचनाओं के आधार पर की गई टिप्पणी’: ‘किसान आंदोलन’ पर कनाडा के PM ने जताई चिंता तो भारत ने दी नसीहत

जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि स्थिति चिंताजनक है और कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन का समर्थन करता है और वो इस खबर को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते।

हिंदुओं और PM मोदी से नफरत ने प्रतीक सिन्हा को बनाया प्रोपगेंडाबाज: 2004 की तस्वीर शेयर करके 2016 में उठाए सवाल

फैक्ट चेक के नाम पर प्रतीक सिन्हा दुनिया को क्या परोस रहे हैं, इसका खुलासा @befittigfacts नाम के सक्रिय ट्विटर यूजर ने अपने ट्वीट में किया है।

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

प्रचलित ख़बरें

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

‘बीवी सेक्स से मना नहीं कर सकती’: इस्लाम में वैवाहिक रेप और यौन गुलामी जायज, मौलवी शब्बीर का Video वायरल

सोशल मीडिया में कनाडा के इमाम शब्बीर अली का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इस्लाम का हवाला देते हुए वह वैवाहिक रेप को सही ठहराते हुए देखा जा सकता है।

अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन देने वाला अधिकारी हटाया गया, CM रावत ने कहा- कठोरता से करेंगे कार्रवाई

उत्तराखंड सरकार ने टिहरी गढ़वाल में समाज कल्याण विभाग द्वारा अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन का आदेश जारी करने वाले समाज कल्याण अधिकारी को पद से हटाने का आदेश जारी किया है।

दिल्ली में आंदोलन के बीच महाराष्ट्र के किसानों ने नए कृषि कानूनों की मदद से ₹10 करोड़ कमाए: जानें कैसे

महाराष्ट्र में किसान उत्पादक कंपनियों (FPCs) की अम्ब्रेला संस्था MahaFPC के अनुसार, चार जिलों में FPCs ने तीन महीने पहले पारित हुए कानूनों के बाद मंडियों के बाहर व्यापार से लगभग 10 करोड़ रुपए कमाए हैं।

बाइडन-हैरिस ने ओबामा के साथ काम करने वाले माजू को बनाया टीम का खास हिस्सा, कई अन्य भारतीयों को भी अहम जिम्मेदारी

वर्गीज ने इन चुनावों में बाइडन-हैरिस के कैंपेन में चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर की जिम्मेदारी संभाली थी और वह पूर्व उप राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार भी रह चुके हैं।

‘किसान आंदोलन’ के बीच एक्टिव हुआ Pak, पंजाब के रास्ते आतंकी हमले के लिए चीन ने ISI को दिए ड्रोन्स’: ख़ुफ़िया रिपोर्ट

अब चीन ने पाकिस्तान को अपने ड्रोन्स मुहैया कराने शुरू कर दिए हैं, ताकि उनका इस्तेमाल कर के पंजाब के रास्ते भारत में दहशत फैलाने की सामग्री भेजी जा सके।

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

भीम-मीम पहुँच गए किसान आंदोलन में… चंद्रशेखर ‘रावण’ और शाहीन बाग की बिलकिस दादी का भी समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए कृषि सुधार कानूनों को लेकर जारी किसानों के 'विरोध प्रदर्शन' में धीरे-धीरे वह सभी लोग साथ आ रहे, जो...

‘गलत सूचनाओं के आधार पर की गई टिप्पणी’: ‘किसान आंदोलन’ पर कनाडा के PM ने जताई चिंता तो भारत ने दी नसीहत

जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि स्थिति चिंताजनक है और कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन का समर्थन करता है और वो इस खबर को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते।
00:14:07

कावर झील पक्षी विहार या किसानों के लिए दुर्भाग्य? Kavar lake, Manjhaul, Begusarai

15000 एकड़ में फैली यह झील गोखुर झील है, जिसकी आकृति बरसात के दिनों में बढ़ जाती है जबकि गर्मियों में यह 3000-5000 एकड़ में सिमट कर...

शादी से 1 महीने पहले बताना होगा धर्म और आय का स्रोत: असम में महिला सशक्तिकरण के लिए नया कानून

असम सरकार ने कहा कि ये एकदम से 'लव जिहाद (ग्रूमिंग जिहाद)' के खिलाफ कानून नहीं होगा, ये सभी धर्मों के लिए एक समावेशी कानून होगा।

‘अजान महाआरती जितनी महत्वपूर्ण, प्रतियोगता करवा कर बच्चों को पुरस्कार’ – वीडियो वायरल होने पर पलट गई शिवसेना

अजान प्रतियोगिता में बच्चों को उनके उच्चारण, ध्वनि मॉड्यूलेशन और गायन के आधार पर पुरस्कार दिया जाएगा। पुरस्कारों के खर्च का वहन शिवसेना...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,494FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe