Tuesday, October 27, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे शाहीन बाग की इन औरतों का हंगामा और संविधान देने वाली उन 15 महिलाओं...

शाहीन बाग की इन औरतों का हंगामा और संविधान देने वाली उन 15 महिलाओं का हासिल

उन 15 महिलाओं ने संविधान के निर्माण में अपनी भूमिका इसलिए ही निभाई थी कि देश में अराजकता का माहौल न बनें। पहचान और मजहब के नाम पर शोरगुल न मचाया जाए। महिलाएँ सशक्त बनें न कि कठपुतली। इन कसौटियों पर शाहीन बाग की वे औरतें जिनकी डोर किसी और ने थाम रखी है, खरी नहीं उतरतीं।

एक महीने से ज्यादा वक्त से दिल्ली के शाहीन बाग में बैठी औरतों को सेक्युलर, संविधान बचाने वाली, महिला सशक्तिरण और न जाने कैसे-कैसे प्रतीकों के तौर पर स्थापित करने के लिए वामपंथी गिरोह ने तमाम घोड़े खोल रखे हैं। देश में जगह-जगह शाहीन बाग बनाने की कोशिशें भी हो रही हैं। लेकिन, वक्त-वक्त पर शाहीन बाग से ऐसी तस्वीरें, ऐसे वीडियो और ऐसे नारे सामने आ ही जाते हैं जो इनके प्रपंच की पोल खोल देते हैं। शाहीनबाग प्रदर्शन के मास्टरमाइंड बताए जा रहे शरजील इमाम पर तो देशद्रोह का मुकदमा तक दर्ज हो चुका है। असम को भारत से काटने की धमकी दे रहे शरजील से अब शाहीन बाग पल्ला झाड़ने की कोशिश कर रहा है। लेकिन, फेहरिस्त इतनी लंबी है कि दाग शायद ही धुले।

सो, संविधान के आईने में इन महिलाओं को देखने के लिए 26 जनवरी से बेहतर दिन शायद ही कोई हो। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या ये औरतें उसी रास्ते पर हैं, जिसका सपना उन 15 महिलाओं ने देखा था जिन्होंने संविधान बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यकीनन, नहीं। क्योंकि उन 15 महिलाओं ने संविधान के निर्माण में अपनी भूमिका इसलिए ही निभाई थी कि देश में अराजकता का माहौल न बनें। पहचान और मजहब के नाम पर शोरगुल न मचाया जाए। महिलाएँ सशक्त बनें न कि कठपुतली। इन कसौटियों पर शाहीन बाग की वे औरतें जिनकी डोर किसी और ने थाम रखी है, खरी नहीं उतरतीं।

पितृसत्ता को तोड़कर देश की आवाज़ बनने वाली उन 15 महिलाओं ने बताया था कि सशक्तिरण और कट्टरपंथ के बीच का फर्क क्या होता है। 389 सदस्यीय संविधान सभा में इन महिलाओं की संख्या आँकड़ों के लिहाज से काफी कम यानी 15 ही था। लेकिन, उनकी आवाज आज भी महसूस की जाती है। संविधान का मसौदा तैयार करने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। इनमें एक मुस्लिम भी थीं।

संविधान सभा की एक मात्र मुस्लिम महिला सदस्य बेगम एजाज रसूल महिला सशक्तिरण की अनूठी मिसाल थीं। मुस्लिम लीग का हिस्सा होने के बावजूद देश का साथ नहीं छोड़ा। 1950 में मुस्लिम लीग भंग होते ही कॉन्ग्रेस में शामिल हो गईं। साल 1952 में राज्यसभा के लिए चुनी गईं। 1969 से 1990 तक उत्तर प्रदेश विधानसभा की सदस्य रहीं। 1969 से 1971 के बीच वह सामाजिक कल्याण और अल्पसंख्यक मंत्री भी रहीं। समाज कल्याण में उनका योगदान इतना था कि साल 2000 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

बेगम एजाज के अलावा दक्षिणानी वेलायुद्ध भी संविधान सभा में एक ऐसी महिला सदस्य थीं जो उस दौर में पिछड़े समुदाय से उभर कर आगे आईं। इसी वर्ग के 70-75% (दलित, गरीब) प्रतिशत आबादी को नागरिकता संशोधन कानून के तहत नागरिकता मिलने वाली है। लेकिन शाहीन भाग की औरतों का विरोध देखकर लगता है कि वे इसके लिए राजी नहीं हैं। यही फर्क़ है संविधान बचाने वाली महिलाओं में और संविधान बनाने वाली महिलाओं में।

दक्षिणानी वेलायुद्ध का जन्म 4 जुलाई 1912 को कोचीन में बोल्गाटी द्वीप पर हुआ था। लेकिन आगे चलकर वे शोषित वर्गों की नेता बनीं। साल 1945 में, दक्षिणानी को कोचिन विधान परिषद में राज्य सरकार द्वारा नामित किया गया। वह साल 1946 में संविधान सभा के लिए चुनी गईं और पहली दलित नेता बनीं।

शाहीन बाग पर प्रदर्शन कर रही महिलाओं को आज देश की सबसे पुरानी पार्टी कॉन्ग्रेस का समर्थन है। उसी कॉन्ग्रेस का जिसकी नींव आजाद राष्ट्र के लिहाज रखी गई थी। लेकिन वही पार्टी जो भारत की आजादी के बाद ओछी राजनीति करने पर उतर आई । जिसका उद्देश्य आज केवल हिंदू-मुसलमान, ऊँच-नीच करवाना रह गया है।

एक समय में इसी पार्टी की मालती चौधरी, पूर्णिमा बनर्जी, कमला चौधरी, लीला रॉय, सरोजिनी नायडू, सुचेता कृपलानी, विजय लक्ष्मी पंडित, एनी मास्कारेन जैसी नेता संविधान सभा में शामिल थीं। संविधान का मसौदा तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इनके अलावा रेनूका रे, राजकुमारी अमृत कौर, हंसा जिवराज मेहता, दुर्गाबाई देशमुख और अम्मू स्वामीनाथन भी इसी सूची में शामिल हैं।

संविधान का मसौदा तैयार करने वाली उन महिलाओं की संक्षिप्त जानकारी, जिनका नाम इतिहास में कम ही पढ़ाया गया…
अम्मू स्वामीनाथन अम्मू स्वामीनाथन 1952 में तमिलनाडु के डिंडिगुल लोकसभा से चुनाव जीतकर संसद में पहुँचीं थीं। वे तमिलानाडु की तेज तर्रार गाँधीवादी नेताओं में शुमार थीं। छोटी उम्र से ही वे महिला अधिकारों की आवाज बनीं।
राजकुमारी अमृत कौर– संविधान सभा की सलाहकार समिति व मौलिक अधिकारों की उप समिति की सदस्य थीं। सभा में वह सेंट्रल प्राविंस व बेरार की प्रतिनिधि के तौर पर शामिल हुई थीं।
दुर्गाबाई देशमुख– दुर्गाबाई ने न सिर्फ देश को आजाद कराने बल्कि समाज में महिलाओं की स्थिति बदलने के लिए भी लडा़ई लडी़। भारत के दक्षिणी इलाकों में शिक्षा को बढा़वा देने के लिए इन्होंने ‘बालिका हिन्दी पाठशाला’ भी शुरू की। 12 साल की छोटी सी उम्र में वह असहयोग आंदोलन का हिस्सा बनीं। उन पर महात्मा गांधी का प्रभाव था। वकील होने के नाते उन्होंने संविधान के कानूनी पहलुओं में योगदान दिया।
हंसा मेहता– समाज सेविका व स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ ही कवयित्री व लेखिका भी थीं। वह 1946 में ऑल इंडिया वुमन कांफ्रेंस की अध्यक्ष भी रहीं थीं। वह संविधान सभा की मौलिक अधिकारों की उप समिति की सदस्य थीं। उन्हें संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार की सार्वभौमिक घोषणा में ‘ऑल मेन आर बॉर्न फ्री एंड इक्वल’ को बदलकर ‘ऑल ह्यूमन बीइंग आर बॉर्न फ्री एंड इक्वल’ करवाने के अभियान के लिए भी जाना जाता है। संविधान सभा में वह मुंबई के प्रतिनिधि के तौर पर शामिल हुई थीं।
मालती नवकृष्ण चौधरी भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महत्वपूर्ण अग्रदूतों में से एक थीं। उसने माना कि जीवन में उसका मिशन उड़ीसा के गरीब लोगों को शिक्षित करना था। मालती नवकृष्ण चौधरी अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों की दुर्दशा से चिंतित थीं। उन्होंने ओडिशा के गाँवों से गुजरते हुए अपनी पीड़ा का अनुभव किया था। उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीब लोगों को ज्ञान देने के लिए समर्पित कर दिया। वह गाँधीजी और टैगोर की पसंदीदा संतान थीं। प्रेम में से गांधीजी ने उन्हें “टोफनी” और टैगोर ने उन्हें “मीनू” कहा।
कमला चौधरी-लखनऊ के समृद्ध परिवार से आने वाली कमला चौधरी ने साल 1930 में गाँधी द्वारा शुरू की गई नागरिक अवज्ञा आंदोलन में सक्रियता से हिस्सा लिया| अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष बनीं और सत्तर के उत्तरार्ध में लोकसभा के सदस्य के रूप में चुनी गईं।
रेनूका रे-पद्मभूषण से सम्मानित रेणुका रे स्वतंत्रता-सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता के साथ दूसरी और तीसरी लोकसभा के सक्रिय सांसदों में थीं। लंदन स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स से शिक्षित रेणुका रे अपनी उच्च कोटि की सामाजिक आर्थिक समझ वाली सांसद के तौर पर याद की जाती हैं। 1959 में रेणुका रे की अगुवाई में समाज कल्याण और पिछड़ा वर्ग कल्याण के लिए एक समिति बनी। इस समिति की रिपोर्ट को रेणुका रे कमेटी के तौर पर जाना जाता है। इस समिति ने गृह मंत्रालय के अंतर्गत पिछड़ा वर्ग के लिए विभाग बनाने की सलाह दी।

सोचिए परिस्थियाँ कितनी अधिक बदल चुकी हैं। ये महिलाएँ थी, जिन्होंने अपनी शिक्षा और विवेक के बलबूते सामाजिक कुरीतियों को ध्वस्त किया और भारत को लोकतांत्रिक देश बनाने में योगदान दिया। एक शाहीन बाग पर बैठी महिलाएँ हैं, जिनका न विवेक उनके वश में है और न ही उनकी बुद्धि। वो खुले तौर पर शर्जील इमाम और ओवैसी जैसे इस्लामिक कट्टरपंथियों की कठपुतलियाँ बन चुकी हैं और इसी को वो आवाज़ उठाना बता रही हैं।

आज जिन महिलाओं को सशक्तिकरण का चेहरा बता पेश किया जा रहा है वे उस कानून को लेकर हंगामा कर रही हैं जिसका किसी भारतीय से कोई लेना-देना नहीं है। जिनकी डोर मजहब के ठेकेदारों के हाथ में है। जिनके नारे हिंदू विरोधी हैं। जो हलाला और माहवारी की उम्र होते ही निकाह कर देने की रवायत के खिलाफ आवाज नहीं उठाना चाहतीं। जो तीन तलाक की दरिंदगी से मुक्ति को अपने धर्म में दखल मान रहीं हैं। सोचिए!

26 जनवरी 1990: संविधान की रोशनी में डूब गया इस्लामिक आतंकवाद, भारत को जीतना ही था

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौसीफ बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौसीफ लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

प्रचलित ख़बरें

अपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौसीफ ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौसीफ ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।
- विज्ञापन -

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

महिलाओं की ही तरह अकेले पुरुष अभिभावकों को भी मिलेगी चाइल्ड केयर लीव: केंद्र सरकार का फैसला

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने घोषणा की है कि जो पुरुष सरकारी कर्मचारी हैं और बच्चे का पालन अकेले कर रहे हैं, उन्हें अब चाइल्डकेयर लीव दी जाएगी।

फेक TRP स्कैम में मुंबई पुलिस द्वारा गवाहों पर दबाव बनाने वाले ऑपइंडिया के ऑडियो टेप स्टोरी पर CBI ने दी प्रतिक्रिया

कॉल पर पड़ोसी से बात करते हुए व्यक्ति बेहद घबराया हुआ प्रतीत होता है और बार-बार कहता है कि 10-12 पुलिस वाले आए थे, अगर ऐसे ही आते रहे तो.....

हाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA के तहत 18 को घोषित किया आतंकी

सरकार द्वारा जारी इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी भी शामिल हैं। इसमें 26/11 मुंबई हमले में आरोपित आतंकी संगठन लश्कर का यूसुफ मुजम्मिल, लश्कर चीफ हाफिज सईद का बहनोई अब्दुर रहमान मक्की...

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में अब कोई भी खरीद सकेगा जमीन, नहीं छिनेगा बेटियों का हक़: मोदी सरकार का बड़ा फैसला

जम्मू-कश्मीर में अब देश का कोई भी व्यक्ति जमीन खरीद सकता है और वहाँ पर बस सकता है। गृह मंत्रालय द्वारा मंगलवार को इसके तहत नया नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

₹1.70 लाख करोड़ की गरीब कल्याण योजना से आत्मनिर्भर बन रहे रेहड़ी-पटरी वाले: PM मोदी ने यूपी के ठेले वालों से किया संवाद

पीएम 'स्वनिधि योजना' में ऋण आसानी से उपलब्ध है और समय से अदायगी करने पर ब्याज में 7% की छूट भी मिलेगी। अगर आप डिजिटल लेने-देन करेंगे तो एक महीने में 100 रुपए तक कैशबैक के तौर पर वापस पैसे आपके खाते में जमा होंगे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,349FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe